विवाह रेखा से जानें कब होगी शादी और कैसा रहेगा आपका वैवाहिक जीवन

विवाह रेखा से जानें कब होगी शादी और कैसा रहेगा आपका वैवाहिक जीवन

विवाह रेखा

आपकी हथेली की रेखाएं आपके बारे में बहुत कुछ बताती हैं। आपका जीवन कितना लंबा होगा? आपकी शिक्षा कैसी रहेगी? आपका विवाह किस उम्र में होगा और आपका वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा। आज अपने इस लेख में हम आपकी वैवाहिक जीवन पर ही विचार करेंगे। इस लेख को पढ़कर आप खुद अपनी विवाह रेखा को देखकर पता लगा सकते हैं आपका वैवाहिक जीवन कैसा है या कैसा होगा। 

हथेली में कहां होती है विवाह रेखा 

सबसे पहले बात करते हैं कि हथेली में यह रेखा कहां होती है? जिस तरह कुंडली में विवाह भाव होता है वैसे ही हाथ में भी विवाह रेखा मौजूद होती है। नीचे दी गई तस्वीर में आप देख सकते हैं कि हथेली में विवाह रेखा सबसे छोटी उंगली के नीचे होती है, यह रेखा आपकी हृदय रेखा से ऊपर होती है और बुध पर्वत के बाहरी तरफ से आती है। इस रेखा की लंबाई और इसकी आकृति से आपके वैवाहिक जीवन के कई राज खुल जाते हैं। हथेली में एक से अधिक विवाह रेखाएं हो सकती हैं।

कब हो सकता है आपका विवाह

हस्तरेखा विज्ञान को कुछ जानकार ऐसे होते हैं जो आपकी हस्तरेखा को देखकर सटकी भविष्यवाणी कर सकते हैं कि आपका विवाह कब होगा। हालांकि व्यक्ति खुद भी अपनी Vivah rekha को देखकर अनुमान लग सकता है कि उसकी शादी किस उम्र में होगी। विवाह रेखा को देखकर कैसे आप अपनी विवाह की उम्र का पता कर सकते हैं इसके लिए नीचे दी गई बातों पर गौर करें।

  • यदि विवाह रेखा हृदय रेखा और कनिष्ठा उंगली की रेखा के ठीक मध्य में है तो इसका अर्थ है कि व्यक्ति की शादी 25 वर्ष की आयु तक हो सकती है। 
  • अगर यह रेखा हृदय रेखा के नजदीक है तो व्यक्ति की शादी 25 वर्ष की आयु के पहले होने की भी संभावना रहती है। 

किन जातकों का वैवाहिक जीवन होता है सफल

  • जिन जातकों के हाथ की यह रेखा स्पष्ट होती है उनका वैवाहिक जीवन बहुत सुखद रहता है।
  • यदि विवाह रेखा कहीं से कटी न हो तो वैवाहिक जीवन में परेशानियां नहीं आती और जीवनसाथी समझने वाला होता है। 
  • यदि यह रेखा दो भागों में विभक्त हो रही है तो व्यक्ति के विवाह में देऱी हो सकती है। 
  • विवाह रेखा के आस पास यदि छोटी रेखाएं नजर आती हैं तो इसका अर्थ होता है कि वैवाहिक जीवन में रोमांस बना रहेगा। 
  • यदि वर-वधु के हाथ की विवाह रेखाएं स्पष्ट और सुंदर हों तो दोनों एक दूसरे का हर हाल में साथ देते हैं और किसी भी तरह का विवाह ऐसे लोगों के बीच पैदा होना लगभग असंभव होता है। 

वर्तमान समय में कोरोना वैश्विक महामारी के बीच हर कोई अपने घरों में कैद है। ऐसे में पति-पत्नि के रिश्तों की परीक्षा अवश्य हो रही होगी। यदि आप भी शादीशुदा हैं तो इस समय का उपयोग अपने रिश्तों को दुरुस्त करने में कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने जीवनसाथी की बातों को सुनें और उनको उनकी तरह समझने की कोशिश करें। जितना आप एक दूसरे को समझेंगे उतना ही आपके बीच की दूरियां कम होंगी। बेवजह की बातों को तूल देने से भी आपको बचना चाहिए यह लड़ाई-झगड़े की बहुत बड़ी वजह होती है। 

यह भी पढ़ें- महामृत्युंजय मंत्र: मानसिक शांति और कुंडली के बुरे प्रभावों को दूर करने का उपाय

 295 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *