सूर्य का गोचर 16 अगस्त 2020- जानें कैसा पड़ेगा सूर्य के गोचर का आपके जीवन पर असर

सूर्य का गोचर 16 अगस्त 2020- जानें कैसा पड़ेगा सूर्य के गोचर का आपके जीवन पर असर

सूर्य का गोचर

ग्रहों के राजा सूर्य को पूरे संसार का पालनहार माना जाता है। यदि सूर्य ना हो तो पृथ्वी पर जीवन भी संभव नहीं है। खगोल विज्ञान के साथ-साथ ज्योतिष शास्त्र में भी सूर्य ग्रह को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। यह प्रत्येक माह एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करता है। अगस्त के माह में यह 16 तारीख को राशि परिवर्तन करेगा और अपनी स्वराशि सिंह में विराजमान होगा। सूर्य का यह गोचर 16 अगस्त को लगभग 19:27 पर होगा।

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य सबसे महत्वपूर्ण ग्रह है, यह जिस भी जातक की कुंडली में अच्छे स्थान में विराजमान होता है उसे सरकारी क्षेत्र से लाभ प्राप्त होता है पिता के साथ उसके संबंध अच्छे होते हैं और उसका आत्मविश्वास भी बहुत ऊपर होता है। तो आइए जानते हैं सूर्य के गोचर से सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

सूर्य का गोचर 16 अगस्त 2020

मेष 

मेष राशि वालों के लिए सूर्य का गोचर उनके पंचम भाव में होगा। यह भाव शिक्षा, संतान और प्रेम संबंधों का कारक माना जाता है। इस भाव में सूर्य के गोचर से आपका भाग्य उदय होगा। इस राशि के विद्यार्थियों को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। हालांकि इस राशि के जो जातक प्रेम संबंधों में पड़े हैं उन्हें थोड़ा संभल कर रहने की जरूरत है इस गोचर के कारण आपके संबंधों में कुछ परेशानी आ सकती हैं। आपको अपने गुस्से पर काबू रखने की जरूरत है नहीं तो संबंध बिगड़ भी सकते हैं। इस राशि के जिन जातकों की संतान हैं उन्हें यह ख्याल रखना होगा कि उनके बच्चे किसी गलत संगत में न पड़े हों। घर के माहौल को अच्छा बनाने के लिए लोगों के साथ वक्त बताएं।

वृषभ

सूर्य का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ भाव में होगा। यह भाव सुख-सुविधाओं माता के साथ आपके संबंधों आदि का कारक माना जाता है। इस भाव में सूर्य के गोचर से आपके पारिवारिक जीवन में थोड़ा बहुत उथल-पुथल मच सकती है। अपनी माता के स्वास्थ्य का आपको विशेष ख्याल रखना होगा। यदि वह किसी पुरानी बीमारी से परेशान हैं तो डॉक्टरी जांच अवश्य करवाएं। इस दौरान वृषभ राशि के कुछ लोग नया वाहन खरीद सकते हैं। इसके साथ ही भूमि और भवन खरीदने के लिए भी यह समय अच्छा है। नौकरी पेशा लोगों को भी कार्यक्षेत्र में अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। हालांकि आपको जल्दबाजी में फैसला लेने से बचना चाहिए।

मिथुन

सूर्य के गोचर से आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी। क्योंकि सूर्य को आत्मा का कारक ग्रह माना गया है और यह आपके तृतीय भाव में गोचर करेगा इसलिए आपका आत्मविश्वास इस दौरान बहुत ऊंचा रहेगा। पारिवारिक जीवन में आप छोटे भाई-बहनों के साथ अच्छे संबंध बनाएंगे जिससे घर में खुशियां आएंगी। इस राशि के जो जातक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं उनके प्रयासों में गति आएगी। यदि आप शादीशुदा हैं तो अपने जीवनसाथी के साथ मिलकर कुछ नया करने की कोशिश कर सकते हैं। इस दौरान बस आपको यह ख्याल रखने की जरूरत है कि कोई भी काम करने से पहले अपने बड़े बुजुर्गों की सलाह अवश्य लें। 

