Shankar Mahadevan Birthday: जानें शंकर महादेवन की कुंडली में ग्रहों और योगों के बारें में, जिन्होंने उन्हें एक अद्भुत संगीतकार बनाया

शंकर महादेवन की कुंडली का विश्लेषण

संगीत एक ऐसी चीज है, जिससे हम सभी अपनी भावनाओं और सामाजिक मतभेदों के बावजूद भी इससे जुड़ाव महसूस करते हैं। संगीत के प्रति लोगों का उत्साह और प्रेम के कारण हमारे भारत में कई महान गायक हैं, जिनके गीतों ने हमेशा हमारी स्पोटिफाई प्लेलिस्ट और संगीत डीवीडी को बरकरार रखा है और इन महान गीतकारों में से एक शंकर महादेवन भी है। एक ब्रेथलेस गीत के साथ शंकर महादेवन ने कवि-गीतकार जावेद अख्तर के साथ अपनी संगीतमय सफलता हासिल की। इसके बाद यह भारत द्वारा निर्मित सबसे अधिक पहचाने जाने वाले गीतों में से एक के रूप में विकसित हो गया।

शंकर महादेवन पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे। लेकिन उन्होंने संगीत के प्रति अपने जुनून के कारण संगीत व्यवसाय में प्रवेश किया। वह वर्तमान में निम्नलिखित भाषाओं में गाने गाते हैं: जैसे हिंदी, तमिल, मलयालम, कन्नड़, तेलुगु, मराठी और कर्नाटक। एहसान नूरानी और लॉय मेंडोंसा के साथ उनका सहयोग एक सिनेमा संगीतकार के रूप में उनके लिए एक और बड़ी सफलता है। इन्होंने मिशन कश्मीर, कल हो ना हो और विश्वरूपम जैसी फिल्मों के लिए गीत तैयार किया, जिससे दर्शकों ने काफी जुड़ाव महसूस किया। भारत में सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले संगीतकारों में से एक होने के नाते, उन्होंने म्यूजिक जगत में कई एल्बम्स पर भी काम किया है, जिन्होंने सफलता के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

आइए उनकी कुंडली का बारीकी से विश्लेषण करते हैं और कुंडली में मौजूद ग्रहों और योगों के बारे में जानते है, जिन्होंने उन्हें सॉफ्टवेयर इंजीनियर से एक मशहूर संगीतकार बनने में मदद की।

यह भी पढ़े: क्या सिद्धार्थ मल्होत्रा ​​2023 में होंगे प्यार और करियर में भाग्यशाली? जानिए ज्योतिषियों की भविष्यवाणी

शंकर महादेवन का करियर

केरल के पल्लकड़ के एक तमिल अय्यर परिवार में पैदा हुए शंकर का पालन-पोषण मुंबई के चेंबूर में हुआ था। उन्होंने बचपन में कर्नाटक संगीत का अध्ययन करना शुरू किया और वह पांच साल की उम्र में वीणा बजाने में सक्षम हो गए। कंप्यूटर विज्ञान में डिग्री हासिल करने के बाद, वह ओरेकल में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर के रूप में शामिल हो गए।

साल 1998 में रिलीज़ हुई म्यूजिकल एल्बम ने उन्हें म्यूजिक जगत में सफलता दिलाने में काफी मदद की। शीर्षक ट्रैक ब्रेथलेस, जो बिना किसी छंद या विराम के लगभग तीन मिनट लंबा है, को ध्वनि के लिए डिज़ाइन किया गया था जैसे उन्होंने एक सांस में गाया था।

अपने गीत कंदुकोंदैन के लिए शंकर ने साल 2000 में पार्श्व गायन के लिए अपना पहला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता। इसके बाद उन्होंने खुद को तमिल सिनेमा में एक प्रतिभाशाली संगीतकार के रूप में स्थापित किया। इसके बाद से उन्होंने एआर रहमान जैसे जाने-माने संगीतकार और विविध शैलियों के गायकों के साथ काम किया है। इसके अलावा, उन्हें फ्यूजन-जैज ग्रुप सिल्क के साथ काफी सफलता मिली। उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार के अलावा फिल्मफेयर, स्टार स्क्रीन और येसुदास पुरस्कार भी मिले है।

यह भी पढ़े: जानिए कोच राहुल द्रविड़ की कुंडली उनके और टीम इंडिया के बारे में क्या बताती है

ग्रह दशा जिसने उनकी सफलता में निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

केतु महादशा

जब शंकर महादेवन का ब्रेथलेस गीत रिलीज हुआ था, तब वे केतु महादशा काल में थे। उनके आध्यात्मिक विकास और ज्ञान को इस समय काफी सहायता मिली थी। इससे उन्हें काफी धन भी प्राप्त हुआ। यह समय सीमा दर्शाती है कि विकास इनके सभी क्षेत्रों में हुआ है, विशेष रूप से करियर में। केतु महादशा में अपने समय के दौरान, उन्होंने नई ऊंचाइयों को प्राप्त किया। उन्होंने कई पुरस्कार प्राप्त किए और वह केतु महादशा के दौरान अपने जीवन में एक बहुत ही उच्च बिंदु पर थे। इस दौरान उन्होंने कई संगीतकारों के साथ काम किया और प्रसिद्धि प्राप्त की।

शुक्र महादशा

उसके बाद, उन्होंने शुक्र महादशा अवधि का अनुभव किया। उन्होंने इस दशा अवधि के दौरान एक महत्वपूर्ण स्थान और अधिकार प्राप्त किया। जैसे-जैसे दशा का समय आगे बढ़ता गया, उन्हें और अधिक आगे बढ़ने से लाभ हुआ और उन्हें वित्तीय सुरक्षा भी प्राप्त हुई। इस दशा काल में उन्हें प्रेम भी हो गया और उन्होंने विवाह कर लिया। शुक्र दशा अवधि बताती है कि उनके रिश्ते स्थिर होंगे और प्यार की प्रचुरता होगी।

चंद्रमा महादशा

वर्तमान में, वह अपनी चंद्रमा महादशा अवधि में है। चंद्रमा की महादशा सकारात्मक स्थिति में होने पर उन्हें संतुष्टि महसूस होगी। चंद्रमा महादशा के प्रभाव के कारण, उन्हें कई सकारात्मक परिणाम मिलने की संभावना है। इस दौरान उनके जीवन में कई सकारात्मक चीजें और अच्छे संबंध स्थापित हो सकते हैं। वह वर्तमान में सा रे गा मा पा में जज के रूप में दिखाई दे रहे हैं और कई प्रोजेक्ट्स पर भी काम कर हैं।

शंकर महादेवन की कुंडली के महत्वपूर्ण योग और ग्रह

इनका जन्म 3 मार्च, 1967 को चेम्बूर, मुंबई, महाराष्ट्र में दोपहर 02:00 बजे हुआ था। शंकर महादेवन की कुंडली में ग्रहों की स्थिति उनके और उनके पेशे के विकास के बारे में बहुत कुछ बताती है।

उनकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति 

बुध ग्रह

कुम्भ राशि का ग्रह बुध इनकी कुंडली के नवम भाव में है। उन्होंने सफलता का अनुभव किया, क्योंकि बुध ग्रह ने उन्हें कुंभ राशि के संरक्षण और नवम भाव में बुध ग्रह की युति का आशीर्वाद दिया था। इसी कारण, उन्होंने गायन के लिए एक अद्भुत प्रतिभा के साथ काम करते हुए कई साल बिताए। यही वजह है कि उनका करियर इतना सफल रहा।

शुक्र ग्रह 

10वां भाव, जो मीन राशि का प्रतिनिधित्व करता है, शुक्र ग्रह द्वारा शासित है। शुक्र इस भाव में युति कर रहा है, जो व्यक्तिगत रूप से उनके लिए एक अद्भुत करियर पथ को चित्रित करता है। इस स्थिति का तात्पर्य है कि वह अपने जीवन में जो कुछ भी काम करते है, उसमें काफी समर्पित होते है।

मंगल ग्रह

शंकर महादेवन की कुंडली के अनुसार उनका पंचम भाव तुला राशि के अंतर्गत आता है और इसमें मंगल ग्रह भी स्थित है। इसके कारण, वह स्वाभाविक रूप से अत्यधिक उत्पादक और लगातार आगे बढ़ने रहने की क्षमता रखते है। इसके अलावा, वह अपने जीवनकाल में सम्मानजनक धन प्राप्त करते हैं। उनके पास तीव्र बुद्धि है और उन्हें जीवन भर एक अच्छी शिक्षा का आशीर्वाद मिला है।

यह भी पढ़ें: क्या साल 2023 में शहनाज़ गिल को मिलेंगी करियर में बड़ी सफलता? जानिए ज्योतिषी भविष्यवाणी

योग जिन्होंने उनके जीवन पर अपना प्रभाव डाला

लोगों ने शंकर महादेवन को उनके विनम्र स्वभाव और संगीत के लिए हमेशा प्यार दिया है। आइए उन योगों पर एक नजर डालते हैं और देखते हैं कि यह योग उनके जीवन को कैसे प्रभावित करते है।

सुनफा योग

सुनफा योग ने उन्हें एक अच्छा आचरण प्रदान किया है, जिसे अनदेखा करना मुश्किल है। इसके अलावा, इस योग ने उनके सौभाग्य और बुद्धिमान जीवन निर्णयों में सहायता की। साथ ही कुंडली में सुनफा योग ने उन्हें प्रसिद्धि, समृद्धि और गौरव भी प्रदान किया।

अधि योग

अधि योग स्वयं को एक दयालु और विश्वसनीय व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत करता है। उनका उत्साही व्यवहार उन्हें दूसरों के बीच लोकप्रिय बनाता है। उनकी कुंडली में इस योग के कारण उनका जीवन समृद्ध बना रहा और संगीतकार के पास काफी धन संपत्ति भी रही।

मालव्य योग

मालव्य योग ने उन्हें एक अच्छी और समर्पित पत्नी प्रदान की। इसके अलावा, यह पेशेवर सफलता, आरामदायक जीवन और राष्ट्रीय प्रसिद्धि के साथ एक शानदार जीवन सुनिश्चित करता है। उनका असाधारण करियर उनकी उत्कृष्ट सफलता का कारण बनता है, क्योंकि शंकर महादेवन की जन्म कुंडली में मालव्य योग मजबूत है। इसलिए यह उनकी कुंडली के सबसे महत्वपूर्ण योगों में से एक है।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 2,259 

Posted On - March 2, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 2,259 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

21,000+ Best Astrologers from India for Online Consultation