Shani gochar 2022: होने वाला है मकर राशि में शनि गोचर, जानें कैसा होगा सभी राशियों पर प्रभाव

मकर राशि में शनि
WhatsApp

ग्रहों का राशि परिवर्तन स्वाभाविक होता है और  समय-समय पर एक ग्रह राशि को छोड़कर एक से  दूसरी राशि में प्रवेश करते रहते हैं। ग्रह परिवर्तन का असर विभिन्न राशियों पर पड़ता है। इन्हीं ग्रह में से शनि ग्रह को एक  प्रभावशील ग्रह में से एक माना जाता है। बता दें कि 12 जुलाई को शनि कुंभ राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करने जा रहा हैं। साथ ही कुंभ राशि की तरह मकर राशि में भी इनकी चाल वक्री ही रहेगी।

शनि कुछ महीनों तक मकर राशि में रहने के बाद पुनः वापस कुंभ राशि में आ जाएंगे। लेकिन इस समय के दौरान में कई राशियां प्रभावित होंगी। उनमें से कुछ राशियों पर अनुकूल प्रभाव देखने को मिलेगा तो कुछ राशियों पर प्रतिकूल। तो चलिए जानते है साल  2022 (shani gochar 2022) में शनि गोचर का समय।

यह भी पढ़ें- वरलक्ष्मी व्रत 2022ः जानें क्या होता हैं वरलक्ष्मी व्रत और शुभ मुहूर्त

मकर राशि में सूर्य गोचर का समय  (saturn transit Capricorn 2022)

सबसे धीमे ग्रहों में से एक होने के कारण शनि को एक राशि से दूसरी राशि में जाने में लगभग 2.5 वर्ष का समय लगता है। इसलिए जातक के जीवन में शनि का प्रभाव लंबे समय तक रहता है। शनि को उदासी के रूप में भी देखा जाता है, इस प्रकार जब यह भाव में होता है तो यह जीवन के उस क्षेत्र से संबंधित असंतोष और शीतलता को दर्शाता है।

प्रतिगमन मूल रूप से एक गति है जिसमें ग्रह विपरीत दिशा में गति करता हुआ प्रतीत होता है। यह गति आमतौर पर ग्रह में गति जोड़ती है, इसलिए उनके परिणाम सकारात्मक या नकारात्मक हो जाते हैं और वे प्रत्यक्ष गति में होने की तुलना में तेजी से प्रदर्शन करते हैं।

शनि ,मकर और कुंभ राशि का स्वामी है। शनि ग्रह का गोचर 12 जुलाई 2022 को सुबह 10.28 बजे होगा। शनि वक्री गति से अपनी  मकर राशि में वापस प्रवेश करने जा रहा है और 23 अक्टूबर 2022 को सीधे उसी राशि में घूमेगा। 

आइए जानते हैं शनि के मकर राशि में गोचर का  सभी राशियों के जातकों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा।

मकर राशि में शनि गोचर 2022 (saturn transit in Capricorn 2022) का सभी राशियों पर प्रभाव 

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए शनि दशम और एकादश भाव का स्वामी है और यह पेशे और प्रतिष्ठा के दशम भाव में वक्री गति में गोचर करने वाला है। यह गोचर आपको मिले-जुले परिणाम दे सकता है। इस समय  आप पूरी तरह से अपने करियर पर केंद्रित रहेंगे और अपने लंबे समय से लंबित कार्यों को पूरा करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करने का प्रयास करेंगे। अपने रुके हुए कार्यों को पूरा करने में आपको कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है।

व्यक्तिगत जीवन में इसका नकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकता हैं। इस समय आप तनावग्रस्त और चिंतित महसूस कर सकते हैं। इसलिए अपने स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखें और स्वस्थ रहने के लिए कुछ व्यायाम और योग करें। आपके पास वित्त स्थिर रहने की संभावना है। आपकी मेहनत और प्रयासों के कारण आपको अपने वरिष्ठों का सहयोग और सहयोग मिलेगा। आपको अपनी पिछली प्रोफ़ाइल बदलने या वापस स्विच करने के कुछ अवसर मिल सकते हैं। साथ ही आप अपने 

बता दें कि आप पेशेवर जीवन में बदलाव लाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। आर्थिक के संदर्भ में इस  अवधि में आए मध्यम रहेगी, आप अपने व्यय को पूरा करने में सक्षम होंगे और इस प्रकार आय व्यय संतुलन बनाए रखेंगे। घर में शांति और आराम बनना शुरू हो जाएगा और आप घर पर कुछ नवीनीकरण की योजना बना सकते हैं। जो लोग संपत्ति खरीदने की योजना बना रहे थे, वे भी इस अवधि में अपना सपना पूरा कर सकते हैं। लोहा, इस्पात, खानों, तेल और गैस के शेयरों में निवेश करना आपके लिए उत्पादक परिणाम लाएगा। साथ ही अपने पुराने दोस्तों के साथ फिर से जुड़ने और पुरानी यादों को संजोने का यह सही समय है।

गोचर के लिए उपाय: शनिवार के दिन शनि मंदिर में काली दाल का दान करें।

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातकों के लिए शनि नवम और दशम भाव पर शासन करता है और पिता, आध्यात्मिकता और भाग्य के नवम भाव में वक्री गति में गोचर कर रहा है। आप सीखने या आगे की पढ़ाई में रुचि खो देंगे। इसके बजाय, आप स्मार्ट वर्किंग तकनीकों के लिए तत्पर रहेंगे। आपका आध्यात्मिक झुकाव कमजोर होगा लेकिन आप कर्म और कर्मों में पूरी तरह विश्वास करेंगे। यह आपको अपने कार्यों को करने में अधिक निर्णय लेने के लिए प्रेरित करेगा।

व्यक्तिगत जीवन में आप कुछ यात्रा योजनाएँ बना सकते हैं और ये योजनाएँ आपके अधूरे कार्यों को पूरा करने में आपकी मदद करेंगी। आपके पिता के साथ आपके संबंध बहुत सहज नहीं हो सकते हैं और आपको उनके साथ कुछ संघर्षों का सामना करना पड़ सकता है। आपके धैर्य की परीक्षा होगी लेकिन आपको अपनी तपस्या और मेहनत का फल मिलेगा। 

पेशेवर जीवन के लिहाज से जो व्यक्ति काम कर रहे हैं वे अपना काम गतिशील रूप से करेंगे लेकिन इस दौरान उनके बॉस के साथ उनके संबंध खराब हो सकते हैं। इस प्रकार आपको उनसे ज्यादा सराहना नहीं मिलेगी। हालाँकि, आपका कार्य कौशल आपकी नौकरी से संबंधित असुरक्षाओं को दूर करेगा और आप संगठन में एक मजबूत पकड़ बनाने में सक्षम होंगे। व्यवसायियों को आपके व्यवसाय के विस्तार के लिए नए संसाधनों का पता लगाने का मौका मिलेगा। आप नई रणनीतियों को लागू कर सकते हैं, साथ ही आप अपनी पिछली योजनाओं और रणनीतियों में कुछ बदलाव करने पर भी विचार कर सकते हैं।

गोचर के लिए उपाय : सोते समय नीलम को सिर के पास रखें।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों के लिए शनि अष्टम भाव, गूढ़ विज्ञान और रहस्य का स्वामी है। साथ ही यह अध्यात्म और उच्च अध्ययन के नवम भाव पर भी शासन करता है। मकर राशि में वक्री शनि का गोचर होने की स्थिति में मिथुन राशि के जातकों के लिए यह वक्री गति में अष्टम भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपको कठिन परिश्रम का सामना करना पड़ सकता है।

व्यक्तिगत मामलों में  आपके अंतर्ज्ञान में सुधार होगा और आप चीजों को होने से पहले ही जान पाएंगे। आपका रूझान अध्यात्म की ओर रहेगा और आप और चीजों को तलाशने की कोशिश करेंगे। आप इस अवधि के दौरान कुछ जीवन बदलने वाली घटनाओं को देख सकते हैं। स्वास्थ्य के मामले में आपको कुछ चिकित्सकीय सहायता की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि आप जोड़ों के दर्द, दांतों की समस्या और बालों के झड़ने से ग्रस्त होंगे। आपको अपने ससुराल वालों लोगों के संबंधों के साथ तनाव का सामना करना पड़ सकता है। 

व्यवसायी जीवन में इस समय के दौरान अपने खराब कर्ज से उबर सकते हैं लेकिन नई चीजों में निवेश करना उचित नहीं है। सैनिकों को सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि यह अवधि उनके करियर में कुछ विराम ला सकती है या नौकरी में अचानक बदलाव ला सकती है। 

गोचर के उपायः शनिवार के दिन शराब और मांसाहारी भोजन से परहेज करें।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए शनि सप्तम और अष्टम भाव का स्वामी है और वक्री गति में सप्तम भाव में गोचर करेगा, जो संगति, साझेदारी और विवाह का तय होगा। जो लोग शादी का इंतजार कर रहे थे, वे इस दौरान शादी के बंधन में बंध सकते हैं। साथ ही वक्री शनि के इस गोचर के दौरान विवाह संबंधी सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी। 

निजी जीवन के मामलों में यह अवधि विवाह के लिए शुभ होगी। विवाहित जातकों को अपने साथी के साथ कुछ तनाव का सामना करना पड़ सकता है और अतीत के कुछ मुद्दे चिंता और परेशानी का कारण बन सकते हैं। इस समय के दौरान घर का आपको थोड़ा संभल कर रहना होगा। अपने किसी भी काम में जल्दबाजी करने की कोशिश कर सकते हैं। 

व्यावसायिक जीवन के संदर्भ में यह अवधि व्यवसायियों के लिए कुछ तनावपूर्ण स्थितियाँ लाएगी, विशेषकर जो साझेदारी फर्मों में हैं। आपको अपने सहयोगियों के साथ संघर्ष  का सामना करना पड़ सकता है जो फर्म की छवि और व्यावसायिक व्यवहार को प्रभावित करेगा। नौकरीपेशा लोगों को अपनी नौकरी में स्थिरता बनाए रखने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। आपको अपने कार्य कौशल पर कुछ सवालों का सामना करना पड़ सकता है जो कार्यस्थल पर आपकी प्रतिष्ठा को बाधित करेगा। स्वास्थ्य के मामले में आपको सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि अतीत की कोई बीमारी फिर से शुरू होने की संभावना है।

गोचर के उपाय: शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और भगवान शिव की पूजा करें।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों के लिए शनि आपकी राशि के छठे भाव और सप्तम भाव का स्वामी है। शनि वक्री होकर अपनी ही राशि मकर राशि में आपके छठे भाव में शत्रु, ऋण, रोग और सेवा भाव में गोचर करेगा। अपनों के साथ लड़ाई झगड़ों का सामना करना पड़ सकता है।

निजी जीवन के तौर पर इस समय में जीवनसाथी के साथ आपके संबंध थोड़े ठंडे रहेंगे और शारीरिक या भावनात्मक रूप से आपको उनसे कुछ दूरी का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप किसी कोर्ट-कचहरी के मामले में फंस गए हैं तो आपको जल्द ही समाधान होने वाला है। साथ ही आप अपने सभी विवादों को इस दौरान अपने पक्ष में परिणाम के साथ सुलझाने में सक्षम होंगे। सेवादार अपने प्रोफाइल में कुछ गतिशीलता की उम्मीद कर सकते हैं, साथ ही आपको अपनी मेहनत का फल भी मिलेगा।

पेशेवर जीवन में, जो लोग नई नौकरी की तलाश कर रहे हैं, उन्हें उनके कोर्ट में कुछ अच्छे प्रस्ताव मिलेंगे। व्यवसायी को अपनी देनदारियों का भुगतान करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, काम को सुचारू रूप से चलाने के लिए आपको बाजार से पैसे उधार लेने पड़ सकते हैं। जो लोग पेशेवर सेवाओं में हैं, वे अपने करियर में शिखर पर पहुंचेंगे। आप अपनी असाधारण सेवाओं से अपने संबंधित बाजार में कमान संभालने में सक्षम होंगे।

गोचर के उपाय: काले कपड़े पहनने से बचें, खासकर शनिवार के दिन।

कन्या राशि

बता दें कन्या राशि के जातकों के लिए शनि का मकर राशि में गोचर पंचम भाव में होगा। इस दौरान आपका स्वास्थ्य ठीक रहने लगता है। फिट और स्वस्थ रहने के लिए आपको योग और व्यायाम में रुचि विकसित करनी चाहिए। इस अवधि में शनि वक्री होकर आपके पंचम भाव में गोचर करेगा। यह अवधि छात्रों के लिए कुछ अनुकूल परिणाम लेकर आएगी क्योंकि आपकी लड़ाई की भावना उच्च होगी।

व्यक्तिगत जीवन में इस समय के दौरान जो लोग प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें इस दौरान अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। रोमांटिक जोड़ों का प्रेम जीवन बहुत सहज और सौहार्दपूर्ण नहीं रहेगा। आप अपने प्रेमी के साथ कुछ अनुचित झगड़े और गलतफहमियों का सामना करना पड़ सकता है। यह अवधि बच्चों के लिए भी अनुकूल नहीं होगी क्योंकि वह इस दौरान खांसी से पीड़ित हो सकते हैं। 

पेशेवर तौर पर इस समय व्यवसायी पिछली योजनाओं और रणनीतियों से कुछ आय की उम्मीद कर सकते हैं जो शुरू में उनके लिए अच्छा काम नहीं कर रही थीं। जो लोग सेवा में हैं वे अपने कार्य प्रोफ़ाइल या उनके पद में कुछ बदलाव देखेंगे।

गोचर के उपायः किसी भी काम को पेंडिंग में न रखे।

तुला राशि

तुला राशि के जातकों के लिए शनि घर और आराम के चौथे भाव पर शासन करता है। साथ ही यह शिक्षा और मनोरंजन के पांचवें भाव पर भी शासन करता है। शनि चतुर्थ भाव में वक्री होकर गोचर करेगा। यह अवधि संपत्ति की कुछ लंबे समय से प्रतीक्षित खरीद या आपके घर के नवीनीकरण को लेकर आएगी। मकान के निर्माण या तोड़-फोड़ से संबंधित अपने लंबित कार्यों को पूरा करने में आप सफल रहेंगे। 

पेशेवर के मामले में आप इस अवधि के दौरान कुछ कृषि संपत्ति में निवेश कर सकते हैं। इस दौरान माता की तबीयत खराब होने से आप चिंतित हो सकते हैं। छात्र  के लिए अनुकूल अवधि होगी क्योंकि वे अपने सीखने के प्रति गतिशील और ऊर्जावान होंगे। व्यवसायियों के लिए यह अवधि फलदायी परिणाम लेकर आएगी, आपको अपने व्यवसाय का विस्तार करने के अवसर प्राप्त होंगे। सर्विसमैन इस अवधि के दौरान पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं।

गोचर के उपायः शनिवार के दिन काला या गहरा नीला वस्त्र धारण करने से बचें

वृश्चिक राशि 

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शनि साहस, छोटी यात्राओं और भाई-बहनों के तीसरे भाव और आराम, विलासिता और माता के लिए चतुर्थ भाव का स्वामी होता है। शनि तीसरे भाव में वक्री गति में गोचर करेगा। 

व्यक्तिगत मामलों में आप अपनी फिटनेस की फ्रीक रहेंगे और इस दौरान कुछ शारीरिक गतिविधियों को करने का प्रयास करेंगे। इस अवधि के दौरान आपके भाई-बहनों और दोस्तों के साथ आपके संबंधों से समझौता होगा। आपका उनसे अक्सर झगड़ा हो सकता है। 

व्यवसायिक मामलों में सर्विसमैन इस अवधि के दौरान नौकरी में कुछ बदलाव या स्थानांतरण की उम्मीद कर सकते हैं। कारोबारियों को अपने पिछले प्रयासों और कार्यों के परिणाम देखने के लिए इंतजार करना होगा। आपको सलाह दी जाती है कि नई परियोजनाओं और रणनीतियों पर निवेश न करें बल्कि पिछली परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करें। इस दौरान आपको रुके हुए काम पूरे करने के अवसर प्राप्त होंगे। 

गोचर के उपायः शनिवार का व्रत करें।

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए वक्री शनि का मकर राशि में गोचर दूसरे भाव में होगा । इस दौरान धनु राशि वालों के लिए “शनि की साढ़े साती का चरण” शुरू होने वाली हैं इसलिए आपको इस समय सावधान रहना होगा। स्वास्थ्य के लिए  यह समय आपके लिए अनुकूल नहीं है।

व्यक्तिगत जीवन में आपको अपनी जीवन में सावधानी बरतने की आवश्यकता है क्योंकि आपके कठोर शब्द बड़े संघर्ष और झगड़े ला सकते हैं। आपको पिछले कुछ निवेशों से पैसा वापस मिलने की संभावना है। साथ ही इस दौरान आपको रुका हुआ कुछ धन भी वापस मिल सकता है। सदस्यों के बीच समझ की कमी के कारण आपके परिवार के साथ आपके संबंध थोड़े ठंडे हो सकते हैं। 

पेशेवर जीवन में व्यवसायियों को इस दौरान फलदायी परिणाम प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयास करने की उम्मीद है। जो लोग मुकदमेबाजी में हैं उन्हें अपने पिछले प्रयासों में कुछ सफलता प्राप्त होगी।

गोचर के उपाय: हनुमान चालीसा का प्रतिदिन 9 बार पाठ करें।

मकर राशि

वहीं मकर राशि के जातकों के लिए शनि व्यक्तित्व के पहले भाव और धन के दूसरे भाव का स्वामी होता है। इस गोचर काल में शनि दूसरे भाव से वक्री होकर पहले भाव में वापस आ जाएगा। आप अपने अतीत से अपने कार्यों को पूरा करने में सक्रिय रहेंगे। आप अपने व्यक्तिगत सौंदर्य और आदतों पर खर्च करेंगे। 

आप अपने व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में भी सब कुछ व्यवस्थित करने का प्रयास करेंगे। जो लोग नई नौकरी की तलाश कर रहे हैं उन्हें स्थापित कंपनियों से कुछ अवसर प्राप्त होंगे। काम करने वालों को अपने कौशल को साबित करने और अपने संबंधित संगठन में पहचान बनाने का मौका मिलेगा। व्यवसायियों को फलदायी परिणाम देखने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना होगा। आपको विकास और विस्तार के लिए अपनी रणनीतियों और कौशल का पुनर्मूल्यांकन करना होगा।

गोचर के उपायः शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करें और देवता को सिंदूर चढ़ाएं।

कुंभ राशि

बता दें कि कुंभ राशि के जातकों के लिए वक्री शनि का मकर राशि में गोचर 12वें भाव में होगा । इस वक्री गोचर के दौरान कुंभ राशि के लिए साढ़े साती का पहला चरण शुरू होने जा रहा है। इस शनि गोचर के दौरान शनि वक्री होकर पहले भाव से बारहवें भाव में गोचर करने जा रहा हैं।

यह अवधि उन लोगों के लिए अच्छे अवसर लेकर आएगी जिनके काम या अवकाश के लिए विदेश यात्रा करने का सपना पहले पूरा नहीं हुआ था। साथ ही, जो लोग विदेशी कंपनियों या विदेशी ग्राहकों के साथ काम कर रहे हैं, उन्हें कुछ सफलता और विकास के दृष्टिकोण दिखाई देंगे। 

स्वास्थ्य की दृष्टि से यह समय अनुकूल नहीं रहेगा और शरीर के निचले हिस्से में दर्द होने की संभावना रहेगी। आपके पैरों में चोट और कोन होने का खतरा रहेगा। इस दौरान कोई रोग फिर से शुरू होने की संभावना है। आप इस अवधि के दौरान पैसे बचाने में अच्छे होंगे क्योंकि आप पैसे खर्च करने में कंजूस होंगे।

गोचर के उपायः शनिवार की शाम को सरसों का तेल और काली दाल का दान करें।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए शनि एकादश भाव का स्वामी होता है और यह आय लाभ और व्यय का स्वामी होता है। इस अवधि में शनि हानि भाव से लाभ भाव में गोचर करेगा। वक्री गति में बारहवें से ग्यारहवें भाव में यह संक्रमण वित्त की दृष्टि से अनुकूल रहेगा। 

व्यक्तिगत जीवन में आप कई संसाधनों से धन प्राप्त करने में सक्षम होंगे। अतीत के आपके निवेश में  इस समय के दौरान अच्छे परिणाम लाने की संभावना है। सैनिकों को कुछ महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर काम करने का अवसर मिलेगा जिससे उनकी प्रोफाइल में सुधार होगा।

 व्यवसायियों जीवन में  अपने उत्पादों और सेवाओं के प्रचार के लिए यात्रा करनी पड़ सकती है। यह अवधि आपके शौक को आपके करियर में बनाने और उसी से अच्छी कमाई करने के लिए शक्तिशाली है। आपके प्रयास आगे चलकर सार्थक परिणाम देंगे।

गोचर के उपाय: सूर्यास्त के बाद शाम को कम से कम 108 बार शनि मंत्र “ॐ शं शनिचरय नमः” का जाप करें।

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 1,767 

WhatsApp

Posted On - June 29, 2022 | Posted By - Moni Pal | Read By -

 1,767 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation