घर के लिए वास्तु : जानिए यह क्यों जरूरी है

विषयसूचि

  • घर के लिए वास्तु
  • घर के लिए वास्तु क्यों जरूरी है?
  • विभिन्न कमरों के लिए सामान्य दिशा
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के लिए सामान्य दिशा-निर्देश
  • इन्हें विस्तार से देखें

घर के लिए वास्तु शास्त्र यानी वास्तु के प्राथमिक और पारंपरिक साधनों को बेहतर तरीके से समझना, जो कि उन्हें घर के निर्माण के आधुनिक रूप से अलग करता है। इसके अलावा, यह आपके घर को इस तरह निर्माण करने में मदद करता है ताकि वहां रहने वाले सभी सदस्यों के जीवन में सकारात्मकता और कल्याण का आगमन हो सके। आमतौर पर, घर के लिए वास्तु शास्त्र मन की अवधारणा पर काम करता है। यह किसी भी निर्माण भवन के भीतर आनुपातिक संबंध स्थापित करता है। लेकिन दूसरी ओर, आयादी इष्टतम परिणामों के लिए सर्वोच्च स्थितियों को निर्धारित करने में मदद करता है, जैसे कि वहां रहने वाले लोगों को शांति, समृद्धि, खुशी और कल्याण के साथ खुशहाली देना।

इतिहास से पता चलता है कि एक समय तक घर पर वास्तु शास्त्र का प्रयोग केवल मंदिरों तक सीमित था। हालांकि, इन दिनों वास्तु के प्रयोग का विस्तार हुआ है। आजकल घर के हर कमरे के निर्माण से पहले वास्तु का ध्यान रखा जाता है। बेडरूम, लिविंग रूम, गेस्ट रूम, किचन या स्टोर रूम हो, घर के लिए वास्तु टिप्स लोगों को जीवन में सफलता और बेहतर अवसर प्राप्त करने में मदद करते हैं। जहां लोग रहते हैं, उसे मनुष्यालय के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ है मानव मंदिर। वास्तु शास्त्र के अनुसार हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए ऐसे सुझावों का उपयोग करना महत्वपूर्ण होता है।

घर के लिए वास्तु क्यों जरूरी है?

लोगों का अपने घरों से गहरा नाता होता है। इसलिए हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम इसे बुरी नजर से, नकरात्मक ऊर्जा और अन्य बुरी घटनाओं से बचाकर रखें। घर के लिए वास्तु परिवार के सदस्यों के बीच गर्मजोशी, शांति और शांत वातावरण बनाए रखने के लिए भी जरूरी है। इसके अलावा अगर वास्तु शास्त्र युक्तियों के कार्यान्वयन के साथ घर का निर्माण अच्छी तरह से किया जाता है तो इससे घर में आए मेहमानों के साथ भी आपका रिश्ता अच्छा और सुगम बनता है। वे भी आपके घर में आकर सुखद माहौल की अनुभूति करते हैं। दूसरी ओर, यदि अनिष्ट शक्तियां या नकारात्मक ऊर्जा आपके घर में मौजूद सकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करती है, तो इससे उस स्थान विशेष में रहना कठिन हो जाता है। इस प्रकार, यह आपको तनावग्रस्त कर सकता है, परिवारा में बुरी घटनाएं घट सकती हैं और घर का महौल हमेशा अशांति प्रिय रह सकता है।

इसके अलावा, यदि लोग अपने घर के लिए सही वास्तु सुझावों का पालन करते हैं, तो इससे उनके घर में धन और खुशियों के साथ-साथ महान चीजों का भी आगमन होता है। घर के लिए वास्तु शास्त्र में दरवाजे और खिड़कियों की स्थिति, छत के प्रकार, शुभ रंग आदि शामिल होते हैं। इसलिए, व्यक्ति के ज्योतिषीय आंकड़ों और अन्य महत्वपूर्ण कारकों के आधार पर, आप इसमें वास्तु के सिद्धांतों को शामिल कर अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

विभिन्न कमरों के लिए सामान्य दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार अलग-अलग दिशाओं पर अलग-अलग शासकों का शासन होता है। पूर्व दिशा में इंद्र देव का शासन है। पश्चिम दिशा में वरुण देव, उत्तर दिशा में कुबेर और दक्षिण दिशा में यमदेव हैं। उसी के आधार पर घर में अलग-अलग कमरों के लिए कुछ सामान्य दिशा-निर्देश सुनिश्चित किए गए हैं।

स्नानघर: पूर्व दिशा

भोजन कक्ष: पश्चिम दिशा

शयन कक्ष: दक्षिण दिशा

रसोई: दक्षिण पूर्व दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के लिए सामान्य दिशा-निर्देश

आमतौर पर एक समय में घरों में खुले आंगन हुआ करते थे। हालांकि इन दिनों घर के निर्माण में कुछ पश्चिमी मॉडल भी शामिल किए गए हैं। यह लोगों को एक आध्यात्मिक और लौकिक वातावरण का आनंद देता है और उन्हें भौतिकवाद जैसे धन और समृद्धि के साथ-साथ एक मंदिर जैसे वातावरण से जोड़ने में मदद करता है। वास्तु विज्ञान एक परिवार के लिए 9x9 ग्रिड वर्गों के वर्ग-निर्मित घर का सुझाव देता है। लेकिन वैज्ञानिकों, योगियों और कलाकारों के लिए वास्तु द्वारा सुझाए गए आयाम 8x8=64 ग्रिड वर्ग है।

इसके अलावा, वास्तु शास्त्र के अनुसार केंद्रीय स्थान 3x3 = 9 ग्रिड वर्ग होना चाहिए। केंद्रीय स्थान को ब्रह्मस्थानम (संस्कृत) कहा जाता है। चूंकि ब्रह्म स्थान को ऊर्जा का नाभिकीय (न्यूक्लियर) क्षेत्र माना जाता है। इसलिए इसे खाली, साफ और खुला रखना चाहिए।

इसके अलावा, इसका बाहरी स्थान या आकाश तत्व के साथ गहरा संबंध होना चाहिए।

वास्तु अनुसार आपको यह भी याद रखना चाहिए कि रहने या बसने के लिए किसी भी क्षेत्र के केंद्र का उपयोग नहीं करना चाहिए। इस स्थान विशेष में कोई भी धार्मिक आयोजन, सांस्कृतिक समारोह, अनुष्ठान भी नहीं किया जाना चाहिए।

इसी तरह, वास्तु दोष से बचने के लिए आप कई तरह की गतिविधियाँ कर सकते हैं। आइए इनके बारे में जानते हैं:

  • आपको घर में डल शेड्स यानी फीके रंगों के इस्तेमाल से बचना चाहिए। इसके अलावा समृद्धि को आकर्षित करने और बाधाओं से बचने के लिए अपने स्थान को वास्तु-विशिष्ट उत्पादों से सजाया जा सकता है।
  • आपको अपनी कुंडली के आधार पर अपने घर में मंदिर के लिए सबसे उचित स्थान का चयन करना चाहिए। फिर चाहे आप घर में मंदिर का निर्माण कर रहे हैं या फिर मंदिर का सिंहासन खरीदकर घर में कहीं लगावा रहे हैं। इसके साथ ही यह ध्यान रखना चाहिए कि मंदिर हमेशाअच्छी तरह से रखा जाना चाहिए और जिस क्षेत्र में मंदिर को रखा गया है, वह साफ-सुथरा और शुद्ध होना चाहिए।
  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को घर की सही दिशा-क्षेत्र में रखा जाना चाहिए। इन्हें अपने शयनकक्ष में रखने से बचना चाहिए क्योंकि इससे पारिवारिक तनाव और दंपति के बीच कलह की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।
  • इसके अलावा, आपको बंद घड़ी को अपने घर में रखने से बचना चाहिए क्योंकि यह नकारात्मकता को अपनी ओर खींचता है। इसके साथ ही आपको अपने घर में मकड़ी के जाले नहीं लगने देना चाहिए। इससे घर में रहने वाले सदस्यों का स्वास्थ्य खराब होता है।

इसी तरह, घर के लिए कई ऐसे वास्तु टिप्स हैं, जिन्हें आपको जानना चाहिए और आप जहां रह रहे हैं, वहां इनका उपयोग करना चाहिए। तभी आपको अपने जीवन में अनुकूल समय और सकारात्मक ऊर्जा और अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित