क्यों झड़ते हैं बाल, जानें कुंडली में बाल झड़ने के योग

बाल झड़ने

आज लगभग हर दूसरा व्यक्ति बाल झड़ने की समस्या से ग्रस्त है। वही इस समस्या को रोकने के लिए बाजार में तरह-तरह की दवाइयां, तेल, शैंपू आदि मौजूद हैं। लेकिन उसके बाद भी यह परेशानी बंद नहीं होती हैं। इसका कारण आपकी कुंडली में ग्रहों की दशा हो सकती है। जी हां, ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बालों का ग्रहों से काफी गहरा संबंध होता है। ग्रहों की दशा व्यक्ति के बालों पर अच्छा या बुरा प्रभाव डाल सकती हैं।

आपको बता दें कि राहु ग्रह का सीधा संबंध बालों से होता है। और राहु ग्रह का कमजोर होना बालों के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं होता है। इसीलिए अगर आपकी कुंडली में राहु की दशा सही नहीं है, तो आपको बाल गिरने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। और यह समस्या तब तक जारी रहेगी। जब तक कि राहु की दशा आपकी कुंडली में सही ना हो जाए।

यह भी पढ़े – अपनी हाथ की रेखाओं से कैसे जाने की कितनी संतान होगी

इसी के साथ अगर राहु किसी व्यक्ति की कुंडली में धनु या वृश्चिक स्थान पर विराजमान होता है, तो यह बालों के लिए बिल्कुल भी सही नहीं होता। इसके कारण व्यक्ति को बालों से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। व्यक्ति के बाल झड़ने लग जाते हैं। किसी जातक की कुंडली में राहु की दशा सही ना होने से व्यक्ति को बालों से जुड़ी और भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़े – जाने कैसे रखे अपनी राशि के अनुसार बाल, होगा काफी फायदेमंद

ज्योतिष में बाल झड़ने के कारण

  • किसी भी जातक की कुंडली में जब राहु, सूर्य के साथ मौजूद होता है। तब जातक को बाल और आंख से जुड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है।
  • इसी कारण व्यक्ति के बाल झड़ने भी शुरू हो जाते हैं।
  • किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य नीच राशि में मौजूद होता है। तब व्यक्ति को बालों से जुड़ी परेशानी होती है।
  • सूर्य किसी भी व्यक्ति की कुंडली के छठे या आठवें भाव में होता है। तब व्यक्ति को बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं।
  • सूर्य ग्रह, राहु और केतु के साथ होने से पीड़ित हो जाता है। तब व्यक्ति को गंजेपन का सामना करना पड़ता है।
  • ग्रहों की दशा व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है।
  • ग्रह की दशा का सीधा असर व्यक्ति के बालों पर भी पड़ता है।
  • वहीं सूर्य पर राहु की दृष्टि होने से हेयर फॉल की समस्या ज्यादा बढ़ जाती है।
  • जब व्यक्ति की कुंडली में शनि नीच राशि में हो या फिर छठे, आठवें भाव में मौजूद होने से हेयर फॉल होता है।
  • इसी कारण व्यक्ति को हेयर फॉल जैसी समस्या से गुजरना पड़ता है।
  • बुध ग्रह को त्वचा का कारक माना जाता है।
  • बुध ग्रह नीच राशि में हो या फिर छठे, आठवें भाव में स्थित हो। तब व्यक्ति को हेयर फॉल होता है।
  • हेयर फॉल की समस्या अति गंभीर तब होती है। जब सूर्य अधिक पीड़ित हो जाता है।

यह भी पढ़े – Sakat chauth 2022: जाने सकट चौथ से जुड़ी महत्त्वपूर्ण जानकारी

ज्योतिषि में बाल झड़ने से रोकने के उपाय 

  • जब बालों पर दवाइयां, तेल, शैंपू आदि असर करना बंद कर दें, तो इसका कारण ग्रह दशा हो सकती है।
  • ग्रह दशा सही ना होने के कारण बाल झड़ने लगते है।
  • हेयर फॉल समस्या को रोकने के लिए सूर्य को प्रतिदिन तांबे के पात्र से जल देना चाहिए।
  • बालों के लिए सूर्य सबसे महत्वपूर्ण ग्रह होता है। इसीलिए इसका शुभ होना बेहद जरूरी होता है।
  • बाल झड़ने की समस्या को रोकने के लिए व्यक्ति अपनी अनामिका उंगली में तांबे का छल्ला धारण कर सकता है।
  • इसी के साथ आपको किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलाह से ही माणिक रत्न धारण करना चाहिए।
  • हेयर फॉल की समस्या में राहु ग्रह काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसीलिए रोजाना पक्षियों को दाना डालें।
  • वहीं आपको हर शनिवार साबुत उड़द दाल को दान करना चाहिए।
  • आपको हर शनिवार पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दिया जलाना चाहिए।
  • इसी के साथ हेयर फॉल समस्या से छुटकारा पाने के लिए ऊं राम राहवे नम: मंत्र का जाप करें।

यह भी पढ़े – Makar sankranti 2022: इस मकर संक्रांति बन रहा है, अद्भुत संयोग

अधिक जानकारी के लिए आप AstroTalk के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 8,367 

Posted On - January 13, 2022 | Posted By - Jyoti | Read By -

 8,367 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

21,000+ Best Astrologers from India for Online Consultation