कर्क 

सूर्य देव आपकी वाणी और धन के द्वितीय भाव में गोचर करेंगे। इस भाव में सूर्य के गोचर से आपकी वाणी में तेज तो आएगा लेकिन साथ ही कठोरता भी आ सकती है। इसलिए आपको परिवार के लोगों या सामाजिक स्तर पर बातचीत के दौरान शब्दों का इस्तेमाल बहुत सोच समझकर करना होगा। इस राशि के नौकरी पेशा लोगों को कार्यक्षेत्र में मनचाहे परिणाम मिलेंगे। यदि किसी वजह से उच्च अधिकारियों की नजर में आपकी छवि खराब हुई थी तो वह भी इस दौरान सुधर सकती है। धन से जुड़े मामलों को लेकर भी यह समय अच्छा रहेगा आपकी आर्थिक उन्नति होगी और आप निवेश भी कर सकते हैं। हालांकि इस अवधि में आपको अत्यधिक स्वाभिमानी होने से बचना चाहिए नहीं तो लोगों के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं।

सिंह

यह सूर्य की स्वराशि है। सूर्य का गोचर अपनी स्वराशि में होगा जिससे सिंह राशि वालों को विभिन्न क्षेत्रों में शुभ फलों की प्राप्ति होगी। इस भाव में सूर्य के गोचर से आपके अंदर अहम भाव जाग्रत हो सकता है। हालांकि आपका भाग्य आपका साथ देगा और शारीरिक रूप से भी आप खुद में सकारात्मक परिवर्तन देख पाएंगे। आपके अंदर नेतृत्व करने की क्षमता आएगी जिससे आप कार्यक्षेत्र में अच्छे परिणाम पा सकते हैं। आप अपने ऊपर काम करेंगे और अपनी खूबियों और खामियों को पहचानेंगे खूबियों को और बेहतर करने की कोशिश करेंगे और खामियों को दूर करने की कोशिश करेंगे। आपके ऊर्जा का स्तर भी काफी ऊंचा रहेगा। हालांकि सूर्य के गोचर के दौरान आपको अपने गुस्सैल स्वभाव पर काबू करने की जरूरत है नहीं तो आप काफी परेशान हो सकते हैं। इस दौरान आपको ऐसे भोज्य पदार्थ करने चाहिए जिससे आपका स्वास्थ्य अच्छा बना रहे। 

कन्या 

सूर्य का यह गोचर कन्या राशि के जातकों के लिए बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। सूर्य देव गोचर की इस अवधि में आपके द्वादश भाव में विराजमान रहेंगे जिस कारण आपको स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ परेशानियां हो सकती हैं। यदि आप किसी लंबी बीमारी से परेशान हैं तो इस दौरान आपको अपना बहुत ख्याल रखना होगा। इस राशि के जो जातक 50 की उम्र पार कर चुके हैं वह अपनी डॉक्टरी जांच अवश्य करवाएं। इस दौरान आपको बाहर का भोजन करने से भी बचना चाहिए। हालांकि इस राशि के जो जातक विदेशों से जुड़ा व्यापार करते हैं उनके लिए समय अच्छा है, आप विदेशों से लाभ कमा सकते हैं। इस दौरान अपने खर्चों पर भी आप को काबू रखने की जरूरत है एक अच्छा बजट प्लान करके आप आगे बढ़ें तो आपको फायदा होने की पूरी संभावना है।

तुला 

तुला राशि वालों के लिए सूर्य का यह गोचर कई मायनों में फायदेमंद साबित होगा। सूर्य देव आपकी लाभ भाव यानी कि एकादश भाव में विराजमान होंगे इस भाव से धन आपके शुभचिंतकों दोस्तों और बड़े भाई बहनों के बारे में पता चलता है। इस दौरान इस राशि की नौकरी पेशा लोगों को कार्यक्षेत्र में पदोन्नति मिल सकती है। वही जो लोग सट्टेबाजी में पैसा लगाते हैं उन्हें भी लाभ होने की आशंका है। हालांकि आपको ऐसा करने से दूर ही रहना चाहिए। पिता के साथ आपके संबंधों में भी इस दौरान दिखा रहा है और उनके साथ आ सकते हैं यदि निवेश करना चाहते हैं आपके अनुकूल है आप विश कर सकते हैं।

वृश्चिक 

आपके लिए सूर्य का यह गोचर नई संभावनाएं लेकर आएगा। आप ऊर्जा से भरे रहेंगे और हर काम को दक्षता से पूर्ण करने की कोशिश करेंगे। सूर्यदेव आपके दशम भाव में विराजमान रहेंगे जिससे कार्यक्षेत्र में इस राशि वालों की ऊर्जा कमाल की होगी। जो लोग लंबे समय से सरकारी नौकरी प्राप्त करने के लिए कोशिशें कर रहे थे उनको भी शुभ समाचार मिल सकता है। कुछ जातक अपने पिता के कारोबार को आगे बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। कारोबारियों के लिए भी यह समय अच्छा है जो लोग अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं वह अपने बड़े बुजुर्गों से सलाह मशवरा करके नए काम की शुरुआत कर सकते हैं।

धनु 

बृहस्पति के स्वामित्व वाली धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर अच्छा रहेगा। आप धार्मिक क्रियाकलापों में हिस्सा ले सकते हैं। हालांकि भगवान पर आस्था से ज्यादा आप खुद में अच्छे गुण लाने की कोशिश करेंगे। आपका भाग्य इस दौरान आपका साथ देगा। यदि आप विद्यार्थी हैं तो गुरुजनों के साथ आपके संबंध अच्छे होंगे और आपके गुरुजन शिक्षा में आ रही परेशानियों को दूर करने के लिए आपको सलाह दे सकते हैं। इस राशि के जातक सूर्य के इस गोचर के दौरान आध्यात्मिक पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं। इसके साथ ही आप योग ध्यान के जरिए आत्मिक सुख पाने की कोशिश करेंगे। कुल मिलाकर कहा जाए तो इस दौरान आपको मानसिक शांति प्राप्त हो सकती है।

मकर 

मकर राशि के जातकों के लिए सूर्य का गोचर बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। इस गोचर के दौरान आपके जीवन में कई उतार-चढ़ाव आ सकते हैं। क्योंकि यह गोचर आपके अष्टम भाव में हो रहा है जो कि आयुर भाव कहलाता है और इससे जीवन में आने वाली परेशानियों, मृत्यु अचानक मिलने वाले लाभ आदि का पता चलता है, इसलिए इस गोचर के दौरान आपको सावधान रहने की जरूरत है। कई चुनौतियां इस गोचर काल में आपके जीवन में आ सकती हैं यदि आप इन चुनौतियों का डटकर सामना करना चाहते हैं तो अपने आत्मविश्वास को बनाए रखिए। ऐसे काम ना करें जिनसे आप का विश्वास डगमगा जाता है। इस राशि के जातकों को अचानक से धन लाभ होने की संभावना है। जो विद्यार्थी गूढ़ विषयों का अध्ययन कर रहे हैं उनको लाभ मिलेगा।

कुंभ 

सूर्य का गोचर आपके सप्तम भाव में होने से मिले-जुले परिणाम आपको प्राप्त होंगे। सप्तम भाव को विवाह और साझेदारी का भाव कहा जाता है। इस भाव में चंद्रमा के गोचर से इस राशि के कारोबारियों को विशेष लाभ होने की संभावना है खासकर उन कारोबारियों को जो साझेदारी में काम करते हैं। हालांकि आपको अपने गुस्से पर इस समय काबू रखने की जरूरत है नहीं तो लोगों के साथ संबंधों में खटास आ सकती है। यदि आप शादीशुदा हैं तो अपने जीवनसाथी का आपको विशेष ख्याल रखने की जरूरत है ऐसी बातें बोलने से बचें जो आपके जीवन साथी को अच्छी नहीं लगती। अपने स्वास्थ्य का इस दौरान ख्याल रखें संतुलित भोजन और व्यायाम आपको कई मुश्किलों से बचा सकता है।

मीन

शत्रु और रोग के छठे भाव में सूर्य का गोचर होने से आपको जीवन में कुछ दिक्कतों की सामना करना पड़ता है, लेकिन कुलमिलाकर यह गोचर आपके लिए अच्छा साबित होगा। यदि आपने अपने स्वास्थ्य पर ध्यान न दिया तो बीमारियां आपको लग सकती हैं। हालांकि आपका भाग्य इस समय आपका साथ देगा और कार्यक्षेत्र या निजी जीवन में आपको सफलता मिल सकती है। आपके अच्छे काम का आपको फल इस दौरान मिलेगा रुके हुए काम फिर से शुरू हो जाएंगे। आप आध्यात्मिक रूप से भी सुदृढ़ होंगे।

यह भी पढ़ें- यह 10 लक्षण बता देते हैं कि आपकी कुंडली में राहु शुभ है या अशुभ

 564 total views


Tags: ,

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *