नाग पंचमी 2020- तिथि, मुहूर्त और महत्व

Posted On - July 17, 2020 | Posted By - Deepa | Read By -

 693 

नाग पंचमी 2020- तिथि, मुहूर्त और महत्व

नाग पंचमी नागों की पूजा और दूध चढ़ाने का पारंपरिक अवसर है। यह त्योहार हिंदू कैलेंडर के अनुसार श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को पड़ता है। भारत में लोग बड़े उत्साह के साथ नाग पंचमी मनाते हैं। प्रत्येक वर्ष यह त्यौहार जुलाई या अगस्त के महीने में आता है।

हिंदू संस्कृति और परंपरा के अनुसार इस दिन सांपों का पूजन होता है। यह त्यौहार हिंदू पौराणिक कथाओं में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है।

सांपों की कहानियों की हिंदू पौराणिक कथाओं में एक उल्लेखनीय भूमिका है और इनमे भगवान विष्णु का शेषनाग सबसे अधिक चर्चित है। भारत में, हर साल नाग पंचमी के त्योहार के दौरान लोग सांपों की पूजा करते हैं और उनके सम्मान में सांपों को दूध चढ़ाते हैं। इस दिन, लोग सर्प दोष दूर करने के लिए और अपनी परिवार की सुरक्षा के लिए सांपों को स्नान कराते हैं।

यह दिन भगवान शिव के भक्तों के लिए महत्वपूर्ण स्थान रखता है। श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित है और सर्प उनके जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका रखते हैं। नाग पंचमी पर लोग सांपों को फूल, चावल और दूध चढ़ाते हैं और उनके आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करते हैं।

नाग पंचमी का महत्व

हिंदू धर्म में सांपों का एक बड़ा महत्व है। लोक कथाओं में उल्लेख है, अगर नाग पंचमी के दिन कोई सांप घर में आता है तो यह बहुत शुभ होता है। हिंदू पौराणिक कथाओं में भी कहा गया है कि इस दिन खेतों की जुताई वर्जित है।

भारत में, सांपों से जुडी कथाओं और धारणाओं की अत्यधिक मान्यता हैं और सांपों के सम्मान में कई मंदिर भी हैं। देश भर में लोग सांपों को प्रसन्न करने के लिए कई तरह की पूजा करते हैं और अपने परिजनो की सलामती की दुआ करते हैं। इस दिन कई विशेष प्रकार का लोकगीत गाये जाते हैं। लोग सजावट के लिए हलदी, कुमकुम और फूलों का उपयोग करते हैं। सांपों की पूजा करने के लिए लोग दूध का चढ़ावा चढ़ाते हैं और साथ ही भगवान शंकर को भी भोग लगाया जाता है।

कुछ लोग इस त्यौहार को एक भव्य स्तर पर भी मानते हैं जहाँ वे पूजा के लिए पुजारियों को बुलाते हैं। पुजारी अनुष्ठान करते हैं और बदले में, लोग उनका आशीर्वाद लेते हैं और दक्षिणा देते हैं।

नाग पंचमी पर लोग सांपों को दूध क्यों चढ़ाते हैं?

हर साल लोग नागों की पूजा मूर्तियों को दूध चढ़ाते हैं। लोग इस अनुष्ठान को इस विश्वास के साथ करते हैं कि यह उन्हें और उनके परिवार को सभी प्रकार की बुरी ऊर्जाओं से बचाएगा। इस अनुष्ठान में लोग सर्पों को दिव्य देवताओं के रूप में पूजते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने की प्रार्थना करते हैं।

नाग पंचमी त्यौहार कथा

हिंदू पौराणिक कथाओं में नाग पंचमी की कई कहानियां हैं। कहानी में महाभारत की उत्पत्ति के बारे में बताया गया है, राजा परीक्षित के पुत्र जनमेजय अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए सर्प सत्र का आयोजन करते हैं।

लोगों का एक समूह हर सांप को आकर्षित करने वाली एक शक्तिशाली बलि की चिमनी बनाता है। सांपों का राजा, तक्षका चिमनी से बच जाता है और अपनी रक्षा के लिए भगवान इंद्र की दुनिया में पहुंचता है। ऋषि अपने उच्चारण का स्तर बढ़ाते हैं और मंत्रों का जाप करते हुए तक्षक को अग्नि कुंड तक खींचते हैं। शक्तिशाली मंत्रों के परिणामस्वरूप, इंद्र को तक्षक को अग्नि कुंड से बचने में विफल हो जाते हैं और तक्षक के साथ कुंड में खींच जाते हैं।

इससे देवताओं को चिंता होती है और वे साँपों की देवी मनसा देवी से मदद की गुहार लगाते हैं। इस पर, मनसा देवी अपनी स्वस्तिक भेजती हैं और वह जनमेजय को प्रभावित करती हैं। इससे प्रभावित जनमेजय ने सर्प सत्र को बंद कर दिया। नागपंचमी इसी घटना को याद करके ही मानते हैं और श्रद्धांजलि हैं। हिंदू पंचांग में, यह नवीवर्धिनी पंचमी का दिन है।

इस त्यौहार की एक और कहानी यह है कि भगवान कृष्ण युवा काल एक ऊंचे पेड़ पर चिपकी हुई गेंद को पुनः प्राप्त करने की कोशिश करते हैं। इससे भगवान कृष्ण यमुना नदी के सामने आते हैं जो सर्प कालिया का घर था।

भगवान कृष्णा कालिया नाग को आदेश देते हैं की वह नदी में ज़हर ना उत्पन्न करे परन्तु, वह आदेश अस्वीकार कर देता है। तत्पश्चात, भगवान कृष्ण उसके साथ लड़ते हैं और उस पर हावी हो जाते हैं। कालिया अपनी माफी मांगता है और कभी वापस नहीं आने का वादा करता है।

नाग पंचमी 2020 उत्सव

नाग पंचमी के पर्व को भी अन्य सभी हिंदू त्योहारों की तरह कई पूजन संस्कार होते हैं। इस भविष्यवाणी के दिन, घर की महिलाएं गाय के गोबर से घर के दरवाजे पर सांप की आकृति बनती हैं। रीति-रिवाजों और अनुष्ठानों के बाद, सांप को कुशा घास, दूध, अक्षत, और चंदन चढ़ाया जाता है।

बाद में, लोग दूध के साथ सांप की मूर्ति की पूजा करते हैं और अपने दोषों की माफी के लिए प्रार्थना करते हैं। विशेष प्रसाद की तैयारी होती है और भक्त सिंदूर (सेवई), लड्डू, और खीर बनाते हैं। पौराणिक किंवदंतियों में चमतकारपुर के सांपों की पूजा करने का उल्लेख है जो सभी इच्छाओं की पूर्ति करते हैं।

नाग पंचमी 2020 मनोरम प्रसाद और व्यंजन

नाग पंचमी के दिन, खाद्य पदार्थों और व्यंजनों में दूध की प्रमुख भूमिका होती है। एक व्यक्ति परिवार और मेहमानों के लिए कई मनोरम प्रसाद बना सकता है। यहाँ कुछ उपयोगी सुझाव दिए गए हैं-

  • मिठाई – साबूदाना खीर, चिरौंजी मखाना खीर, और मूंग दाल लड्डू।
  • पेय – पंचामृत, आम पन्ना, और ठंडाई।
  • स्नैक्स – पाथोली, दम आलू, और पोहा।
  • भोजन – पनीर करी, खिचड़ी, और पराठा।

नाग पंचमी उत्सव- ज्योतिषीय कारण

सांपों की पूजा करने के धार्मिक और सामाजिक कारणों के साथ, नागपंचमी के उत्सव के ज्योतिषीय कारण भी हैं।

ज्योतिष के अनुसार, कुंडली में योग के अलावा, हम दोष (दोषों) को भी मानते हैं। काल सर्प दोष कुंडली में सबसे खतरनाक दोषों में से एक है। इसके कई प्रकार हैं। नाग पंचमी के दिन शेषनाग सर्प की पूजा करने से काल सर्प दोष से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही, भगवान शिव की भक्ति और नागा (पुरुष और महिला) की एक जोड़ी अर्पित करना इस दोष के हानिकारक प्रभाव काम होते हैं।

नाग पंचमी 2020 तिथि

वर्ष 2020 में नाग पंचमी का त्योहार 25 जुलाई को मनाया जाएगा।

नाग पंचमी अगले तीन साल-

दिवस दिनांक वर्ष
शनिवार 25 जुलाई 2020
शुक्रवार 13 अगस्त 2021
मंगलवार 2 अगस्त 2022
बुधवार 21 अगस्त 2023

हरियाली तीज २०२०- इस वर्ष तिथि और उत्सव

 694 

Copyright 2021 CodeYeti Software Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved