Chaitra Amavasya 2023: जानें चैत्र अमावस्या 2023 की तिथि, व्रत करने के लाभ और ध्यान रखने योग्य बातें

zodiac

हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को चैत्र अमावस्या के नाम से जाना जाता है। हिन्दू धर्म में इसका बहुत महत्व है और इस दिन स्नान, दान और अन्य धार्मिक कार्य किए जाते हैं। हर साल यह अमावस्या मार्च-अप्रैल के महीने में आती है और चैत्र अमावस्या 2023 (Chaitra Amavasya 2023) 21 मार्च, मंगलवार को मनाई जाएगी।

हिन्दू धर्म में चैत्र अमावस्या को बहुत ही शुभ दिन के रूप में जाना जाता है, क्योंकि इस दिन पितृ तर्पण आदि कार्य किए जाते है। इसी के साथ, इस दिन स्नान, दान और सामग्री दान जैसे धार्मिक और आध्यात्मिक कार्य किए जाते हैं। चैत्र अमावस्या को पितृ तर्पण जैसे अनुष्ठान करने के लिए भी जाना जाता है।

इस दिन लोग कौए, गाय, कुत्ते और यहां तक कि जरुरतमंद लोगों को भी भोजन कराते हैं। गरुड़ पुराण के अनुसार अमावस्या के दिन पितृ अपने वंशजों के पास जाते हैं और उन्हें वहां भोजन कराया जाता हैं। चैत्र अमावस्या 2023 (Chaitra Amavasya 2023) व्रत हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय व्रतों में से एक है। साथ ही अमावस्या व्रत या उपवास सुबह शुरू होता है और प्रतिपदा पर चंद्रमा के दर्शन करने के बाद समाप्त हो जाता है। चलिए इस लेख में आगे जानते है कि क्या होती है चैत्र अमावस्या और इसकी व्रत विधि का महत्व।

यह भी पढ़ें: जानें पूर्णिमा 2023 की तिथि सूची और पूर्णिमा व्रत का महत्व

चैत्र अमावस्या 2023: तिथि और समय

अमावस्या वह चंद्र चरण है, जब आकाश में चंद्रमा दिखाई नहीं देता है। बता दें कि संस्कृत में, “अमा” का अर्थ है “एक साथ” और “वस्या” का अर्थ है सहवास। हिंदू कैलेंडर के अनुसार 30 चंद्र चरण होते हैं, जिन्हें “तिथि” कहा जाता है।

जब चंद्रमा, सूर्य के बीच कोणीय दूरी के 12 डिग्री के भीतर होता है, तो उसे अमावस्या या बिना चांद के रूप में जाना जाता है। प्रतिपदा या अमावस्या तिथि संयोग के बाद सूर्य और चंद्रमा के बीच 12 डिग्री की कोणीय दूरी होती है और पूर्णिमा और अमावस्या के बीच की अवधि को कृष्ण पक्ष कहा जाता है। हिंदू कैलेंडर 2023 के अनुसार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष के दौरान आने वाली अमावस्या को चैत्र अमावस्या के नाम से जाना जाता है।

चैत्र अमावस्या तिथि और समय
चैत्र अमावस्या 202321 मार्च 2023, मंगलवार
चैत्र अमावस्या तिथि की शुरुआत21 मार्च 2023 रात 01ः47
चैत्र अमावस्या तिथि का समापन21 मार्च 2023 रात 10ः52

हिंदू संस्कृति में चैत्र अमावस्या का महत्व

चैत्र अमावस्या साल की पहली अमावस्या होती है, जो चैत्र के महीने में पहले आती है। यह बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण दिन माना जाता है, इसलिए इस दिन आध्यात्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि चैत्र अमावस्या पर भगवान विष्णु की पूजा करने से जातक के जीवन से दर्द, संकट और नकारात्मकता खत्म हो जाती है। पुराणों में कहा गया है कि इस शुभ दिन पर गंगा नदी में एक डुबकी लगाने से जातक के पाप और बुरे कर्म नष्ट हो जाते हैं।

हिंदू धर्म के लोग इस दिन अपने पूर्वजों के लिए श्राद्ध जैसे अनुष्ठानों करते हैं, जिसके कारण व्यक्ति को पितृ दोष से छुटकारा मिल जाता है। यदि आप भी जीवन में कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं, तो पितृ दोष आपके सभी कष्टों का कारण हो सकता है। इसके लिए आपको अपने पितरों की पूजा जरूर करवानी चाहिए।

यह भी पढ़ें: होली 2023 को शुभ बनाना चाहते हैं तो अपनी राशि के अनुसार चुने ये रंग, आएगा गुडलक

चैत्र अमावस्या व्रत का महत्व और धार्मिक अनुष्ठान

भारत देश की संस्कृति काफी समृद्ध और विविध है, जहां सभी त्यौहारों को बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। साथ ही अमावस्या के दिन कई पवित्र कार्य किए जाते हैं। इतना ही नहीं चैत्र अमावस्या का व्रत पितरों की मुक्ति के लिए किया जाता है और इस दिन किए जाने वाले अनुष्ठान नीचे दिए गए हैं:

  • सूर्योदय से पहले उठकर किसी पवित्र नदी, तालाब या सरोवर में स्नान करें। इसके बाद मंत्र और श्लोक पढ़ते हुए सूर्य देव को अर्घ या जल अर्पित करें।
  • इस शुभ दिन पर उपवास करें और जरूरतमंद लोगों को भोजन, वस्त्र और गाय का दान करें।
  • श्राद्ध के बाद ब्राह्मणों, जरुरतमंदों, गायों, कुत्तों, कौओं और छोटे बच्चों को भोजन कराएं।
  • शाम को पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीया जलाएं और आप शनि मंदिर में नीले फूल, काले तिल, काले वस्त्र, उड़द की दाल और सरसों का तेल भी चढ़ा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: होलिका दहन 2023 तिथि, होलिका दहन, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

चैत्र अमावस्या व्रत करने के लाभ

हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र अमावस्या चैत्र के महीने में आती है और इस दिन व्रत रखना हिन्दू संस्कृति में शुभ माना जाता है। साथ ही इस दिन जातक शांति और समृद्ध, स्वास्थ्य के लिए भगवान विष्णु की पूजा करते हैं और चैत्र अमावस्या 2023 के व्रत के कई लाभ हैं, जो नीचे दिए गए हैं:

  • इस शुभ दिन पर व्रत करने से जातक की सभी समस्याओं का नाश होता है और जीवन में शांति और सद्भाव आकर्षित होता है।
  • कहा जाता है कि इस दिन सभी के पूर्वज पृथ्वी पर भ्रमण करते हैं, इसलिए अमावस्या की रात को उनकी पूजा की जाती है और उन्हें जल, भोजन अर्पित किया जाता है।
  • इस दिन सभी नकारात्मक और बुरी आत्माओं से छुटकारा पाने के लिए आध्यात्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं।
  • अमावस्या के दिन आध्यात्मिक उपचार भी किया जाता है, जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें: मेष राशि में बन रहा है राहु-बुध संयोग, जानें साल 2023 में इसकी तिथि, समय और प्रभाव

चैत्र अमावस्या का ज्योतिषीय महत्व

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन चंद्रमा कमजोर माना जाता है। साथ ही इस दिन जन्मे जातकों की कुंडली में चंद्रमा कमजोर होता है और इसके प्रभाव से उनकी निर्णय लेने की शक्ति भी कमजोर होती है। ये जातक अधिक भावुक और आसानी से दूसरों से प्रभावित हो जाते हैं।

इस दिन चंद्रमा की पूजा करके कमजोर चंद्र दोष का निवारण किया जा सकता है। इसके साथ ही शिवलिंग की पूजा करने और जरुरतमंदों को दूध दान करने से चंद्रमा के शुभ फल की प्राप्ति होती है, इसलिए इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और पूजा आदि करने की विशेष सलाह दी जाती है। इससे नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है और जातक के अंदर सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है।

यह भी पढ़ें: इस पूजा विधि से करें महाशिवरात्रि 2023 पर भगवान शिव को प्रसन्न, मिलेगा मनचाहा वरदान

चैत्र अमावस्या 2023 पर इन बातों का ध्यान रखें

अमावस्या के दिन पूजा कक्ष और पूजा के सामान की सफाई न करें तो अच्छा होगा। अमावस्या का दिन भगवान की पूजा करने के लिए सबसे अच्छा दिन है और इसलिए इस दिन पूजा कक्ष को साफ करना अच्छा नहीं होता है। चैत्र अमावस्या 2023 से पहले पूजा कक्ष को साफ कर लें।

साथ ही, आपको इस दिन नाखून या बाल काटने से बचना चाहिए। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इस दिन बाल या नाखून नहीं काटने चाहिए, क्योंकि यह शुभ नहीं होता है। इसी के साथ ज्योतिष विशेषज्ञ भी ऐसा न करने की सलाह देते हैं, क्योंकि यह आपको पितृ दोष के भयानक प्रभावों के अधीन कर सकता है। इस दिन नया सामान खरीदने और घर लाने की गलती भी नहीं करनी चाहिए।

विशेषकर इन बातों को न भूलें

  • इस दिन आपको किसी पशु, पक्षी या व्यक्ति को हानि नहीं पहुंचानी चाहिए, क्योंकि इसके कारण आपको पितृ दोष का सामना करना पड़ सकता है।
  • 2023 चैत्र अमावस्या के दिन धन का लेन-देन करने से बचना चाहिए।
  • इस दिन आपको प्रात: काल स्नान करने के बाद सूर्य देव को जल अर्पित करना चाहिए।
  • अपने मृत पूर्वजों के लिए दक्षिण दिशा में पितृ तर्पण करना चाहिए।
  • अमावस्या के दिन भगवान विष्णु की पूजा करें और शिवलिंग पर जल अभिषेक जरूर करें।
  • पितृ स्तोत्र या पितृ सूतक का पाठ करना चाहिए।
  • पीपल के पेड़ पर कच्ची लस्सी और गंगाजल अर्पित करना शुभ होता है। साथ ही पीपल के पेड़ पर काले तिल, शक्कर, चावल, जल और फूल भी चढ़ाने चाहिए।
  • 2023 में चैत्र अमावस्या के दिन आपको गाय को रोटी और हरा चारा देना चाहिए।
  • वहीं तुलसी की पूजा करना और उसके चारों ओर लाल धागा बांधना शुभ होता है।
  • इस दिन घर की उत्तर पूर्व दिशा में गाय के घी का दीपक जलाना चाहिए। साथ ही एक दीपक घर के मुख्य द्वार पर भी जलाएं।
  • पवित्रता और ब्रह्मचर्य का पालन जरूर करें।
  • इस दिन मांसाहार और शराब के सेवन से परहेज करें। साथ ही आपको शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए।
  • अमावस्या के दिन आपको सुनसान जगह पर नहीं जाना चाहिए।
  • किसी दूसरे की दी हुई सफेद रंग की चीजों का सेवन न करें। साथ ही इस दिन साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

2023 में चैत्र अमावस्या के दिन करें ये उपाय

चैत्र कृष्ण पक्ष अमावस्या को कहीं-कहीं भूत अमावस्या भी कहा जाता है। इस दिन गेहूं के आटे की छोटी-छोटी लोई बनाकर किसी नदी या जलाशय में डाल दें, जिसमें मछलियां हों। इससे जीवन से सारी नकारात्मकता दूर हो जाएगी।

  • आपको इस दिन पक्षियों को दाना खिलाना चाहिए। साथ ही चीटियों को चीनी और गेहूं का आटा खिलाना शुभ होता हैं।
  • जरुरतमंदों को अन्न, वस्त्र आदि दान करना चाहिए। जो लोग कालसर्प योग से पीड़ित हैं, उन्हें इस दिन पूजा करनी चाहिए।
  • कालसर्प योग की शांति के लिए शिवलिंग पर जल अभिषेक करें और नाग देव की पूजा करनी चाहिए।
  • चांदी के बने नाग जोड़े की पूजा करने के बाद कालसर्प योग की शांति के लिए, उसे बहते जल में प्रवाहित कर दें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 4,792 

Posted On - February 8, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 4,792 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation