सिर्फ मेहनत ही नहीं कुंडली के यह योग भी बना सकते हैं आपको बॉलीवुड स्टार

बॉलीवुड
WhatsApp

ज्यादातर लोग अपने जीवन काल में कभी न कभी अभिनेता/अभिनेत्री बनने का सपना अवश्य देखते हैं। हालांकि इस सपने को साकार बहुत कम ही लोग बना पाते हैं। कुछ लोगों की मेहनत रंग नहीं लाती तो कुछ लोगों की किस्मत साथ नहीं देती। ऐसे में यदि आपको थोड़ा बहुत ज्योतिषीय मार्गदर्शन मिल जाए तो अपनी कुंडली को देखकर आप जान सकते हैं कि आपके अंदर अच्छा कलाकार छुपा है या नहीं। तो आईए जानते हैं कुंडली के उन महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में जो आपको बना सकते हैं बॉलीवुड या हॉलीवुड का सितारा। 

कुंडली में शुक्र-बुध की स्थिति

किसी भी जातक की कुंडली में यदि शुक्र की स्थिति मजबूत है तो वह अभिनय की दुनिया में बेहतरीन काम कर सकता है। शुक्र को कला, सौंदर्य और भौतिकता का कारक ग्रह माना जाता है और एक अच्छा कलाकार बनने के लिेए तीनों का होना अतिआवश्यक है। कुंडली में शुक्र की अच्छी स्थिति व्यक्ति को आकर्षक व्यक्तित्व प्रदान करती है, जो कि एक कलाकार के लिए जरुरी है।   

शुक्र के बाद एक अच्छा कलाकार बनने के लिए कुंडली में बुध की स्थिति भी अच्छी होनी चाहिए। बुध वाणी और कम्यूनिकेशन का कारक ग्रह है यदि कुंडली में शुक्र बली है और बुध दुर्बल अवस्था में है तो व्यक्ति अच्छा कलाकार नहीं बन पाता, बुध की दुर्बल स्थिति व्यक्ति को संवाद आदि में मुश्किलें पैदा कर सकती है। 

कुंडली में मंगल की स्थिति 

जिस व्यक्ति की कुंडली में शुक्र, बुध के साथ-साथ मंगल की स्थिति भी मजबूत है तो ऐसा व्यक्ति मारधाड़ वाली फिल्मों में नाम बना सकता है। इसके साथ ही शोध या साइंस फिक्शन से जुड़ी फिल्में भी ऐसे लोगों को सफलता दिलाती हैं। 

कुंडली में सूर्य की स्थिति 

यदि आपकी कुंडली में सूर्य ग्रह बली है और राहु की स्थिति भी अच्छी है तो व्यक्ति अच्छा अभिनेता बन सकता है। सूर्य आत्मा का कारक ग्रह है और कुंडली में यदि यह सौंदर्य के कारक ग्रह शुक्र के साथ युति बनाता है तो व्यक्ति अभिनय के क्षेत्र में प्रतिष्ठि पाता है। 

कुंडली के किन भावों का मजबूत होना है जरुरी

अगर आप बॉलीवुड/सिनेमा के क्षेत्र में अच्छा मुकाम पाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए भावों का मजबूत होना जरुरी है। इन भावों के स्वामी की स्थिति, इन भावों पर ग्रहों की दृष्टि आदि का विचार करके ही बताया जा सकता है कि व्यक्ति कला के क्षेत्र में कैसा काम करेगा। 

लग्न और लग्नेश 

हर जातक की कुंडली में लग्न भाव सबसे महत्वपूर्ण होता है। यह दिखाता है कि व्यक्ति मुश्किल परिस्थितियों का किस तरह से सामना करता है। यदि लग्न कमजोर है और लग्नेश की स्थिति भी अच्छी नहीं है तो व्यक्ति बहुत जल्दी हिम्मत छोड़ देता है। वहीं लग्न और लग्नेश की अच्छी स्थिति व्यक्ति को हर मुश्किल से लड़ने का जज्बा देती है। अभिनय के क्षेत्र में भी व्यक्ति को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है इसलिए कुंडली के लग्न पर नजर कर हम बता सकते हैं कि व्यक्ति इस क्षेत्र में कुछ कर सकता है या नहीं। 

दशम भाव 

जन्म कुंडली का दशवां भाव कर्म भाव भी कहलाता है। अभिनय ही किसी भी कलाकार की पूंजी का साधन है। इसलिए इस भाव पर किन ग्रहों की दृष्टि है इसको देखना आवश्यक होता है। यदि शुक्र, बुध आदि ग्रहों की दृष्टि इस भाव पर है तो व्यक्ति को अभिनय के क्षेत्र में सफलता के साथ-साथ पैसा और नाम भी मिलता है। 

तृतीय, पंचम और षष्ठम भाव

लग्न और दशम भाव के अलावा तृतीय, पंचम और षष्ठम भाव पर भी दृष्टि डालना आवश्यक है। तृतीय भाव आपके कौशल को दिखाता है इस भाव पर शुभ ग्रहों का प्रभाव व्यक्ति को फिल्म इंडस्ट्री में सफलता दिला सकती है। पंचम भाव के साथ यदि किसी तरह से भी तृतीय भाव का संबंध है तो यह भी एक अच्छे अभिनेता अथवा बॉलीवुड स्टार बनने का अच्छा योग है। पंचम भाव को कला और मनोरंजन से भी जोड़ा जाता है इसलिए इस भाव पर अशुभ ग्रहों की दृष्टि नहीं होनी चाहिए। षष्ठम भाव प्रतिद्वंदियों को दर्शाता है, इस भाव में यदि शुभ ग्रह हों तो व्यक्ति अपने विरोधियों पर विजय प्राप्त करता है। बॉलीवुड में भी प्रतिस्पर्धा की कमी नहीं है इसलिए षष्ठम भाव का प्रबल होना आवश्यक है।  

यह भी पढ़ें- शादी के बंधन से दूर भागते हैं इन पांच राशियों के लोग

 1,628 

WhatsApp

Posted On - May 13, 2020 | Posted By - Naveen Khantwal | Read By -

 1,628 

क्या आप एक दूसरे के लिए अनुकूल हैं ?

अनुकूलता जांचने के लिए अपनी और अपने साथी की राशि चुनें

आपकी राशि
साथी की राशि

Our Astrologers

1500+ Best Astrologers from India for Online Consultation