मंगल का गोचर- मेष राशि में प्रवेश करेंगे मंगल जानें क्या होगा आपकी राशि पर असर

मंगल का गोचर- मेष राशि में प्रवेश करेंगे मंगल जानें क्या होगा आपकी राशि पर असर

मंगल का गोचर

मंगल का गोचर 16 अगस्त 2020 को मीन से मेष राशि में होगा। ज्योतिष शास्त्र में मंगल को बहुत महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है क्योंकि यह साहस, पराक्रम और भूमि आदि का कारक ग्रह है। इस ग्रह के गोचर पर हर किसी की नजर होती है क्योंकि मंगल के गोचर का असर सभी 12 राशियों पर अलग-अलग प्रकार से पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र में मंगल को मेष और वृश्चिक राशि का स्वामी माना गया है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में यह मजबूत अवस्था में हैं तो, व्यक्ति साहसी होती है और उसके नेतृत्व की क्षमता भी कमाल की होती है।

गोचर का समय 

मंगल ग्रह 16 अगस्त को रात्रि 08 बजकर 37 मिनट पर मीन राशि से निकलकर मेष राशि में प्रवेश कर जाएंगे। इसके बाद सितंबर 10 तारीख तक यह इसी राशि में रहेंगे और फिर मेष राशि में ही वक्री गति में आ जाएंगे। मंगल ग्रह के गोचर का आपके ऊपर क्या असर पड़ेगा इसके बारे में आज हम आपको अपने इस लेख में जानकारी देंगे। 

मेष राशि

आपकी राशि के स्वामी ग्रह मंगल का गोचर आपके प्रथम भाव में होगा। यह भाव आपके शरीर, आत्मा और स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देता है। मंगल के प्रथम भाव में गोचर से आप जीवन में नई उपलब्धियां पा सकते हैं। इस समय इस राशि के जातको को कार्यक्षेत्र में अच्छे फल मिलेंगे इसके साथ ही बेरोजगारों को रोजगार मिल सकता है। यह समय कारोबार करने के लिए भी बेहतरीन साबित होगा यदि बीते समय में कारोबार में घाटा हुआ था तो अब फायदा मिलना शुरु हो जाएगा जिससे घर परिवार में भी खुशियां आएंगी। चूंकि मंगल को क्रूर ग्रह माना जाता है इसलिए आपके चरित्र में घमंड और गुस्सा बढ़ सकता है। यदि आप योग का सहारा लेते हैं तो मन की चंचलता दूर होगी। इस दौरान आप खेलकूद में हिस्सा लेकर भी खुद को फिट रख सकते हैं। 

वृषभ ऱाशि

इस राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर बहुत शुभ नहीं कहा जा सकता। मंगल देव आपके द्वादश भाव में इस दौरान विराजमान रहेंगे जिसके चलते जीवन में चुनौतियां आ सकती हैं। घर-परिवार में आपको लोगों से बातचीत के दौरान अपनी मर्यादा में रहने की जरुरत है। आपके क्रोध के कारण सामाजिक स्तर पर मान सम्मान में कमी आ सकती है। हालांकि इस राशि के जो जातक विदेशों से संबंधित कारोबार करते हैं उनके लिए यह गोचर अच्छे परिणाम लेकर आ सकता है। इस दौरान अच्छी डील हो सकती है। शिक्षार्थियों को भी शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे फल प्राप्त होंगे। द्वादश भाव व्यय का भाव भी कहलाता है इसलिए वृषभ राशि वालों को खर्चों पर इस गोचर के दौरान विशेष ध्यान देने की जरुरत है। बेवजह के वाद-विवाद से भी इस राशि के जातकों को बचकर रहना होगा। 

मिथुन राशि

आपके लिए यह गोचर कई शुभ समाचार लेकर आ सकता है। भविष्य को लेकर अतीत में आपने जो योजनाएं बनाई थीं वह इस दौरान मूर्त रूप ले सकती हैं। कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो इस दौरान खूब मेहनत करें। आपके एकादश भाव में विराजमान मंगल आपकी पूरी सहायता करेंगे, बस इस दौरान मेहनत से मुंह न चुराएं। जो जातक नौकरी पेशा से जुड़े हैं उनकी आमदनी में इस दौरान वृद्धि होने की पूरी संभावना है। कारोबारियों के लिए भी समय अच्छा रहेगा आप अपने करोबार को नई गति दे पाएंगे। हालांकि बोलचाल के दौरान आपको थोड़ा संयमित रहने की जरूरत इस दौरान होगी। आपके व्यक्तिगत जीवन में इस दौरान संतुलन बना रहेगा इसलिए आप अपने परिवार के साथ भी सुखद समय बिता पाएंगे। 

कर्क राशि

आपके कर्म भाव में मंगल देव गोचर करेंगे। मंगल के गोचर के चलते कार्यक्षेत्र में आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। दशम भाव में मंगल को दिगबली माना जाता है इसलिए जीवन में इस दौरान सकारात्मकता आएगी। जो पाने के लिए आप बीते समय से कोशिशें कर रहे थे वो आपको इस दौरान मिल सकता है। नौकरी करने वालों को पदोन्नति मिलने की संभावना है। मंगल को खेलकूद से संबंधित ग्रह भी माना जाता है इसलिए इस क्षेत्र में प्रयास करने वालों के लिए भी यह समय बहुत अच्छा रहेगा। पारिवारिक और प्रेम जीवन में भी इस दौरान सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे। यदि आप शादीशुदा हैं तो अपने जीवनसाथी को को बेहतरीन गिफ्ट दे सकते हैं। सेहत में भी सुधार देखने को मिलेगा। कुलमिलाकर कहा जाए तो कर्क राशि के लोगों के लिए मंगल का यह गोचर कई सफलताएं लेकर आने वाला साबित होगा। 

सिंह राशि 

इस राशि के जातकों के जीवन में आध्यात्मिकता की इस दौरान वृद्धि हो सकती है, क्योंकि मंगल ग्रह का गोचर आपके धर्म और आध्यात्म के नवम भाव में होगा। आप ध्यान का सहारा लेकर इस दौरान मानसिक शांति पा सकते हैं। बेवजह के वाद-विवादों से भी आप बचने की कोशिश करेंगे। इसके साथ ही यात्राएं करने का भी इस दौरान आपको मौका मिलेगा और यह यात्राएं बहुत लाभदायक भी साबित होंगी। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को थोड़ा संभलकर चलने की जरुरत है क्योंकि आपके काम पर इस दौरान सवाल उठाए जा सकते हैं। पारिवारिक जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए भी आप परिश्रम करेंगे। यदि आप विद्यार्थी हैं तो गुरुजनों के संपर्क में आकर जीवन को बेहतर बना सकते हैं। 

कन्या राशि

इस राशि के जातकों के लिए मंगल का मेष राशि में गोचर बहुत शुभ नहीं कहा जा सकता। मंगल देव कन्या राशि के अष्टम भाव में गोचर करेंगे इसलिए इस राशि के जातकों के जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं। अपने स्वास्थ्य का इनको विशेष ध्यान रखना होगा रक्त से संबंधित विकार हो सकते हैं। पारिवारिक जीवन को सुधारने के लिए माता-पिता से सलाह मशवरा करना होगा। हालांकि इस राशि के उन विद्यार्थियों के लिए यह गोचर शुभ रहेगा जो गूढ़ विद्याओं का अध्ययन कर रहे हैं। मानसिक रूप से इस दौरान खुद को फिट रखने के लिए इस राशि वालों को योग ध्यान का सहारा लेना चाहिए। इसके साथ ही कोई भी फैसा जल्दबाजी में लेने से भी बचें। 

तुला राशि 

मंगल ग्रह के गोचर से आपका सप्तम भाव सक्रिय होगा। इस भाव को विवाह और साझेदारी का भाव कहा जाता है। मंगल का यह गोचर तुला राशि के जातकों को नये अनुभव करवाएगा। खासकर वैवाहिक जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आने की संभावना है। यदि आप अपने जीवनसाथी के साथ नया कारोबार शुरू करने का विचार बना रहे थे तो समय अनुकूल है। आप परिवार में चल रहे विवादों को दूर करने के लिए इस दौरान पहल कर सकते हैं। बेवजह की गलतफहमियां अपने दिमाग में न जमाएं। नौकरी पेशा लोगों को सहकर्मियों का सहयोग प्राप्त होगा वहीं जो लोग अपना कारोबार करते हैं वो अपने कारोबार को नयी दिशा दे सकते हैं।  

सुख-समृद्धि की प्राप्ति के लिए करें- सुंदरकांड ऑनलाइन पूजा

वृश्चिक राशि 

इस राशि के जातकों के लिए मंगल ग्रह का गोचर षष्ठम भाव में होगा। इस दौरान आपका शत्रु पक्ष आप पर हावी हो सकता है क्योंकि इस शत्रु और रोग का भाव कहा जाता है। इसलिए आपको बहुत सतर्क होकर हर काम को करने की आवश्यकता है। रचनात्मक गतविधियां करके इस राशि के लोगों को सफलता मिल सकती है। इस गोचर काल में आपको किसी भी तरह का गैर-कानूनी काम करने से बचना चाहिए नहीं तो कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं। अपने विरोधियों को खुद पर हावी नहीं होने देना चाहते तो मन को संतुलन में रखें। पारिवारिवक जीवन ठीकठाक रहेगा, माता-पिता से सलाह लेकर ही इस समय कोई काम करें। 

धनु राशि 

इस राशि के जातकों के पांचवें भाव में मंगल का गोचर होने जा रहा है। यह भाव प्रेम का भाव कहा जाता है इसलिए इस राशि के प्रेमी-प्रेमिकाओं को इस दौरान लव लाइफ में अच्छे फल मिल सकते हैं। इस गोचर के दौरान आप अपने पार्टनर के करीब आएंगे। घूमने फिरने के शौकीन हैं तो पार्टनर के साथ कहीं जा सकते हैं। यदि आपकी संतान है तो उनके चाल-चलन पर ध्यान दें। इस राशि के नौकरी पेशा लोग उन्नति पा सकते हैं। खेलकूद में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों के लिए भी यह समय अच्छा है। अपने व्यवहार में आई क्रोध की अधिकता को इस समय कम करने की कोशिश करें नहीं तो अपना ही नुक्सान कर सकते हैं। 

कुंभ राशि 

मंगल ग्रह का गोचर आपमें नयी ऊर्जा भरेगा। मंगल ग्रह का गोचर आपके तृतीय भाव में होगा जिसे साहस और पराक्रम का भाव कहा जाता है। अपने प्रयासों को सही दिशा देने की आप कोशिशें करते नजर आएंगे। शिक्षार्थी स्कूल या कॉलेज में अच्छा प्रदर्शन करेंगे जिससे गुरुजनों का प्रेम प्राप्त होगा। इस राशि के कुछ जातक सेना में प्रवेश पा सकते हैं। पारिवारिक जीवन में सकारात्मकता भरने के लिए आप खुद में भी परिवर्तन करने को तैयार होंगे। यदि आपके छोटे भाई-बहन हैं तो उन्हें आप जीवन में आगे बढ़ने के लिए विशेष सलाह दे सकते हैं। सेहत को दुरुस्त रखने के आपके प्रयास सफल होंगे। 

मीन राशि 

मंगल के गोचर से आपकी वाणी थोड़ी कठोर हो सकती है क्योंकि यह ग्रह आपके द्वितीय भाव में गोचर करेगा। इस समय आर्थिक पक्ष मजबूत हो सकता है। आपको सट्टेबाजी से पैसा मिल सकता है लेकिन ऐसा ना ही करें तो बेहतर। यदि आपके अधीनस्थ लोग काम करते हैं तो उनसे आपको बहुत शालीनता से बात करने की जरूरत है। यदि आप ऐसा नहीं करेंगे तो भविष्य में आपको ही परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सेहत में अच्छे बदलाव लाने के लिए इस दौरान आपको योग ध्यान का सहारा लेना चाहिए। यदि आपकी संतान है तो उनके साथ समय बिताएं नहीं तो अनबन हो सकती है। 

यह भी पढ़ें- अयोध्या के हनुमानगढ़ी मंदिर में सुल्तान के शीश झुकाने पर हुआ था यह चमत्कार

 410 total views


Tags: ,

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *