इन तीन राशि के लोगों में भरा होता है सबसे ज्यादा अहंकार

इन तीन राशि के लोगों में भरा होता है सबसे ज्यादा अहंकार

अहंकार राशियां

अहंकार, घमंड ऐसे शब्द हैं जिनको खुद से कोई नहीं जोड़ना चाहता लेकिन कहीं न कहीं सब में यह भावना होती ही है। खासकर तब जब कोई शख्स जीवन में कुछ हासिल कर लेता है तो उसमें अहंकार की भावना आ जाती है। हालांकि घमंडी आदमी से हर कोई दूर रहना चाहता है और वक्त के साथ कभी न कभी व्यक्ति को यह बात ज़रुर समझ आती है कि घमंड करने से कुछ भी हासिल नहीं होता। आज हम आपको अपने इस लेख में उन राशियों के बारे में जानकारी देंगे जिनमें अहंकार की अधिकता देखी जाती है। 

तीन सबसे अहंकार करने वाली राशियां

इन तीन सबसे अहंकारी राशियां हैं मेष, वृश्चिक और मीन इनमें दो मंगल के स्वामित्व की राशियां हैं और एक बृहस्पति के स्वामित्व की राशि। तो आईए अब एक-एक करके आपको बताते हैं इन तीनों राशियों के बारे में। 

मेष राशि 

काल पुरुष कुंडली में मेष पहली राशि है और इस राशि पर मंगल का स्वामित्व है। वैसे इन लोगों में नेतृत्व और कड़ी मेहनत करने की खूबियां होती हैं लेकिन इसके साथ ही घमंड भी इनमें बहुत ज्यादा होता है। इस राशि के लोगों को हमेशा यह लगता है कि यह सबसे बेहतर हैं, यह खुद को सबसे बुद्धिमान और शक्तिवान समझते हैं।

इन लोगों को गलती से यदि आप सलाह देदें तो इनको अच्छा लगने की बजाय बुरा लगता है, क्योंकि इनको लगता है यह सबकुछ समझते हैं और इनको कोई सलाह नहीं दे सकता। इनका घमंडी व्यवहार सामाजिक स्तर पर भी इनको परेशानी में डाल सकता है, यह लोग दोस्तों से ज्यादा अपने दुश्मन बना लेते हैं। हालांकि यदि मेष राशि के लोग घमंड को त्याग दें और सबको समान नजरों से देखें तो जीवन में बेहतरीन मुकाम पाते हैं। 

वृश्चिक राशि 

यह भी मंगल के स्वामित्व की राशि है। इस राशि के लोग यूं तो सादगी से भरे दिखते हैं लेकिन इनके सादगी भरे चेहरे के पीछे एक ऐसा शख्स भी छुपा होता है जो खुद को सबसे बेहतर समझता है। इस राशि के लोगों को जीवन में जैसे ही कोई उपलब्धि मिलती है तो इनके हावभाव भी तुरंत बदल जाते हैं, धन और प्रसिद्धि मिलते ही यह अपने करीबी दोस्तों और यहां तक की रिश्तेदारों को भूलने में भी समय नहीं लगाते।

इन लोगों में अकड़ भी देखी जाती है जिसकी वजह से लोग इनसे दूरी बनाते हैं। इस राशि के कुछ लोग आपको बहुत शांत और खुशमिजाज प्रतीत हो सकते हैं लेकिन कहीं न कहीं उनमें आपको अहम की भावना अवश्य नजर आएगी। अपने अहम भाव पर वृश्चिक राशि वाले यदि कंट्रोल कर दें तो इनकी कई समस्याएं दूर हो सकती हैं। 

मीन राशि 

देव गुरु बृहस्पति के स्वामित्व वाली मीन राशि के लोग भी खुद को किसी गुरु से कम नहीं समझते। यह लोग बिना पैसे और पावर के भी ऐसे व्यवहार करते हैं कि जैसे यही दुनिया के राजा हों। मेष राशि के लोगों की ही तरह यह लोग भी खुद को ही सबसे बेहतर समझते हैं। खुद को बेहतर साबित करने के चक्कर में कई बार तो यह मर्यादा की सारी सीमाओं को भी लांघ जाते हैं।

इसके साथ मीन राशि वालों को यह गलतफहमी भी होती है कि छोटे लोगों से बात करने पर उनका मान गिर जाएगा। यदि आपका कोई सीनियर मीन राशि का है तो आप यह बात महसूस कर सकते हैं। इन लोगों में ज्ञान तो अवश्य होता है लेकिन इनका घमंडी स्वभाव इ्न्हें ज्ञान का सही इस्तेमाल करने से रोकता है। यदि मीन राशि वाले अपने अहंकार को हटा दें तो इनको समाज में प्रतिष्ठी अवश्य मिलती है। 

यह भी पढ़ें- प्रथम भाव में मंगल की स्थिति का आपके जीवन पर असर

 293 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *