शनि और केतु युति- द्वादश भावों में प्रभाव

शनि और केतु युति- द्वादश भावों में प्रभाव

शनि आदेश, कानून, अनुशासन, न्याय और रूढ़िवाद का प्रतीक है। वैदिक ज्योतिष में, शनि न्याय के देवता हैं। दूसरी ओर, केतु बिना सिर वाला छाया ग्रह है। केतु एकान्त, अलगाव, कारावास प्रतिबंध का प्रतीक है। ज्योतिष में, यह एक दाता ग्रह है। शनि और केतु दोनों ही धीमे चलने वाले ग्रह हैं। एक साथ, कुंडली में शनि और केतु साथ आजाये तो इसके परिणामस्वरूप व्यक्ति में सांसारिक इच्छाओं और आध्यात्मिक जीवन के बीच चयन की उथल-पुथल होती है।

ग्रह शनि मेहनत, करियर, वृद्धि और इच्छाशक्ति का कारक है। जबकि, केतु जातक को एकांत स्वीकार करने के लिए प्रेरित करता है। जब ये दो पूरी तरह से विपरीत ग्रह एक साथ आते हैं, तो जातक को एक निरंतर भ्रम होता है। वे खुद को भौतिकवादी और आध्यात्मिक जीवन के बीच चयन करने में असमर्थ पता है। हालांकि, शनि और केतु की युति जातक में कुछ गुणों का प्रतिनिधित्व करता है। उदाहरण के लिए, वे शनि की गुणवत्ता जैसे विवेकपूर्ण, जिम्मेदार, परिश्रमी आचरण को अपनाते हैं।

शनि और केतु दोनों ही निराशा, पराक्रम, असंतोष, इनकार, विलंब के दाता हैं। जब वे कुंडली में युति बनाते हैं, तो वे जातक को जीवन में दर्दनाक अनुभव सकते हैं। अत्यधिक अंतर्मुखी व्यवहार, निरंतर इनकार, असंतोष, आत्म-कारावास और भ्रम की स्थिति कुंडली में शनि और केतु के संयोजन के कुछ प्रमुख प्रभाव हैं।

निश्चित नहीं कि आपका शनि स्थित है? हमारे मुफ़्त कुंडली पर जाने अभी

शनि और केतु युति प्रथम भाव में

शनि एक सख्त, गंभीर और न्यायिक प्रकृति का प्रतीक है। जबकि, केतु एकान्त और कारावास का प्रतिनिधित्व करता है। कुंडली का पहला या लग्न भाव आपके बाहरी रूप, अहंकार, स्वभाव, आत्मविश्वास और आत्म-अभिव्यक्ति को दर्शाता है। इस भाव में शनि और केतु की युति होने से व्यक्ति वैरागी का व्यक्तित्व धारण करता है।

यह भाव आपकी ताकत, ताकत की भावना, कमजोरी, बचपन, दृष्टिकोण, राय और विचारधारा पर भी शासन करता है। इस प्रकार, जातक एक गंभीर प्रकृति का व्यक्ति होता है, वह एकांत पसंद करता है, और अपने जीवन में दूसरों को शामिल करना पसंद नहीं करता है।

इस भाव में, शनि-केतु युति व्यक्ति को एक बेहतर सोच प्रदान करता है यथा जातक हर किसी की बेहतरी के लिए सोचता है, और एक आध्यात्मिक जीवन पसंद करता है। ऐसे लोग आध्यात्मिक साधनाओं में शामिल हो सकते हैं।

ऐसे जातक के बचपन में ज़्यादा खुशहाल यादें शामिल नहीं होती हैं। वे सीमाओं को बनाए रखते हैं और महत्वपूर्ण होने पर ही बातचीत करते हैं।

पहला भाव सहनशक्ति, सम्मान, स्वास्थ्य और प्रसिद्धि का प्रतीक भी है। शनि की ऊर्जा से प्रेरित कड़ी मेहनत के बावजूद, शनि और केतु के संयोजन से जातक प्रसिद्धि प्राप्त नहीं पते हैं। उनके पास मन की शांति और सहनशक्ति नहीं होती है।

शनि और केतु द्वितीय भाव में

कुंडली का दूसरा भाव संपत्ति का प्रतीक है। इसे धन भाव भी कहा जाता है। यह घर आपकी आय, संपत्ति, धन, मौद्रिक लाभ, वाहन और गैर-भौतिक चीजों पर शासन करता है।

इस प्रकार, दो समान और धीमे ग्रह एक साथ जुड़ते हैं और दो अलग-अलग प्रकृति का निर्माण करते हैं। नतीजतन, जातक को पैसा कमाने की गंभीरता नहीं होती है। वे कमाई करने और धन एकत्रित करने के उद्देश्य से नहीं जीते हैं।

इसके साथ ही, दूसरा घर संचार और बोलने के तरीके का भी प्रतीक है। इस भाव में शनि और केतु के साथ होने के कारन जातक मधुर वाणी नहीं रखता है। वे हमेशा कठोर शब्द बोलते हैं और दूसरे लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हैं। इसलिए, वे चाहें या नहीं, वे अपने जीवन में अकेले रहने के लिए मजबूर होते हैं।

इसके अतिरिक्त, ऐसे जातक पैसे की बचत भी नहीं कर पाते। वे भविष्य की जरूरतों के लिए बचत करने में असमर्थ रहते हैं। वह भौतिक जीवन को छोड़ देना चाहते हैं पर साथ ही उन्हें मोह-माया छूट जाने का दर भी लगा रहता है। इस प्रकार वह हमेशा चिंतित रहते हैं।

यह भाव व्यक्ति के दांतों, जीभ, आंखों, मुंह, नाक, हड्डियों, गर्दन का प्रतिनिधित्व करता है। दूसरे भाव में शनि और केतु की युति होने से आँखों की गंभीर समस्या होती है।

शनि और केतु तृतीया भाव में

कुंडली का तीसरा भाव मानसिकता का प्रतिनिधित्व करता है। यह सीखने की क्षमता, कौशल और कार्य की क्षमताओं का स्वामित्व करता है। इसके अलावा, यह आपकी आदतों, रुचियों, भाई-बहनों, बुद्धि, संचार और संचार माध्यमों को नियंत्रित करता है।

तीसरे भाव में शनि और केतु की युति जातकों को अपने भाई-बहनों से सम्बन्ध में दुरी पैदा करने के लिए मजबूर करती है। इस प्रकार, जातक अपने भाई-बहनों से उचित दूरी पसंद करते हैं और उनके साथ प्यार भरा रिश्ता साझा नहीं करते हैं।

इसके अलावा, यह भाव शक्ति और वीरता का प्रतिनिधित्व करता है, यहां केतु लोगों के सामने जातक को किसी भी प्रकार की ताकत का प्रक्षेपण करने की अनुमति नहीं देता है। वे ज़रूरत पड़ने पर आगे आ कर दिक्कतों का सामना नहीं करना चाहते हैं।

यह ग्रह स्थिति किसी भी साहसिक निर्णय लेने और कठिन विकल्प चुनने से जातक को रोकती है। वे अपनी समस्याओं का सामना नहीं करना चाहते हैं और समस्याओं से दूर भागते हैं।

ऐसे लोगों में अपने जीवन के साथ कुछ बेहतर करने के लिए साहस की कमी होती है।

शनि और केतु चतुर्थ भाव में

चौथा भाव आपकी संपत्ति, भूमि का प्रतीक है। यह भाव आपकी खुशी, जड़ों, आपकी मां, रियल एस्टेट, वाहनों और घरेलू खुशियों के साथ आपके संबंधों पर नियंत्रण करता है। इसे बंधु भाव भी कहा जाता है।

चौथे भाव में शनि और केतु का अर्थ है जीवन के कई महत्वपूर्ण पहलुओं का विध्वंस। उदाहरण के लिए, यह जातक को घरेलू सुख, संपत्ति और धन में रुचि से दूर खींचता है।

इस भाव में शनि और केतु युति जातक को घरेलू जीवन को पूरी तरह से छोड़ने के लिए को उत्तेजित करता है। वे भटकना और अकेले रहना चाहते हैं। वे किसी को भी अपने पास नहीं रहने देते।

गौरतलब है कि ऐसे ग्रह स्थिति वाले लोग अपनी मां से भी दूर रहते हैं और पारिवारिक मामलों में भाग नहीं लेते हैं।

कुंडली में इस तरह के संयोजन वाले लोग अपनी विरासत में मिली संपत्ति का ध्यान नहीं रखते ।

शनि और केतु पंचम भाव में युति

5 वां भाव चंचलता, आनंद, खुशी का प्रतीक है। यह प्रभुत्व प्रेम, रोमांस, सेक्स, आनंद, रचनात्मकता और बुद्धिमत्ता का स्वामित्व करता है। इस घर को पुत्र भाव भी कहा जाता है। लव लाइफ और आनंद से जुड़े सभी पहलू 5 वें भाव के दायरे में आते हैं।

केतु स्व-पूर्ववत होने का भी संकेत देता है। इस प्रकार, पंचम भाव में शनि और केतु की युति बहुत ही नकारात्मक स्थिति है।

यह भाव संतान का भी द्योतक है। इस प्रकार, इस स्थिति के कारण जातक को बच्चे के जन्म के संदर्भ में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। वे शनि के कारण संतान के संदर्भ में अत्यधिक विलमब का अनुभव कर सकते हैं। जबकि केतु उन्हें सांसारिक मोह को छोड़ने के लिए उत्तेजित कर सकता है।

इसके साथ ही, 5 वां भाव हृदय, पेट, ऊपरी और मध्य पीठ, रीढ़ और अग्न्याशय से संबंधित है। शनि और केतु की युति के कारण व्यक्ति को मस्तिष्क के विकास में देरी का अनुभव हो सकता है। इसके अतिरिक्त, व्यक्ति हृदय रोगों, पेट दर्द और पीठ जैसी बिमारियों से पीड़ित हो सकता है

शनि और केतु षष्टम भाव में

6 वां भाव स्वास्थ्य, कल्याण, दैनिक दिनचर्या, ऋण, शत्रु का द्योतक है। इस भाव को आरी भाव भी कहा जाता है। यहाँ, आरी का अर्थ है शत्रु। यह भाव कठिनाइयों, बाधाओं पर भी शासन करता है।

केतु छिपी हुई चीजों को भी दर्शाता है। जबकि शनि वृद्धि का द्योतक है। इसलिए, 6 वें भाव में यह संयोजन समय के साथ जातक के दुश्मनों की संख्या को बढ़ाता है। वे जो कुछ भी कर सकते हैं उसमे वे बहुत तेजी से दुश्मन बना सकते हैं।

यह भाव बीमारी, दुर्घटनाओं, चोटों, प्रतिद्वंद्विता, मातृ संबंधों, पेट के निचले हिस्से, आंत और ऑपरेशन का भी प्रभुत्व करता है। इस प्रकार, यहाँ केतु के कारण जातक संबंधों में सीमा बना सकता है और बीमारियों के सामने आत्मसमर्पण कर सकता है।

इस स्थिति के कारण, जातक को भयानक दुर्घटनाओं, चोटों और सर्जरी से पीड़ित होने की बहुत संभावना है।

शनि और केतु सप्तम भाव में

सभी प्रकार की पार्टनरशिप/साझेदारी, साहचर्य और संबंध 7 वें भाव के शासन के अंतर्गत आते हैं। यह वह भाव है जो आपके साथी के साथ आपके संबंधों और आपकी भावनाओं के प्रति उनके इरादों को परिभाषित करता है। यह आपके जुनून, शादी और अफेयर के बारे में भी बताता है।

शनि एक धीमा ग्रह है। इसलिए, कुंडली में यह शादी में देरी का प्रमुख कारण होता है। एक और धीमी गति वाले ग्रह केतु के साथ कुंडली में स्थित होने पर यह ग्रह स्थिति व्यक्ति के एक महत्वपूर्ण बाधा और शादी में देरी का कारण बन सकती है।

यहां पढ़ें शादी में देरी: कारण और उपाय

7 वें भाव में शनि और केतु की युति आपके साथी के साथ आपके रिश्ते को खराब कर सकती है और मित्रता या साहचर्य को तेजी से बर्बाद कर सकती है।

इस तरह के ग्रहों के संयोजन वाले जातक किसी भी साथी के साथ फलदायक उद्यम करने में विफल हो जाते हैं। वे चाहें या न चाहें उन्हें अकेले ही चलना होगा। विशेष रूप से करियर में, वे कभी भी लोगों के साथ जीत नहीं पाते हैं। उन्हें अकेले संघर्ष करना पड़ता है।

शनि और केतु अष्टम भाव में

आपकी मृत्यु, दीर्घायु और अचानक हुई घटनाएं अष्टम भाव को परिभाषित करती हैं। इसे रंध्र भाव भी कहा जाता है। अचानक लाभ, लॉटरी, अचानक नुकसान जैसी घटनाएं भी 8 वें भाव का एक हिस्सा हैं। यह रहस्यों, खोजों और परिवर्तन का भाव भी है।

विशेषज्ञ ज्योतिषियों के अनुसार, अष्टम भाव में शनि और केतु की युति सबसे घातक स्थिति है। यह अचानक मौत या लाइलाज बीमारी का कारण हो सकता है।

इससे त्वरित दुर्घटनाएं और गंभीर चोटें भी लग सकती हैं। इस प्रकार, यह स्वास्थ्य और जीवन काल के विषय में सबसे खराब स्थिति है।

यह भाव विरासत में मिली संपत्ति के लाभ को भी दर्शाता है। हालांकि, केतु परित्याग को प्रोत्साहित करता है और लाभ को त्यागता है। इस प्रकार, जातक लाभ को स्वीकार या उसकी सराहना नहीं करेगा।

इस ग्रह संयोग के कारण जातक को जीवन के साथ बाधाओं, बीमारी और संघर्ष का सामना करना पड़ेगा।

शनि और केतु नवम भाव में

नवम भाव सच्चाई, सिद्धांतों, अच्छे कार्यों के प्रति झुकाव, दान का प्रतिनिधित्व करता है। इसे धर्म भाव के नाम से भी जाना जाता है। यह घर आपकी शिक्षा, नैतिकता, उच्च अध्ययन, आव्रजन, धार्मिक झुकाव को नियंत्रित करता है।

यहाँ, शनि और केतु युति जातक के अपने पिता के साथ संबंध को खराब करते हैं। यह उन्हें अपने पिता को त्यागने और धार्मिक परंपराओं, पूजा को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करता है।

इस ग्रह संयोजन के कारण जातक अपनी सभी जिम्मेदारियों से दूर भागता है और आध्यात्मिक शिक्षा का मार्ग अपनाता है। ऐसा जातक धार्मिक गतिविधियों में ईमानदारी से शामिल होता है।

इस ग्रह स्थिति के कारण, जातक दान, अच्छे कामों, अन्य सेवा, सामाजिक सेवाओं और आध्यात्मिक प्रथाओं में गहरी रुचि रखता है। वे भौतिकवादी दुनिया की नियमों को नहीं समझते हैं।

शनि और केतु दशम भाव

आपका करियर, पेशा, सफलता, असफलता सभी दशम भाव के अंतर्गत आते हैं। इस घर को कर्म भाव के नाम से भी जाना जाता है। यह आपकी प्रतिष्ठा, पदनाम, विजय, अधिकार, प्रतिष्ठा और व्यवसाय के क्षेत्र को नियंत्रित करता है।

10 वें भाव में शनि और केतु की युति आपके करियर घर की ऊर्जा और शक्ति को नष्ट कर देती है। जैसा कि ये दोनों बाधक और धीमी गति से चलने वाले ग्रह हैं, ये आपके रास्ते में कई प्रकार की बाधाएं पैदा करते हैं।

इस तरह के संयोजन के साथ जातक कभी भी किसी भी तरह के व्यवसाय या उद्यम में सफल नहीं होता है चाहे वह अकेले हो या साझेदार।

दूसरी ओर, जातक खुद को एक विकल्प चुनने में असमर्थ पाते हैं। वे लगातार संघर्ष करते हैं। साथ ही, उनमें एकाग्रता की कमी होती है। चाहे वे कितनी भी कोशिश कर लें, वे किसी भी चीज पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते। इस प्रकार, अंततः, वे अपने जीवन के योग्य कुछ करने में विफल होते हैं।

यहाँ, शनि और केतु महादशा का निर्माण करते हैं जो सफलता प्राप्त करने के लिए जातक को बाधित करता है। 10 वें भाव में युति जातक के करियर को समाप्त कर देता है।

शनि और केतु एकादश भाव में

एकादश भाव को लाभ भाव भी कहा जाता है। यह भाव लाभ, धन, आय, नाम, प्रसिद्धि और मौद्रिक लाभों को नियंत्रित करता है। यह आपके सामाजिक दायरे, मित्रों, शुभचिंतकों, बड़े भाई और परिचितों का भी प्रभुत्व करता है।

इस भाव में, शनि और केतु की युति आय के सभी स्रोतों को ध्वस्त कर देती है। यहाँ, यह दोनों ग्रह धन की उत्पत्ति में पूर्ण सर्वनाश का कारण होते हैं।

इसके साथ ही, जातक को आय का एक उचित स्रोत प्राप्त करना और व्यवस्थित होना मुश्किल लगता है। धीरे-धीरे धन की कमी से उनका जीवन कठिन होता जाता है।

केतु एक ऐसा ग्रह है जो धन का त्याग करने के लिए प्रभावित करता है, जातक भौतिकवादी इच्छाओं को त्याग देता है, वह धीरे-धीरे सांसारिक इच्छाओं से दूर हो जाता है। यहां तक ​​कि अगर उनके पास परिवार है, तो वे सब कुछ पीछे छोड़ देते हैं।

शनि और केतु भाव द्वादश में

12 वां भाव अंत का प्रतीक है। यह राशि चक्र के अंतिम राशि के साथ मेल खाता है। इसलिए, यह भाव सांसारिक यात्रा के अंत और आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत का प्रतिनिधित्व करता है।

यह भाव नींद, कारावास, हानि और अलगाव को भी दर्शाता है। इसलिए, यहां शनि और केतु दोस्तों और परिवार से जातक के अलग होने की संभावना बढ़ाते हैं। उन्हें बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

12 वें भाव में खर्च को बढ़ा देता है। जातक के लिए अपने बजट का प्रबंधन करना और अपने मौद्रिक प्रवाह को संतुलित करना मुश्किल हो सकता है।

धीरे-धीरे, जातक की वित्तीय समस्याएं उनके जीवन का सबसे महत्वपूर्ण विषय बन जाती हैं।

राहु गोचर 2020- राहु न सिर्फ सताता है बल्कि राजपाठ भी दिलाता है

हर दिन दिलचस्प ज्योतिष तथ्य पढ़ना चाहते हैं? हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करें

 8,678 total views

Consult an Astrologer live on Astrotalk:

Tags: , ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *