बीज मंत्र

banner

बीज मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

बीज मंत्र (beej mantra) बहुत शक्तिशाली मंत्र है जिनका उपयोग हिंदू धर्म में देवी-देवताओं के आह्वान के लिए किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह छोटे मंत्र ब्रह्मांड के निर्माण के दौरान बनाई गई ध्वनि तरंगों से पैदा हुए थे। इनमें से प्रत्येक मंत्र एक अर्थ से जुड़ा हुआ है। प्रत्येक बीज मंत्र के जाप के दौरान जो ध्वनि आवृत्ति बनती है, वह देवी का आह्वान करने का काम करती है। उनकी ब्रह्मांडीय ऊर्जा को शरीर में प्रवाहित करने में मदद करती है। यदि कोई दिव्य आकृतियों की शक्तियों को प्राप्त करने का इरादा रखता है, इन मंत्रों का जाप लगातार इस संदर्भ में चमत्कारी काम करता है। वास्तव में प्रत्येक देवता को समर्पित मंत्रों का जाप करना और उनमें बीज मंत्र जोड़ना, यह देवी-देवताओं को अधिक प्रसन्न करता है। इन बीज मंत्रों में शक्ति होती है। ये शरीर और मन दोनों को स्वस्थ रखते हैं।

बीज मंत्र एकल या मिश्रित शब्द होते हैं, जहां शक्ति शब्द की ध्वनि में निहित होती है।

बीज मंत्र

बीज मंत्र: वे कैसे मदद करते हैं (Beej Mantra: How do they help in hindi)

बीज मंत्र (beej mantra) जाप के दौरान बोले जाने वाले प्रत्येक शब्द का एक महत्वपूर्ण अर्थ होता है, क्योंकि यह मंत्र की नींव बीज की तरह होती है। लेकिन शब्दों या ध्वनि को तोड़कर सरल और समझने योग्य भाषा में बदलना सही नहीं है। इन मंत्रों के पीछे के विज्ञान को समझने में काफी समय लग सकता है, फिर भी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाते हैं। ये प्राकृतिक रूप से प्रकट हुए हैं। इसके बाद ऋषियों द्वारा उनके छात्रों तक पहुंचा और अंत में शेष दुनिया में इसका प्रसारा हुआ। समय के साथ इन मंत्रों ने अपना स्थान बना लिया है। कई अलग-अलग बीज मंत्र हैं, जो अलग-अलग देवी-देवताओं को समर्पित हैं। लेकिन ऐसे बीज मंत्र भी मौजूद हैं, जो विभिन्न ग्रहों को समर्पित हैं, जिनके उपयोग से उस ग्रह को शांत किया जा सकता है, जो व्यक्ति विशेष की कुंडली में गड़बड़ी का कारण बन रहा हो या खुद को ग्रह के अशुभ प्रभावों से बचाना हो।

ये बीज मंत्र (beej mantra) अत्यंत शक्तिशाली और प्रभावी हैं। जब दृढ़ विश्वास और पवित्र मन से इनका जाप किया जाता है, तो जातक की कोई भी इच्छा पूरी हो जाती है। इस मंत्र का जाप करने के लिए मन का स्थिर एवं शांत होना जरूरी है। शांत मन और ध्यान केंद्रित करने के लिए निरंतर "ओम" मंत्र का उच्चारण किया जा सकता है। इसके बाद विशिष्ट बीज मंत्र का जाप शुरू करना चाहिए। मंत्र को एक समान "ओम" से समाप्त करने से मंत्र पूरे चक्र में आ जाता है।

बीज मंत्रों का जाप कैसे करें (How to chant Beej mantras in hindi)

कहते हैं तन स्वच्छ तो मन स्वच्छ। इसलिए जब भी बीज मंत्रों (beej mantra) के जाप की शुरुआत करें, तो उससे पहले स्नान कर लें और साफ-सुथरे वस्त्र पहनें।

  • सुबह-सुबह इस मंत्र का जाप करना चाहिए। यदि किसी कारणवश आप मंत्र जाप करने से पहले स्नान नहीं कर सकते हैं तो खुद पर पानी की कुछ बूंदें छिड़कें। इसके बाद सफ मन से मंत्र जाप शुरू करें।
  • मंत्र जाप करने के लिए मन शांत होना चाहिए। शांत मन के लिए ध्यान केंद्रित करना होता। इसलिए जब भी मंत्र जाप करें, एक शांत और खाली स्थान पर बैठें। मंत्र जाप के लिए हमेशा ऐसा स्थान चुनें, जहां कोई मौजूद न हो और कोई भी आपको 30 से 40 मिनट तक परेशान न करे। समय सीमा आप अपने हिसाब से निर्धारित कर सकते हैं।
  • शब्द और उच्चारण बीज मंत्रों की शक्ति को उजागर करने की कुंजी हैं। हर शब्दांश का स्पष्ट रूप से बहुत दृढ़ संकल्प के साथ उच्चारण करने का प्रयास करें। बीज मंत्रों का जाप करने के सही तरीके पर मार्गदर्शन करने के लिए आप गुरु की मदद ले सकते हैं।
  • यदि लंबे समयवधि तक मंत्र जाप करने के बावजूद कोई अच्छा परिणाम न मिले, तो हार न मानें। ध्यान रखें कि हर मंत्र को काम करने में समय लगता है। इस प्रक्रिया और स्वयं पर संदेह न करें। खुद पर विश्वास रखें। अगर आपने साफ मन से मंत्रों का जाप किया है, तो अंतिम रूप से अच्छे परिणाम जरूर मिलेंगे। बस थोड़ा सा धैर्य बनाए रखें।
  • सर्वोत्तम परिणाम देखने के लिए दिन में कम से कम 108 बार मंत्र का जप करें।
  • आप मंत्राें का उच्चारण करने से पहले खुद को ध्यान केंद्रित करने का प्रयास करें। ध्यान आपको शांति प्राप्त करने में मदद करता है। साथ ही ध्यान करने की वजह से तनाव दूर होता है और आत्मा स्थिर होती है।

महत्वपूर्ण बीज मंत्र (Important Beej Mantras in hindi)

मूल बीज मंत्र "ओम" है। यह वह मंत्र है, जिससे अन्य सभी मंत्रों का जन्म हुआ है। प्रत्येक बीज मंत्र से एक विशिष्ट देवी-देवता जुड़े हुए हैं। बीज मंत्र के प्रकार हैं- योग बीज मंत्र, तेजो बीज मंत्र, शांति बीज मंत्र और रक्षा बीज मंत्र।

ह्रौं

यह शिव बीज मंत्र है। यहां "ह्र" का अर्थ शिव और "औं" का अर्थ सदाशिव है। भगवान शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए भगवान शिव को ध्यान में रखकर ही इस मंत्र का जाप करें।

दूं

यह मंत्र देवी दुर्गा को समर्पित है। उनका आशीर्वाद और उनसे सुरक्षा प्राप्त करने के लिए इसका जाप किया जाता है। "द’’ का मतलब दुर्गा और "ऊ" का मतलब सुरक्षा है। यहां बिन्दु क्रिया (प्रार्थना) है। यह मंत्र देवी दुर्गा की ब्रह्मांड की मां के रूप में स्तुति करता है।

क्रीं

यह मंत्र मां काली को समर्पित है। इस मंत्र में विशेष शक्तियां हैं, जो माता पार्वती के अवतारों में से एक मां काली को प्रसन्न करती है। यहां "क" का अर्थ है मां काली, "र" ब्रह्म है और "ई" महामाया है। कुल मिलाकर इस मंत्र का अर्थ है कि महामाया मां काली मेरे दुखों का हरण करो।

गं

यह बहुत ही शुभ मंत्र है। यह बीज मंत्र भगवान गणेश से संबंधित है। "ग" गणपति के लिए उपयोग किया गया है और बिंदु दुख का उन्मूलन है अर्थात श्री गणेश मेरे दुखों को दूर करो।

ग्लौं

यह भी गणेश के बीज मंत्रों में से एक मंत्र है। यह मंत्र भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए है। इसमें "ग" स्वयं भगवान गणेश हैं, "ल" का अर्थ है व्याप्त है और "औं" का अर्थ है प्रतिभा।

ह्रीं

यह देवी महामाया बीज मंत्र है, जिसे ब्रह्मांड की माता भुवनेश्वरी के नाम से भी जाना जाता है। यहां "ह" का अर्थ है शिव, "र" प्रकृति है और "ई" महामाया और ‘बिंदु’ दुख हर्ता है। इस मंत्र को दुर्भाग्य को दूर करने के लिए सहायक माना जाता है।

श्रीं

यह लक्ष्मी बीज मंत्र है। इस मंत्र को धन प्राप्ति के लिए जप किया जाता है। इस मंत्र में "श्र" महालक्ष्मी के लिए है, "र" धन के लिए है और "ई" पूर्ति के लिए है। जब कोई धन और समृद्धि के लिए महालक्ष्मी को जगाने की कोशिश कर रहा हो, तो उसे इस मंत्र का जाप करना चाहिए। यह बीज मंत्र बहुत फायदेमंद है।

ऐं

इस बीज मंत्र से मां सरस्वती का आविर्भाव होता है। अगर कोई ज्ञान और शिक्षा के लिए प्रार्थना करना चाहता है, तो यह बीज मंत्र आवश्यक है। मां सरस्वती शिक्षा, ज्ञान, संगीत और कला की देवी हैं। यहां "ऐं" का अर्थ है, हे मां सरस्वती।

क्लीं

यह बीज मंत्र भगवान कामदेव के लिए है। वह प्रेम और इच्छा के देवता हैं। इस बीज मंत्र के जरिए कामदेव की प्रार्थना की जाती है। यहाँ "क" का अर्थ कामदेव है, "ल" इंद्र देव के लिए है और "ई" संतुष्टि के लिए है।

हूं

यह शक्तिशाली बीज मंत्र भगवान भैरव से जुड़ा है। भगवान भैरव, भगवान शिव के उग्र रूपों में से एक हैं। इस मंत्र में "ह" भगवान शिव है और "ऊं" भैरव के लिए है। कुल मिलाकर इस मंत्र का अर्थ है, हे शिव मेरे दुखों को नाश करो।

श्रौं

भगवान विष्णु के रूपों में से एक भगवान नृसिंह इस शक्तिशाली बीज मंत्र से उत्पन्न होते हैं। "क्ष" नृसिंह के लिए है, "र" ब्रह्म हैं, "औ" का अर्थ है ऊपर की ओर इशारा करते हुए दांत और "बिंदु" का अर्थ है दुख हरण। इस मंत्र के माध्यम से ब्रह्मस्वरूप नृसिंह से प्रार्थना की जा रही है कि हे भगवान मेरे दुखों को दूर करो।

बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह 4 बजे से, भोजन से पहले
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 108 बार
बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर, पूर्व की ओर

अन्य शक्तिशाली बीज मंत्र (Other Powerful Beej Mantras in hindi)

गायत्री बीज मंत्र (beej mantra) अत्यंत शक्तिशाली है और पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। यह देवी-देवताओं और ग्रहों के अन्य बीज मंत्रों के संयोजन से बना है और इसकी संयुक्त शक्ति है। मृत्युंजय बीज मंत्र जो भगवान शिव को समर्पित है, बहुत शक्तिशाली और उपयोगी है क्योंकि इस मंत्र का जाप करने से जातक और उनके परिवार को सुरक्षा मिलती है। साथ ही इस मंत्र के जाप से रोग और मृत्यु का भय भी दूर हो जाता है।

लक्ष्मी नारायण बीज मंत्र, राम बीज मंत्र, राधा कृष्ण बीज मंत्र, गरुड़ बीज मंत्र कुछ ऐसे मंत्र हैं, जो भगवान विष्णु से जुड़े हैं। इन मंत्रों के जाप से उत्पन्न ध्वनि तरंगें परिवार में खुशियां फैलाती हैं और अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करती है। नवरात्रि उत्सव के दौरान दुर्गा सप्तशती बीज मंत्र और नव दुर्गा बीज मंत्र का विशेष रूप से जाप किया जाता है। इस मंत्र का जाप करने से मां दुर्गा के नौ रूपों की कृपादृष्टि प्राप्त होती है।

अन्य बीज मंत्र हैं:

1. नवग्रह बीज मंत्र (Navagraha Beej Mantras)

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली पर ब्रह्मांड के नौ ग्रहों का विशेष महत्व है। ये नवग्रह बीज मंत्र हमारे जीवन पर ग्रहों के कारण होने वाले दुष्प्राभों से राहत दिला सकते हैं।

नौ ग्रहों के बीजाक्षर मंत्र हैं:

सूर्य या सूर्य बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 7000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः ॥

चंद्र या चंद्र बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 11000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्राय नमः ॥

मंगल या मंगल बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 10000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः ॥

बुध या बुध बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 9000 बार जाप करना चाहिए

ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः ॥

बृहस्पति या बृहस्पति बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 19000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः ॥

शुक्र या शुक्र बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 16000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः ॥

शनि या शनि बीज मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 23000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः॥

राहु मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 18000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः॥

केतु मंत्र: इस मंत्र का 40 दिनों के भीतर 17000 बार जाप करना चाहिए।

ॐ स्रां स्रीं स्रौं सः केतवे नमः॥

नवग्रह मंत्रों के जाप के लाभ (Benefits of chanting the Navagraha mantras in hindi)
  • प्रत्येक ग्रह के लिए अलग मंत्र है। मंत्र विशेष का जाप करने से उस ग्रह विशेष के नकारात्मक प्रभाव को कम या दूर किया जा सकता है।
  • इन मंत्रों के नियमित जप से व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है।
  • प्रत्येक मंत्र में प्रत्येक ग्रह से संबंधित शक्तियां होती हैं और इन बीज मंत्रों के जाप से नवग्रह का सकारात्मक आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है।
नवग्रह बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह-सुबह, विशेष ग्रह के लिए विशिष्ट सप्ताह का दिन
इस मंत्र के जाप करने की संख्या प्रत्येक ग्रह में जप करने के लिए निर्दिष्ट संख्या होती है
नवग्रह बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? ग्रह के दुष्प्रभाव से पीड़ित व्यक्ति
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर, पूर्व की ओर

2. चक्र बीज मंत्र (Chakra Beej mantra)

हमारे शरीर के प्रत्येक चक्र केंद्र के लिए एक बीज मंत्र है। ये मंत्र चक्रों की ऊर्जा को सक्रिय करते हैं। इन मंत्रों का प्रयोग प्राचीन काल से ही महान ऋषि-मुनियों द्वारा किया जाता रहा है।

  • लं- मूलधारा (जड़) चक्र बीज मंत्र। यह जिस ऊर्जा को सक्रिय करता है वह ग्राउंडेडनेस है।
  • वं- स्वाधिष्ठान (चक्र) बीज मंत्र। यह जिस ऊर्जा को सक्रिय करता है वह रचनात्मकता है।
  • रं- मणिपुर (सौर जाल) चक्र बीज मंत्र। यह जो ऊर्जा सक्रिय करती है वह आंतरिक शक्ति है।
  • यं- अनाहत (हृदय) चक्र बीज मंत्र। यह जो ऊर्जा सक्रिय करती है वह करुणा और प्रेम है।
  • हं- विशुद्धि (गला) चक्र बीज मंत्र। यह जिस ऊर्जा को सक्रिय करता है वह अभिव्यक्ति है।
  • ॐ- आज्ञा (तीसरी आंख) चक्र बीज मंत्र। यह मंत्र कल्पना की ऊर्जा को सक्रिय करता है।
  • मौन ॐ- सहस्रार (मुकुट) चक्र बीज मंत्र। यह मंत्र आत्मज्ञान की ऊर्जा को सक्रिय करता है।
चक्र मंत्र जाप के लाभ (Benefits of chanting Chakra mantras in hindi)
  • चक्र हमारे शरीर के केंद्रीय बिंदु हैं और चक्र बीज मंत्र प्रत्येक चक्र पर ध्यान केंद्रित करते हैं और उनकी ऊर्जा को सक्रिय करते हैं।
  • प्रत्येक चक्र पर ध्यान केंद्रित करके प्रत्येक चक्र बीज मंत्र का जाप करने से अद्भुत परिणाम प्राप्त होते हैं, क्योंकि ये सभी मंत्र जीवन के विभिन्न पहलुओं, जैसे स्वास्थ्य, धन, सुख, समृद्धि और विकास कार्य करते हैं।
  • इन बीज मंत्रों में चिकित्सीय गुण होते हैं क्योंकि ये मन से तनाव और दुख को दूर करते हैं और विश्राम देते हैं।
चक्र बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह-सुबह, सुबह 4 बजे से
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 108 बार
चक्र बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर, पूर्व दिशा की ओर

बीज मंत्र जाप के समग्र लाभ (Overall Benefits of chanting Beej Mantras in hindi)

  • प्रत्येक बीज या ध्वनि बीज एक विशिष्ट देवता से जुड़ा होता। इसी तरह विशिष्ट देवता या देवी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रत्येक बीज मंत्र बहुत महत्वपूर्ण है।
  • बीज मंत्र (beej mantra) उस देवता की ध्वनि अभिव्यक्ति हैं, जिसका वे प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • बीज मंत्र का एक निर्धारित तरीके से नियमित जाप करने से लोगों की आध्यात्मिक शक्तियों को बढ़ाने में मदद मिलती है। साथ ही उन्हें अपनी यात्रा का नेतृत्व करने वाले लोगों के सामने वास्तविक प्रकाश देखने में मदद मिल सकती है।
  • बीज मंत्रों का शुद्ध हृदय और विश्वास के साथ जाप करने पर जीवन में सभी प्रकार के सकारात्मक परिवर्तन होते हैं।
  • बीज मंत्र स्वयं पर ध्यान केंद्रित करने और नकारात्मक चीजों को दूर करने का बहुत अच्छा तरीका है। ध्यान करते समय मंत्रों का जाप करना और भी अधिक अच्छा होता है, क्योंकि यह एक साथ दो अच्छे काम करने जैसा है।
  • बीज मंत्र व्यक्ति आध्यात्मिक बनाता है और भगवान के साथ बेहतर संपर्क बनाने में मदद करता है।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित