पूजा कक्ष के लिए वास्तु टिप्स

विषयसूची

  • प्रार्थना का स्थान
  • पूजा कक्ष के डिजाइन
  • प्रार्थना कक्ष में मूर्तियों की स्थापना
  • पूजा कक्ष के लिए भंडारण संबंधी विचार
  • वास्तु अनुसार प्रार्थना कक्ष को दीवार और फर्श के रंग
  • वास्तु अनुकूल हो प्रार्थना कक्ष के लिए रोशनी व्यवस्था
  • वास्तु मुताबिक कैसा हो पूजा कक्ष का दरवाजा
  • वास्तु अनुसार पूजा कक्ष के लिए सहायक उपकरण
  • दक्षिण-पश्चिम हिस्से में मंदिर बनाना गलत या सही?
  • पूजा कक्ष के लिए सामान्य वास्तु टिप्स
  • वास्तु अनुसार पूजा क्षेत्र में क्या करें-क्या ना करें

वास्तु शास्त्र हमारे जीवन को सुगम बनाने एवं कुछ अनिष्टकारी शक्तियों से रक्षा करने में हमारी मदद करता है। वास्तु शास्त्र एक प्राचीन विज्ञान है, जो हमें नकारात्मक ऊर्जा से दूर और सुरक्षित वातावरण में रखने का काम करता है। जिस प्रकार घर बनवाते समय वास्तु का विशेष ध्यान रखा जाता है ठीक उसी प्रकार घर के हर कमरे को वास्तु के अनुरूप बनवाना चाहिए। इसी के साथ हमारे घर का एक महत्पूर्ण स्थान पूजा कक्ष होता है, जो एक पवित्र स्थान है। इसलिए घर में पूजा कक्ष को वास्तु के नियमों के अनुसार बनाना बहुत जरूरी है।

भारतीय संस्कृति के अनुसार पूजा कक्ष के बिना घर अधूरा माना जाता है। पूजा कक्ष को घरों में पवित्र और महत्वपूर्ण स्थान माना जाता है, क्योंकि यह सकारात्मक ऊर्जा का केंद्र होता है। पूजा कक्ष घर का वह स्थान है, जो घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने का काम करता हैं। अगर वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में पूजा कक्ष बनाया जाए तो, यह घर और परिवार के लिए सुख-शांति के साथ समृद्धि भी लाता है। आइए जानते हैं कि कैसे होना चाहिए वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष।

poojaRoom1

प्रार्थना का स्थान

वास्तु शास्त्र में पूजा कक्ष के स्थान का विशेष महत्व माना जाता है क्योंकि इस जगह हम भगवान के सामने प्रार्थना करते हैं और अपनी मजबूरिया, चाहतें, जरूरतें बताते हैं। पूजा कक्ष के लिए उत्तर-पूर्व दिशा शुभ मानी जाती है क्योंकि यह दिशा घर में रहने वाले सभी सदस्यों के जीवन में सौभाग्य लाने का काम करती है।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

पूजा कक्ष का निर्माण करते समय ध्यान रखें कुछ जरूरी बातें

  • पूजा कक्ष को सीढ़ियों के नीचे नहीं होना चाहिए।
  • घर के मुख्य द्वार के समाने पूजा कक्ष नहीं बनवाना चाहिए।
  • शौचालय के बगल में पूजा कर नहीं होना चाहिए।
  • शौचालय या स्नान कक्ष की दीवार के सहारे पूजा कक्ष नहीं बनवाना चाहिए।

पूजा कक्ष के डिजाइन

poojaRoom2

यदि आप किसी फ्लैट या अपार्टमेंट में रहते हैं तो ध्यान रखें कि पूजा कक्ष की छत पर पिरामिड जैसी संरचना होनी चाहिए, क्योंकि यह डिजाइन पूजा कक्ष के लिए शुभ होने के साथ-साथ सकारात्मकता ऊर्जा को आकर्षित करने का काम करती है। साथ ही आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पूजा कक्ष के दरवाजे और खिड़कियां उत्तर या पूर्व की ओर खुलती हो। अगर हम बात करें दीपक और अग्निकुंड की तो इसकी शुभ दिशा दक्षिण-पूर्व दिशा होती हैं। पूजा कक्ष में तांबे के बर्तन का प्रयोग करना काफी शुभ माना जाता है।

प्रार्थना कक्ष में मूर्तियों की स्थापना

जिस तरह पूजा कक्ष को वास्तु के अनुरूप होना चाहिए, उसी तरह पूजा कक्ष में मूर्तियों का स्थान भी वास्तु सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए। आपको बता दें कि मूर्तियों को इस तरह रखना चाहिए कि उनका मुख उत्तर या पूर्व दिशा की ओर हो। मूर्तियों को कभी भी एक-दूसरे के सामने नहीं रखना चाहिए। दीवार और मूर्तियों के बीच थोड़ा सा गैप अवश्य रखें। पूजा क्षेत्र को साफ और स्वच्छ रखना चाहिए, जिससे सकारात्मक माहौल बना रहे। इसके अलावा, घर पर मंदिर की योजना बनाते समय अगरबत्ती से निकलने वाले धुएं को बाहर निकालने की व्यवस्था बनानी चाहिए।

poojaRoom3
  • सुनिश्चित करें कि मूर्तियां एक दूसरे के सामने ना हों।
  • मूर्तियों को जमीनी स्तर से ऊंचा रखें।
  • मूर्ति को दीवार से कम से कम एक इंच की दूरी पर रखें।
  • दीपक और बाती दक्षिण-पूर्व में रखना चाहिए।
  • टूटी मूर्ति को कभी भी पूजा कक्ष में न रखें।

पूजा कक्ष के लिए भंडारण संबंधी विचार

पूजा कक्ष में अव्यवस्था और धूल दोनों ही घर में नकारात्मकता को बढ़ावा देते हैं और आपके पूजा कक्ष में ऊर्जा के प्रवाह को बाधित करते हैं। इसलिए अपने घर के इस पवित्र स्थान में साफ-सफाई बनाए रखना जरूरी होता है।

ध्यान देने योग्य बातें

  • भंडारण अलमारियां कमरे के पश्चिम या दक्षिण चतुर्थांश में रखनी चाहिए क्योंकि यह सुनिश्चित करता है कि प्राकृतिक प्रकाश कमरे में पूर्ण रूप से प्रवेश कर सके।
  • प्रार्थना पुस्तकों को संभालकर रखना चाहिए।
  • इस बात का ध्यान रखें कि अगरबत्ती इधर-उधर ना हो और दीया हमेशा साफ रहे।
  • दीया और बाती को उचित स्थान पर रखना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु अनुसार प्रार्थना कक्ष को दीवार और फर्श के रंग

वास्तु विज्ञान के अनुसार, पूजा कक्ष का रंग सकारात्मक उर्जा के लिए महत्पूर्ण माना जाता है। साथ ही हर रंग के अपने मायने हैं और उसका अपना महत्व है। रंग प्रकृति के तत्वों के प्रतिनिधि भी करते हैं। जब इन वास्तु के अनुसार घर में रंग करवाया जाता है तो यह घर में शुभता को लाने का काम करते हैं।

वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष के लिए सफेद, हल्का पीला और नीला रंग सबसे शुभ रंग माने जाते हैं। इन रंगों का अपना एक अलग महत्व होता है। सफेद रंग शुद्धता का प्रतीक होता है, तो वहीं नीला रंग शांति लाने का काम करता है। आपको बता दें कि पूजा कक्ष में काले, बैंगनी और गहरे रंगों से बचना चाहिए।

साथ ही हल्के रंग पूजा कक्ष के फर्श के लिए लाभकारी साबित होते हैं इसलिए आप इस स्थान के लिए सफेद संगमरमर या क्रीम रंग की टाइलें चुन सकते हैं।

वास्तु अनुकूल हो प्रार्थना कक्ष के लिए रोशनी व्यवस्था

जैसा कि आप सब जानते हैं कि घर के लिए मंदिर एक पवित्र स्थान है, जिसे वास्तु शास्त्र के अनुसार अच्छी तरह से प्रकाशित किया जाना चाहिए। हिंदू परंपरा के अनुसार, घर को रोशन करने और अधंकार को मिटाने के लिए तेल के दीयों का उपयोग किया जाता है। प्रकाश सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत है और यह बहुत महत्वपूर्ण होता है कि पूजा कक्ष में प्राकृतिक प्रकाश का स्रोत मौजूद हो।

आपको बता दें कि पूजा कक्ष को हमेशा रोशन और उज्ज्वल रखना चाहिए इसलिए आप कृत्रिम रोशनी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, जिनका उपयोग सूर्यास्त के बाद रोशनी करने के लिए किया जा सकता है। इतना ही नहीं, आप चाहें तो स्पॉटलाइट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

वास्तु मुताबिक कैसा हो पूजा कक्ष का दरवाजा

घर का मंदिर पूजा कक्ष की दहलीज के माध्यम से पवित्र ऊर्जा को घर में फैलाता है। जिस तरह घर के मुख्य द्वार से आप अंदर बाहर जाते हैं, उसी तरह पूजा कक्ष के दरवाजे से भी पवित्र ऊर्जा पूरे घर में फैलती है। वास्तु के अनुरूप ही पूजा कक्ष के दरवाजे को बनाना चाहिए ताकि आपके जीवन में आपको सौभाग्य की प्राप्ति हो।

पूजा कक्ष में सिर्फ एक ही दरवाजा होना चाहिए। दरवाजे के बिना मंदिर, घर के अन्य कमरों की तरह ही समझा जाता है। इसी के साथ दरवाजों का चयन करते समय, लकड़ी को प्राथमिक सामग्री के रूप में चुनना चाहिए। लेकिन यह सुनिश्चित अवश्य करें कि पूजा कक्ष में एक ही दरवाजा हो, जोकि कीड़े-मकौड़ों को मंदिर से दूर रखे।

एस्ट्रोलॉजर से बात करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु अनुसार पूजा कक्ष के लिए सहायक उपकरण

पूजा कक्ष एक ऐसा स्थान होता है, जहां भगवान का वास होता है इसलिए इस जगह कूड़ेदान रखने से बचना चाहिए। साथ ही वास्तु के अनुसार, पूजा कक्ष में मृत्यु, युद्ध आदि जैसी अनिष्ट शक्तियों को प्रदर्शित करने वाली तस्वीरों को इस स्थान पर नहीं रखना चाहिए। अगर आप यहां पर पानी रखना चाहते हैं, तो तांबे के बर्तन में ही रखना शुभ माना जाता है।

दक्षिण-पश्चिम हिस्से में मंदिर बनाना गलत या सही?

माना जाता है कि घर के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में मंदिर बनाने पर आमतौर पर कई दुष्प्रभाव देखने को मिलते हैं। घर का दक्षिण-पश्चिमी कोना उत्तर-पूर्वी कोने से बिल्कुल विपरीत होता है, इसलिए यहां की ऊर्जा देवी-देवताओं के पूजा-पाठ के लिए अच्छी नहीं मानी जाती है।

poojaRoom4

दक्षिण-पश्चिमी कोना वास्तु के अनुसार पित्र पूजन के लिए निर्धारित किया गया है। इस दिशा में भगवान विश्वकर्मा की पूजा भी की जाती है, जिससे कर्मचारियों को अपनी काबिलियत बढ़ाने और बेहतर ट्रेनिंग करने में सहायता मिलती है, परंतु इनकी जगह किसी अन्य देवी-देवता की स्थापना इस जगह नहीं करनी चाहिए क्योंकि वास्तु शास्त्र में ऐसा माना जाता है कि यदि अन्य देवी-देवताओं का मंदिर इस दिशा में बनाया जाता है तो लोगों को आर्थिक हानि का सामना करना पड़ सकता है।

साथ ही उनके बिजनेस में बड़ा घाटा हो सकता है या किसी प्रकार की हानि भी हो सकती है। इसलिए घर के दक्षिण-पश्चिमी कोने में अपने पित्रों के चित्र स्थापित करने चाहिए और उनसे संबंधित पूजा पाठ को इस दिशा में किया जा सकता है। इस दिशा में मंदिर बनाना उचित नहीं माना जाता हैं।

यदि आप अपने घर में मंदिर बनाते समय इन विशेष बातों का ध्यान रखें तो निश्चित ही आपके घर में सुख समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा आएगी। घर के लोग भी प्रसन्न रहेंगे। मुसीबतें और दुःख तकलीफ भी आसानी से दूर हो जाएंगी। इस तरह आप एक आप एक सुखी जीवन जी पाएंगे।

पूजा कक्ष के लिए सामान्य वास्तु टिप्स

  • शौचालय के साथ वाली दीवार पर मंदिर नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे प्रार्थना कक्ष दूषित हो सकता है।
  • ऊपरी मंजिल के शौचालय के नीचे प्रार्थना क्षेत्र रखने से बचना चाहिए।
  • प्रार्थना कक्ष और शौचालय को एक दूसरे के सामने नहीं रखें।
  • लकड़ी या संगमरमर से बना मंदिर बनाएं और कांच या धातु से बने मंदिरों से बचें।
  • क्रिस्टल शंख को प्रार्थना कक्ष में रखना शुभ होता है।
  • पूरे परिवार को दैनिक आधार पर इस स्थान की जांच करनी चाहिए, जिससे मंदिर साफ रहे।
  • वास्तु के अनुसार ही मंदिर की दिशा रखनी चाहिए।
  • साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें, जिससे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह हो।
  • पूर्वजों की मूर्ति या तस्वीरों को मंदिर से दूर रखना चाहिए।

एस्ट्रोलॉजर से चैट करने के लिए: यहां क्लिक करें

वास्तु अनुसार पूजा क्षेत्र में क्या करें-क्या ना करें

  • ऐसा माना जाता है कि तांबे या संगमरमर के बर्तन को उत्तर-पूर्व दिशा में रखना चाहिए। पानी को साफ और ताजा रखने के लिए उसे रोज बदलें।
  • पूजा कक्ष के दक्षिण-पूर्व कोने में दीया जलाना चाहिए। ऐसा करने से जातक के जीवन का अंधकार दूर होता है।
  • प्रार्थना क्षेत्र में मृत/पूर्वजों की तस्वीरें रखने से बचें।
  • इस क्षेत्र को साफ-सुथरा और व्यवस्थित रखें।
  • पूजा कक्ष में गहरे रंग नहीं करवाने चाहिए। गहरे रंग पूजा कक्ष के लिए शुभ नहीं होते हैं।
  • पूजा कक्ष में जल्दी हुई माचिस की तिल्लियों को नहीं रखना चाहिए, क्योंकि इससे नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष उत्तर या पूर्व दिशा में ही होना चाहिए।
  • मंदिर में भगवान गणेश जी की मूर्ति अवश्य रखनी चाहिए, इससे घर में सुख समृद्धि आती है।
  • मंदिर में खंडित मूर्ति नहीं रखनी चाहिए।
  • पूजा कक्ष का रंग सफेद या कोई हल्का रंग होना चाहिए।
  • शयन कक्ष में पूजा कक्ष नहीं होना चाहिए।
  • घर के मंदिरों में ज्यादा बड़ी मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए।

आइए उन्हें विस्तार से देखें:

यह भी पढ़ें

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित