ईशान कोणः जानें क्या होता है ईशान कोण का अर्थ और महत्व

ईशान कोण
WhatsApp

ज्योतिष शास्त्र में वास्तु शास्त्र काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार जातक अपने घर की सभी परेशानियों को दूर कर सकता है। लेकिन कई बार वास्तु दोष के कारण जातक को अपने जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसी के साथ वास्तु अनुसार प्रमुख रूप से 8 दिशाएं होती हैं। उत्तर, पूर्व, दक्षिण और पश्चिम के अलावा अन्य दिशाओं को आग्नेय, नैऋत्य, वायव्य और ईशान कोण दिशा के रूप में जाना जाता है। साथ ही इन सभी दिशाओं का अपना अलग-अलग महत्व होता है। लेकिन ईशान कोण इन सब दिशा में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। 

आपको बता दें कि वास्तव में इस दिशा को काफी पवित्र दिशा मानी जाती है। ईशान कोण में बेडरूम बनना शुभ नही माना जाता है। सभी दिशाओं में इस दिशा को सबसे पवित्र और विशेष माना जाता है। इसीलिए घर के इस कोने का विशेष महत्व होता है। चलिए जानते हैं कि ईशान कोण का क्या महत्व होता है और इस दिशा में बनाया से जातक को क्या लाभ होता है-

यह भी पढ़ें-महावीर जयंती 2022: कब है 2022 में महावीर जंयती और इसका महत्व

वास्तु शास्त्र का महत्व

वास्तु शास्त्र में सभी दिशाएं महत्वपूर्ण होती है और दिशाओं की महत्वपूर्णता को ध्यान में रखते हुए घर या अन्य चीजों का निर्माण करना बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। अगर जातक वास्तु नियमों का पालन करके अपना घर या अन्य चीजों का निर्माण करता है, तो उससे जातक को लाभ होता है। लेकिन वास्तु दोष के कारण जातक को कई तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। बता दें कि जब जातक वास्तु नियमों का पालन नहीं करता है,तो उसे वास्तु दोष का सामना करना पड़ता है इसीलिए वास्तु शास्त्र काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।

बहुत से लोग वास्तु नियमों के अनुसार अपने घर में चीजों को सही दिशा के अनुसार रखते है। ताकि उन्हें वास्तु दोष का सामना ना करना पड़े। वास्तु नियम जातक के जीवन में खुशियां लाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ईशान कोण का महत्व

वास्तु शास्त्र में ईशान कोण काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि इसे सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र दिशा मानी जाती है। इसी के साथ सभी देवी देवताओं का निवास धरती के ईशान कोण में होता है। आपको बता दें कि ईशान कोण को भगवान शिव की दिशा भी माना जाता है। बता दें कि ईशान कोण जमीन के उत्तर-पूर्व कोने को कहा जाता है। साथ ही वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर और पूर्व दिशा काफी शुभ मानी जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि इस कोण पर देवी-देवताओं और आध्यात्मिक शक्ति का वास होता है। इसलिए घर की इस दिशा का सबसे पवित्र माना जाता है।

आपको बता दें कि ईशान कोण में मौजूद बैडरूम जातक के लिए सही नही माना जाता है। खासकर इस दिशा में मौजूद बैडरूम शादीशुदा जोड़ों के लिए बिल्कुल भी सही नहीं माना जाता है। आपको बता दें कि ईशान कोण यानी उत्तर-पूर्व दिशा के अंदर अंडर ग्राउंड वाटर टैंक का निर्माण करवाया जा सकता है। इसी के साथ बैठक या अतिथि कक्ष बनाने के लिए ईशान कोण की दिशा काफी शुभ मानी जाती है।

घर का ईशान कोण कैसा होना चाहिए

जल का प्रबंधन

आपको बता दें कि ईशान कोण में जल का प्रबंधन करना काफी उत्तम माना जाता है। साथ ही घर की इस दिशा में आप हेडपंप लगवा सकते हैं। साथ ही आप इस दिशा में मटका या पानी का घड़ा भरकर भी रख सकते हैं। वहीं इस दिशा में जल की स्थापना करना शुभ माना जाता है।

पूजाघर की स्थापना

ईशान कोण को पवित्र स्थान माना जाता है। इस दिशा में पूजाघर की स्थापना कर सकते हैं। इससे जातक को लाभ होता है। और घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। 

घर का मुख्य द्वार

आपको बता दें कि घर का मुख्य द्वार ईशान कोण में होना शुभ माना जाता है। इसी के साथ अगर आपका घर ईशान मुखी है, तो यह काफी उत्तम माना जाता है। लेकिन आपको शौचालय, रसोईघर और बेडरूम को वास्तु अनुसार बनाना चाहिए।

तिजोरी के लिए सही दिशा

आपको बता दें कि ईशान कोण में तिजोरी रखना घर के लिए काफी अच्छा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि उत्तर ईशान कोण में तिजोरी रखने से घर की कन्या और और पूर्व ईशान में तिजोरी रखने से घर का पुत्र अधिक बुद्धिमान और प्रसिद्ध बनता है।

स्वच्छ और पवित्र 

आपको बता दें कि इस दिशा को काफी पवित्र माना जाता है। इसीलिए इस कोण को सदैव स्वच्छ और पवित्र रखना चाहिए।

 इस दिशा में मौजूद बेडरूम के प्रभाव

  • ईशान कोण में बेडरूम बनवाना उत्तम नहीं माना जाता।
  • विशेष रुप से शादीशुदा जोड़ों के लिए यह दिशा अशुभ होती है।
  • अगर किसी घर में ईशान कोण में बेडरूम बनाया जाता है, तो यह विवाहित जातकों के बीच में तनाव उत्पन्न करेगा।
  • शादीशुदा जोड़ों के लिए ईशाम कोण बिल्कुल सही नहीं होता है। क्योंकि इसके कारण उनकी शादी में तनाव उत्पन्न होता है।
  • यह तनाव शारीरिक और मानसिक दोनों प्रकार से शादीशुदा जोड़ों को कष्ट देता है।
  • इसी के साथ इस दिशा में लंबे समय तक सोना जातक के स्वास्थ्य पर अशुभ असर डालता है।
  • अगर आप अपना बेडरूम बनाने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको इस दिशा में बिल्कुल भी बेडरूम का निर्माण नहीं करना चाहिए।

ईशान कोण के विशेषताएं

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार इस दिशा को काफी पवित्र माना जाता है।
  • साथ ही ऐसा माना जाता है कि इस दिशा में भगवान का वास होता है, इसीलिए हमेशा इस दिशा को साफ और पवित्र रखना चाहिए।
  • ईशान दिशा उत्तर और पूर्व दिशा के बीच स्थित दिशा होती है। 
  • ईशान कोण के स्वामी बृहस्पति होते हैं इसीलिए इस दिशा में पीले रंग का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • अगर आप इस दिशा में पानी का घड़ा या पानी का बर्तन रखते हैं, तो वह लाभदायक साबित होता है।
  • इसी के साथ इस दिशा में बनाया पूजाघर जातक को लाभ देता है और उस घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।
  • साथ ही इस दिशा में तिजोरी रखने से जातक के धन में वृद्धि होती है।
  • वहीं इस दिशा में अगर घर का मुख्य द्वार होता है, तो घर में हमेशा खुशियां बनी रहती हैं।
  • इस दिशा में मुख्य द्वार मौजूद होने से घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं आती है। साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का वास रहता है।

ईशान कोण के दोष को इन उपायों से करें दूर।

  • अगर आपके घर में ईशान कोण दोष उत्पन्न हो गया है, तो आपको उस दिशा को खाली करके उस दिशा में पीतल के बर्तन में जल भरकर रख दें। पीतल का बर्तन का पानी नित्य बदलते रहना चाहिए।
  • ईशान दोष से छुटकारा पाने के लिए उस दिशा में तुलसी का पौधा लगाना चाहिए। और उसे रोज जल देना चाहिए
  • साथ ही इस कोने को शुद्ध और साफ सुथरा रखना चाहिए।

यह भी पढ़े-जानें कैसे उत्पन्न होता है नजर दोष और इसके अचूक ज्योतिषी उपाय

अधिक जानकारी के लिए आप Astrotalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 430 

WhatsApp

Posted On - April 6, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 430 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation