मंगल गोचर से कोरोना का कहर होगा कम, जानें आपकी राशि पर क्या होगा असर

मंगल गोचर से कोरोना का कहर होगा कम, जानें आपकी राशि पर क्या होगा असर

मंगल गोचर

मंगल ग्रह का गोचर, 4 मई 2020 को रात्रि 9 बजकर 4 मिनट पर कुंभ राशि में होगा। वर्तमान समय में मंगल का यह गोचर दुनिया में कई बदलाव लेकर आ सकता है। मंगल अग्नि तत्व प्रधान ग्रह है और इसका गोचर वायु तत्व प्रधान राशि कुंभ में हो रहा है। इस से पर्यावरण पर भी प्रभाव पड़ेगा मौसम में गर्मी दर्ज की जा सकती है। 

अब मंगल ग्रह शनि के प्रभाव से भी दूर होगा क्योंकि यह मकर राशि में शनि ग्रह के साथ स्थित था, जिसके कारण हर कोई खुद को प्रतिबंधित महसूस कर रहा था, अब लोगों को इन प्रतिबंधों से मुक्ति मिल सकती है। इसके साथ ही यह गोचर लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाएगा। इसके साथ ही लोगों के बीच संचार भी मंगल के इस गोचर से बढ़ेगा। 

तो आईए जानते हैं कि मंगल के कुंभ राशि में इस गोचर का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

मंगल गोचर का मेष राशि पर प्रभाव 

मेष राशि का स्वामी ग्रह मंगल उनके एकादश भाव में गोचर करेगा। मंगल की इस स्थिति से आपकी ऊर्जा को बल मिलेगा और आप बंदिशों को तोड़कर अपने लक्ष्यों को पाने की ओर बढ़ेंगे। कार्यक्षेत्र में सहकर्मी आपका साथ देंगे जिससे अटके हुए काम भी पूरे हो जाएंगे। अपने शत्रुओं पर भी आप विजय प्राप्त कर सकेंगे। घर के सदस्यों के साथ बातचीत के दौरान शब्दों का सही इस्तेमाल करेंगे तो पारिवारिक जीवन भी सुखमय रहेगा। साथ ही कोरोना वायरस से बचाव के लिए आपको अपने आसपास सफाई बनाकर रखने की जरुरत है।  

मंगल गोचर का वृषभ राशि पर प्रभाव

वृषभ राशि के लोगों को मंगल के गोचर से जीवन में कई सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे। कल्पनाओं से बाहर निकलकर आप अपने कार्य पर ध्यान देंगे जिससे बिगड़े हुए काम भी बन जाएंगे। चूंकि गोचर आपके दशम भाव में हो रहा है इसलिए कार्यक्षेत्र में सफलता प्राप्त होगी। यदि नौकरी पेशा हैं तो मान-सम्मान बढ़ेगा। हालांकि इस गोचर काल में अपनी सेहत का आपको ध्यान रखना है, अपने भोजन और दिनचर्या पर ध्यान दें। 

मंगल गोचर का मिथुन राशि पर प्रभाव

इस ग्रह को नव ग्रहों में सेना नायक का दर्जा प्राप्त है, कुंभ राशि में गोचर के दौरान यह ग्रह आपमें भी नेतृत्व के गुण भरेगा। अपनी तार्किक बातों से आप लोगों को प्रभावित कर पाएंगे जिससे सामाजिक और निजी दोनों ही स्तरों पर आपको सफलता मिलेगी। हालांकि पारिवारिक जीवन में पिता के साथ आपके कुछ मतभेद हो सकते हैं इसलिए पिता के साथ वार्तालाप के दौरान मर्यादा में रहें। कोरोना वायरस के कारण परेशानियों से गुजर रहे इस राशि के कारोबारियों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं। 

मंगल गोचर का कर्क राशि पर प्रभाव

कर्क राशि के लोगों को इस गोचर काल में थोड़ा सावधान रहने की जरुरत है। आपकी छोटी सी लापरवाही भी इस दौरान बहुत बुरा असर कर सकती है। अपनी सेहत को दुरुस्त रखने के लिए इस अवधि में आपको योग-ध्यान का सहारा लेना चाहिए और संतुलित भोजन करना चाहिए। इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी जिससे आपको कोरोना वायरस से लड़ने में भी मदद मिल सकती है। गूढ़ विषय का अध्ययन कर रहे छात्रों के लिए अच्छा समय। 

मंगल गोचर का सिंह राशि पर प्रभाव

सिंह राशि के जातकों के सप्तम भाव में मंगल की स्थिति उनके दांपत्य जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव लेकर आ सकती है। बीती पुरानी बातों को लेकर आपका जीवनसाथी आप से लड़-झगड़ सकता है। ऐसे समय में आपको प्रतिक्रिया देने की बजाए शांत रहना चाहिए और स्थिति की गंभीरता को समझते हुए ही बात करनी चाहिए। जो लोग साझेदारी में कारोबार करते हैं उनके लिए समय ठीक-ठाक रहेगा, नौकरी पेशा लोगों को उन्नति मिलने की संभावना है।

मंगल गोचर का कन्या राशि पर प्रभाव

इस ग्रह का गोचर आपके षष्ठम भाव में होगा।  यह गोचर आपके लिए सामान्य रहेगा, सेहत के लिहाज से देखें तो यह समय अच्छा नहीं कहा जा सकता रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है इसलिए महामारी के इस काल में खुद को बचाए रखने के लिए योग करें और अत्यधिक भोजन करने से बचें। हालांकि आर्थिक पक्ष को मजबूत करने की आपकी कोशिशें कामयाब होंगी। नियम कानूनों का उल्लंघन ना करें नहीं तो किसी बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं।

मंगल गोचर का तुला राशि पर प्रभाव

आपकी राशि से गोचर पंचम भाव में होगा, यह भाव शिक्षा और संतान का भाव कहा जाता है। इस राशि के जो जातक नौकरी पेशा है उन्हें जॉब से संबंधित कोई भी फैसला बहुत सोच समझकर लेना चाहिए। यदि आप बदलाव करने की सोच रहे हैं तो अपने करीबी लोगों से विचार-विमर्श अवश्य करें। संतान को लेकर भी इस राशि के जातकों को कुछ चिंताएं हो सकती हैं। अपने खर्चों पर नियंत्रण रखें और संचित धन का गैर जरूरी इस्तेमाल ना करें, तो यह गोचर आपके लिए अच्छा रहेगा।

मंगल गोचर का वृश्चिक राशि पर प्रभाव

वृश्चिक राशि के जातकों के चतुर्थ भाव में गोचर होगा। इस भाव में मंगल की स्थिति से आपकी माता के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है इसलिए उनका ध्यान रखना आपकी प्राथमिकता होनी चाहिए। ज़मीन जायदाद से जुड़े किसी मसले के कारण यदि आप परेशान थे तो उसका हल आपको इस दौरान मिल सकता है। नौकरी पेशा लोगों को अनुकूल परिणाम मिलेंगे और अपने प्रयासों का अच्छा फल भी प्राप्त होगा।

मंगल गोचर का धनु राशि पर प्रभाव

मंगल देव आपके तृतीय भाव में गोचर करेंगे जिससे आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी। आप अपनी क्षमता से अधिक कार्य कर पाने में इस दौरान सक्षम होंगे जिससे कार्यक्षेत्र और निजी जीवन में आपको बेहतरीन परिणाम मिलेंगे। मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखेंगे जिससे जीवन में सकारात्मकता आएगी। साथ ही, अपनी प्रभावशाली वाणी से आप लोगों को प्रभावित कर पाने में भी कामयाब रहेंगे। ध्यान को आवश्यक कार्यों पर लगाएंगे तो यह गोचर आपको बड़ी सफलता दिला सकता है।

मकर राशि पर प्रभाव मंगल गोचर के द्वारा

आपकी राशि से द्वितीय भाव में मंगल ग्रह का गोचर हो रहा है। इस भाव से हम वाणी धन और परिवार आदि के बारे में विचार करते हैं। मकर राशि के जातकों के लिए यह गोचर शुभ फलदायक रहेगा आपकी आर्थिक उन्नति होगी और अपने लक्ष्य को प्राप्त कर पाने में आप सक्षम होंगे। हालांकि आपके व्यवहार में आक्रामकता देखने को मिलेगी जिससे करीबी लोग आप से दूरी बनाते दिखेंगे। हालांकि यदि आप वार्तालाप के दौरान संयमित रहते हैं तो सामाजिक और निजी स्तर पर भी आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे।

मंगल गोचर का कुंभ राशि पर प्रभाव

इस ग्रह का गोचर कुंभ राशि यानि आपके प्रथम भाव में होगा। अग्नि तत्व प्रधान ग्रह मंगल का आप के प्रथम भाव में होना आपके स्वभाव में कुछ परिवर्तन ला सकता है। आप जिद्दी हो सकते हैं और अपनी बात को मनवाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। हालांकि नौकरी पेशा लोगों को इस दौरान लाभ होगा आपकी सक्रियता बिगड़ते कामों को भी बना देगी। यदि आप इस गोचर का लाभ उठाना चाहते हैं तो लोगों का सम्मान करें और परिवार के लोगों के साथ वक्त बिताएं।

मंगल गोचर का मीन राशि पर प्रभाव

मीन राशि के जातकों के द्वादश भाव में मंगल ग्रह के होने से खर्चों में वृद्धि हो सकती है। आपके प्रतिद्वंदी आपको पराजित करने के लिए षड्यंत्र कर सकते हैं । इसलिए सावधान रहें। यह भाव विदेशों से आपके संबंधों के बारे में भी बताता है । इसलिए यदि आप विदेशों से जुड़ा व्यापार करते हैं तो आपको लाभ हो सकता है। पारिवारिक जीवन की बात करें तो आपको अपने भाई बहनों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है।

साथ ही आप पढ़ना पसंद कर सकते हैं मकर राशि में बृहस्पति पश्चगामी- प्रत्येक राशि पर प्रभाव

 281 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *