Saina Nehwal Birthday: जानें साइना नेहवाल की सफलता के पीछे के योग और ग्रह

साइना नेहवाल की कुंडली का विश्लेषण (Saina Nehwal Kundli analysis)
WhatsApp

अपने करियर के दौरान दूसरों को प्रेरित करते हुए, शटलर कही जानें वाली साइना नेहवाल ने कई पुरस्कार जीते हैं। जब लोग भारत में सबसे प्रसिद्ध बैडमिंटन खिलाड़ियों के बारे में बात करते हैं, तो साइना नेहवाल का नाम भी उस फेरिस्त में शामिल होता हैं। साइना नेहवाल उन प्रमुख लोगों में से एक हैं, जिन्होंने राष्ट्र में खेल को लोकप्रियता हासिल करने में मदद की और भारत का सबसे बड़े प्लेटफार्मों पर प्रतिनिधित्व किया है। साइना नेहवाल को राष्ट्र में उनके योगदान का सम्मान देने के लिए उनकी जीवनी पर एक फिल्म भी बनाई गई है।

वह भारत की शीर्ष महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों में से एक है। राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में, साइना नेहवाल पहली महिला थीं, जिन्होंने स्वर्ण पदक जीता था। चलिए इनकी कुंडली की दशा और ग्रह योगों के बारे में जानते है, जिनके कारण एक खिलाड़ी के रूप में इनका नाम बड़े ही सम्मान से लिया जाता हैं। 

साइना नेहवाल की 5 सबसे बड़ी उपलब्धियां

नई दिल्ली ने साल 2010 में प्रतियोगिता की मेजबानी की, जो साइना के लिए एक बड़ी सफलता थी। भारतीय शटलर कही जानें वाली साइना इसको लेकर काफी चिंतित थी, क्योंकि लाखों समर्थक स्वर्ण जीतने के लिए उन पर नजरें टिकये थे।

उन्होंने चैंपियनशिप मैच में मेव चू वोंग (एक मलेशियाई खिलाड़ी) को 19-21, 23-21 और 21-13 के स्कोर से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। स्वर्ण पदक जीनते का जश्न मनाने की जगह साइना ने फाइनल में जानें के लिए कठिन परिश्रम शुरू कर दिया। साइना नेहवाल ने अपने प्रतिद्वंद्वी को हराने के बाद और देश को 38वां स्वर्ण पदक जीतया था। 

यह भी पढ़ें: मांगलिक दोष से बिलकुल न डरें, ज्योतिष अनुसार जानें मंगल दोष के बारे में सब कुछ और इससे मुक्त होने के उपाए

गोल्ड 2010 कॉमनवेल्थ

साइना नेहवाल कॉमनवेल्थ गेम्स से स्वर्ण पदक लेने वाली पहली महिला थीं। यह प्रतियोगिता 2010 में नई दिल्ली, भारत में थी। भारतीय खिलाड़ी इस समय बहुत दबाव में थी, क्योंकि उनका स्वर्ण पदक लाखों लोगों के समर्थन पर निर्भर था।

2012 में ओलंपिक कांस्य

साइना नेहवाल ने साल 2012 के लंदन ओलंपिक में इतिहास रचा था, क्योंकि वह पहली महिला बैडमिंटन खिलाड़ी थी जो ओलंपिक में कांस्य पदक जीती थी। उन्होंने डच याओ जी को 21-15, 22-20 सेमीफाइनल में हराया और कांस्य पदक अपने नाम कर लिया था।

2014 में चीन ओपन गोल्ड

चीनी बैडमिंटन खिलाड़ी अविश्वसनीय रूप से प्रतिभाशाली होते हैं उन्हें हराना थोड़ा मुश्किल होता है। साइना नेहवाल ने जापान के एकेन यामेग्यूची को चीन ओपन सुपरसीरीज में हराकर स्वर्ण पदक जीत लिया था।

2015 में BWF विश्व चैंपियनशिप सिल्वर

रजत पदक जीतने और 2015 में बी डब्ल्यू एफ (BWF) विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में जाने के कारण साइना ने भारत की पहली महिला बैडमिंटन खिलाड़ी के रूप में एक बड़ा इतिहास रचा। हैदराबाद के जकार्ता फाइनलिस्ट को कैरोलिना मारिन में एक कठिन चुनौती का सामना करना पड़ा।

राष्ट्रीय पुरस्कार

साइना को साल 2016 में भारत का तीसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान यानि पद्म भूषण दिया गया। 2009 में, उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न और अर्जुन अवार्ड्स भी दिए गए। शटलर को 2010 में एक पद्म श्री भी मिला। कई भारतीय किशोरों ने बैडमिंटन को लोकप्रिय बनाने और लोगों को खेल के लिए प्रोत्साहित करने का श्रेय साइना नेहवाल को दिया।

यह भी पढ़ें: जानें क्या होता है मूल नक्षत्र और इससे जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी

साइना नेहवाल की कुंडली में सफल ग्रह दशाएं

हारिर सिंह नेहवाल और उषा रानी नेहवाल की बेटी, साइना नेहवाल का जन्म 17 मार्च, 1990 को दोपहर 02:00 बजे, भारत के हिसार में हुआ था।

बुध महादशा

2006 में, नेहवाल ने अपना दूसरा भारतीय एशियाई सैटेलाइट टूर्नामेंट जीता और अंडर -19 नेशनल चैंपियन का खिताब भी हासिल किया। साथ ही इन्होंने 16 साल की उम्र में 4-स्टार इवेंट जीता, जिसके कारण यह भारतीय इतिहास की पहली भारतीय महिला और एशिया की सबसे कम उम्र के एथलीट के रूप में जानी जाती हैं। साइना उस समय अपनी बुध महादाश में थी। यह दशा जातक के जीवन में खुशी और समृद्धि का प्रतिनिधित्व करती है। इसके कारण जातक सम्मानजनक धन और प्रसिद्धि प्राप्त करता है। इसके कारण उन्हें अपने आसपास के सभी लोगों से सम्मान मिला और वह एक उच्च स्थिति में पहुंच गई।

इसके अलावा, इस दौरान इन्होंने सबसे बड़ी जीत हासिल की। वह कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला बनीं। उन्होंने चीन ओपन सुपर सीरीज़ में गोल्ड मेडल जीतने के लिए चैंपियनशिप मैच में जापान के एकेन यामेग्यूची को हराया। 2015 में, उन्होंने भारत की पहली महिला बैडमिंटन खिलाड़ी के रूप में इतिहास बनाया और रजत पदक हासिल किया और बी डब्ल्यू एफ विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची। इसके अतिरिक्त, इन्होंने इस समय पद्म भूषण भी प्राप्त किया था।

यह भी पढ़ें: क्या होता है जन्म राशि का जीवन में प्रभाव, क्या है जन्म राशि तथा नाम राशि में फर्क

केतु महादशा

वह इस समय अपने जीवन में केतु महादशा में है। केतु इनकी कुंडली के पहले भाव में है। इसके परिणामस्वरूप यह चिंता के कुछ स्तर को महसूस कर सकती है। हालांकि, आध्यात्मिक प्रभावों की देख−भाल करके वह अपने जीवन में अच्छा करेंगी। इसके अलावा, असुरक्षित या समझौता करने वाली स्थितियों से बचने से, वह इन परिणामों से छुटकारा पा सकती है और नियंत्रित कर सकती है।

साइना नेहवाल की कुंडली में महत्वपूर्ण ग्रह

सूर्य ग्रह 

इनकी कुंडली में नौवें भाव में मीन राशि में सूर्य है। नौवें भाव में सूर्य का स्थान सौभाग्य को दर्शाता है। वह अविश्वसनीय रूप से भाग्यशाली है और वह समर्पित भी है। ये गुण उन्हें जीवन भर लाभान्वित करेंगे और उन्हें भाग्य प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, वह अपनी किस्मत और भाग्य के कारण कई चीजों से लाभान्वित होगी।

शुक्र ग्रह

शुक्र ग्रह इनकी कुंडली में मकर राशि के साथ है, जो इनके चार्ट में सातवें भाव में है। इस संयोजन के साथ, वह शायद अपने करियर को बहुत आनंद के साथ आगे बढ़ाएगी। वह अपने जीवन में खुशी प्राप्त कर सकती हैं। लेकिन यह उन प्रयास पर भी निर्भर करता है, जो वह अपने करियर में करती है।

यह भी पढ़ें: ज्योतिष अनुसार जानें सफलता योग का महत्व और जीवन में सफल होने के उपाय

मंगल ग्रह

इनके चार्ट में मकर राशि के सातवें भाव में मंगल ग्रह है। मकर भाव में मंगल की नियुक्ति का मतलब है कि वह अपने सफल पेशे का आनंद ले सकती है। वह अपने ज्ञान के परिणामस्वरूप सफलतापूर्वक खुद को विकसित कर सकती है। यह अपने ज्ञान के कारण जीवन मे काफी आगे तक जा सकती है और सफलता प्राप्त कर सकती हैं।

उनकी कुंडली में महत्वपूर्ण योग

वेशि योग

वेशि योग साइना के बारे में कुछ पेचीदा पहलुओं को उजागर करता है। साइना नेहवाल काफी भाग्यशाली जातक है, क्योंकि चीजें लगातार उनके पास आती हैं। वह अपने आसपास के सभी लोगों को खुश करने का प्रयास करने के लिए भी जानी जाती है। वह अपनी विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए नैतिक कार्य करती है। यह योग इंगित करता है कि वह अपनी नैतिकता को बनाए रखती हैं और किसी भी प्रकार के संदेह को प्रोत्साहित नहीं करती।

यह भी पढ़ें: लाल किताब के इन उपाय से दूर करें केतु दोष

रूचक योग

रूचक योग कई उत्कृष्ट गुणों को सशक्त बनाता है। इसके कारण वह शारीरिक रूप से अत्यधिक फिट होगी। साथ ही लंबे समय के लिए वह प्रसिद्धि का आनंद लेगी। यह स्वाभाविक रूप से भारतीय संस्कृति बोलती है।

यह भी पढ़ें: परिवर्तन राजयोग बदल सकता है आपकी किस्मत, जानें इससे जुड़ी सारी जानकारी

बुधादित्य योग 

बुधादित्य योग के अनुसार, वह बहुत बुद्धिमान जातक है। वह अपनी क्षमताओं को लगातार विकसित करती रहेगी। उनके पास एक सकारात्मक आत्म-अवधारणा भी होगी। उनके समकालीन और आसपास के लोग उनकी प्रशंसा कर सकते हैं। साथ ही इनके जीवन जीने का तरीका काफी अच्छा है और यह अपनी बुद्धि का सही उपयोग भी करती हैं।

अधिक के लिए, हमसे Instagram पर जुड़ें। अपना साप्ताहिक राशिफल पढ़ें।

 385 

WhatsApp

Posted On - March 16, 2023 | Posted By - Jyoti | Read By -

 385 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation