शनि दोष से निवारण के कुछ उपाय

Posted On - September 15, 2021 | Posted By - Shantanoo Mishra | Read By -

 277 

शनि दोष से निवारण, Remedy from Shani Dosha

शनि कर्म ग्रह है और ज्योतिष में, यह आपके द्वारा जीवन में किए गए कर्मों को नियंत्रित करता है। लोग कई बार शनि को अशुभ ग्रह मानते हैं। हालांकि, किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि का प्रभाव होने का मतलब यह नहीं है कि आपके जीवन में दुःख और दुर्भाग्य ही असर डालेगा। यह निस्वार्थ कर्मों का फल भी प्रदान करता है और किसी दुराचार के लिए व्यक्ति को दंडित भी करता है। धार्मिक मूल्यों के अनुसार शनिवार के दिन शनि देव की पूजा करके आप शनि दोष के प्रकोप या शनि दोष से निवारण पा सकते हैं। शनि दोष का प्रभाव आपके जीवन में जबरदस्त परिवर्तन लाता है। यह आपको और आपके विकास को सभी कर्मों में बाधा उत्पन्न कर सकता है। इसके अलावा, इस लेख में, हम शनि दोष से निवारण उपायों पर चर्चा करेंगे।

ज्योतिष में शनि ग्रह का अपूरणीय महत्व है। यह शनिवार दिवस से नाता रखता और उस दिन किए गए किसी भी कर्म के सभी अच्छे और बुरे परिणामों पर स्वामित्व प्रकट करता है। कुंडली में शनि एकमात्र ऐसा ग्रह है जो आपके द्वारा समय-समय पर किए जाने वाले सभी कार्यों का लेखा-जोखा रखता है। यह आपके सभी कार्यों को दर्ज करता है और उसी के अनुसार परिणाम देता है। शनि की नजर से कोई नहीं बच सकता है। जिन लोगों पर शनि की कृपा होती है उन्हें धन, वैभव, सुख और शांति की प्राप्ति होती है। इसके अलावा शनि को प्रसन्न करने के लिए या शनि दोष से निवारण के लिए निम्नलिखित उपाय का उपयोग कर आपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: सूर्य को जल अर्पण करने के पीछे ज्योतिषीय महत्व एवं मूल्य

शनि दोष से निवारण के उपाय

शनि देव के नामों को जपें

शनिदेव की पूजा के समय शनि के अलग-अलग नामों का जाप करने से आपको न्याय के देवता की विशेष कृपा का लाभ मिलता है। शनि के 10 नाम हैं- कोनस्थ, कृष्ण, पिप्पला, सौरी, यम, पिंगलो, रोद्रुत्को, बभरू, मंडा, शानास्त्र। नामों का जाप करने के बाद पीपल के पेड़ के पास जाएं और परिक्रमा करें या पेड़ के चारों ओर 7 फेरे लगाएं। परिक्रमा करते समय शनि मंत्र का जाप करें।

शनैश्चर नमस्तुभ्यं नमस्ते ट्वथ राहवे। मई केतवीथ नमस्तुभ्यं सर्वंतिप्रदो भव:

शनि मंत्र का जाप करें

मंत्र आत्मा में सकारात्मक तरंगों पैदा करते हैं। यह चेतना के आवेग हैं। वह आपको आपके सभी दुखों और समस्याओं से मुक्त करते हैं और सकारात्मक ऊर्जा का उत्सर्जन करते हैं।

यह भी पढ़ें: पैर पर काला धागा बांधने के फायदे

वेद व्यास द्वारा शनि मंत्र (नव ग्रह स्तोत्रम)

“ॐ नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम छाया मार्तंड संभूतं तम तम नमामि शनिश्चरा”

शनि तांत्रिक मंत्र

” प्रां प्रीं प्रोम सह शनेश्चराय नमः”

शनिवार का व्रत

यदि आपकी कुंडली में शनि दोष है तो शनि के लिए शनिवार का व्रत सबसे उत्तम निवारण उपाय है।

जो लोग इस दिन उपवास करते हैं, उन्हें ब्रह्म मुहूर्त में अपना बिस्तर त्याग देना चाहिए, ब्रह्म मुहूर्त में ही स्नान करना चाहिए, साफ कपड़े पहनना चाहिए और शनि पूजा की तैयारी करनी चाहिए। सबसे पहले पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं। व्रत के लिए लोहे की बनी शनिदेव की मूर्ति लेकर उसे पंचामृत से स्नान कराएं। इसके बाद कमल के फूल पर शनि की मूर्ति स्थापित करें। इसके बाद काले तिल, सफेद फूल, अगरबत्ती, काले कपड़े और सरसों के तेल से मूर्ति की पूजा करें। शनिवार का व्रत पूरी भक्ति के साथ करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। यह कुंडली में शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करता है ।

यह भी पढ़ें: सकारात्मक रहने और निराशाओं से बचने के कुछ खास तरीके

बुरी आदतें छोड़ो

भगवान शनि आपके अच्छे या बुरे सभी कार्यों को नियंत्रित और करते हैं। एक बार जब आप कुछ बुरा करते हैं, तो वह आपको अपने आचरण में दंडित करता है। कुंडली में शनि दोष से छुटकारा पाने के लिए आपको शराब छोड़नी होगी।

शराब का सेवन, खासकर शनिवार के दिन शनिदेव को गुस्सा आता है। जो लोग शनिवार को शराब पीते हैं उन्हें प्रगति के दौरान कठिन रास्ते मिलते हैं। साथ ही यह शनि का अशुभ प्रभाव भी लाता है। शनिवार का दिन शनिदेव के साथ हनुमान जी का भी दिन माना जाता है। इस दिन शराब पीने से भगवान नाराज होते हैं।

सफाई की आदत अपनाएं

अगर आप स्वयं शनि दोष से निवारण चाहते हैं तो घर में कूड़ा-करकट और कबाड़ का ढेर न लगने दें। सकारात्मकता और प्रगति गंदगी में दस्तक नहीं देती है, साथ ही जब आप साफ-सफाई नहीं रखते हैं तो शनि का लाभकारी प्रभाव आपके जीवन में नहीं पड़ता है। घर में पड़ी पुरानी चीजों को दूर करने के लिए शनिवार का दिन सबसे अच्छा है। शनिवार के दिन घर से सभी पुराने सामान को हटा दें। इस दिन आप सभी बेकार और पुरानी घड़ियां, पुराने ताले, पुराने इलेक्ट्रॉनिक सामान, कबाड़-लोहे का सामान साफ ​​कर सकते हैं। इन चीजों को घर में रखने से घर में नकारात्मकता आती है।

यह भी पढ़ें: हल्दी का महत्व एवं ज्योतिषीय लाभ

दान करें

जैसा कि आपको ज्ञात है शनि कर्म ग्रह है । यह आपके द्वारा किए गए कार्यों के अनुसार आप पर कृपा बरसाता है। इस प्रकार, पूरे दिल से दान करने से और कुछ भी वापसी की उम्मीद न करने से आपको शनि दोष से निवारण पाने में मदद मिलेगी। शनि कर्म के स्वामी हैं। बदले में कुछ मांगते हुए अपने कर्म दायित्वों का भुगतान करें। और आप स्वेच्छा से और सोच-समझकर जरूरतमंदों की मदद करके अपने ऋण का भुगतान कर सकते हैं! इससे शनिदेव प्रसन्न होंगे।

पीपल के पेड़ की पूजा करें

पीपल वृक्षों का राजा है। हर हिंदू अनुष्ठान में शुभ फल के रूप में पीपल के पत्ते चढ़ाना अनिवार्य है। पीपल के पेड़ के सामने दीया जलाना बहुत शुभ होता है। खासकर शनिवार के दिन दीया जलाने से शुभ फल प्राप्त होते हैं।

यह कार्य न करें

  • यदि आप शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो शनिवार के दिन कभी भी लोहे के सामान की खरीदारी न करें। यह अत्यंत अशुभ है और यह आपके जीवन में कर्ज लाता है। इसके अलावा, अपने जीवन में नकारात्मक घटनाओं में वृद्धि लाने का कार्य करता है।
  • शनिवार के दिन घर की सफाई के लिए झाड़ू का प्रयोग न करें। यह अत्यधिक अशुभ फल लाता है।

अधिक के लिए, हमसे इंस्टाग्राम पर जुड़ें। अपना  साप्ताहिक राशिफल  पढ़ें।

 278 

Our Astrologers

1400+ Best Astrologers from India for Online Consultation

Copyright 2021 CodeYeti Software Solutions Pvt. Ltd. All Rights Reserved