वायु तत्व राशि- राशिचक्र में वायु तत्व की राशियां, उनके गुण और मुख्य विशेषताएं

वायु तत्व राशि- राशिचक्र में वायु तत्व की राशियां, उनके गुण और मुख्य विशेषताएं

ज्योतिष शास्त्र में राशियों के अलग-अलग गुण होते हैं, हर राशि में कोई न कोई ऐसी बात होती है जो उसे दूसरों से अलग बनाती है। हालांकि तत्व के अनुसार कुछ राशियों में एकरूपता का देखा जाना हैरानी की बात नहीं है। सभी 12 राशियों को अग्नि, पृथ्वी, वायु और जल तत्व में वर्गीकृत किया गया है, जिनमें राशि चक्र की तीन राशियां एक तत्व से संबंधित होती हैं।  ऐसे में आज हम आपको वायु तत्व से जुड़ी तीन राशियों के बारे में बताने जा रहे हैं।

वायु तत्व से जुड़ी राशियां 

मिथुन, तुला और कुंभ वह तीन राशियां हैं जिनको वायु तत्व से संबंधित माना जाता है। इन तीनों राशियों के स्वामी क्रमश: बुध, शुक्र और शनि हैं। इन राशियों के स्वामी भले ही अलग हों लेकिन एक ही तत्व के अंतर्गत आने की वजह से कुछ समानताएं भी इनमें दिखती हैं। 

वायु तत्व की राशियों की समानताएं

इस तत्व वाली राशियां अक्सर कल्पनाशील देखी गई हैं यह लोग कल्पनाओं के दुनिया में ऐसे खोए नजर आते हैं जैसे इनका मुख्य काम वही हो। हालांकि बुद्धि का सही इस्तेमाल करने की भी इनमें क्षमता होती है। यह लोग कल्पनाशील होते हैं इसलिए कला के क्षेत्र में इनको अच्छे फलों की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही वायु तत्व वालों में अनुशासन भी देखा जाता है। यह लोग अपने आपको बेहतर करने की लगातार कोशिश करते रहते हैं। 

मिथुन राशि

यह राशि चक्र की तीसरी राशि है। मिथुन राशि वायु तत्व प्रधान है इसलिए इस राशि के लोग कल्पनाशील होते हैं। यह लोग अपनी योजनाओं को भले ही सही तरीके से लागू न कर पाएं लेकिन योजनाएं बनाने से पीछे नहीं हटते। इसके साथ ही बात करने की भी इन्हेें बहुत ज्यादा आदत होती है। वायु तत्व के साथ-साथ बुध ग्रह का भी इनपर प्रभाव होता है इसलिए ये तार्किक भी होते है। ख्याली प्लाऊ बनाने से दूर रहें तो इस राशि के लोग जीवन में किसी अच्छे मुकाम पर जरुर पहुंचते हैं। 

तुला राशि 

काल पुरुष कुंडली में वायु तत्व की दूसरी राशि तुला है। इस राशि का स्वामी ग्रह शुक्र है इसलिए स्वाभाविक है कि यह लोग कला और सौंदर्य प्रेमी होते हैं। यह वायु प्रधान राशि भी है इसलिए इस राशि वाले अपनी कला और कल्पना की मदद से मीडिया, फिल्म इंडस्ट्री जैसे क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं। इन लोगों में खुद को बेहतर बनाने और शानोशौकत की चीजों पर खर्च करने की आदत होती है। इनकी कमजोरी भावनाओं में बहकर गलत फैसले लेना है। 

कुंभ राशि

वायु तत्व की तीसरी राशि कुंभ है। इस राशि का स्वामी ग्रह शनि देव हैं जिनको सभी ग्रहों में न्यायाधीश का दर्जा प्राप्त है। इन लोगों में न्यायप्रियता देखी जाती है। यह लोग मेहनती होते हैं और अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए मेहनत करते हैं।

वायु तत्व प्रधान होने के चलते इन लोगों को काल्पनिक दुनिया में रहना भी पसंद आता है, हालांकि अपनी कल्पना शक्ति से यह कुछ रचनात्मक कार्य करने की कोशिश ही करते हैं। कई बार लोगों को बहुत ज्यादा जज करना इनके लिए परेशानी का सबब बनता है, हालांकि अपनी इस आदत पर यदि यह लोग कंट्रोल कर लें तो बेहतरीन तरीके से जीवन जीते हैं।

साथ ही आप पढ़ सकते हैं- जानें कुंडली का सप्तम भाव आपके कौन से राज खोलता है

 2,431 total views

Consult an Astrologer live on Astrotalk:

Tags:

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *