तुलसी मंत्र

banner

तुलसी मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

तुलसी को हिंदुओं में सबसे पवित्र पौधा माना जाता है। अधिकांश हिंदू घरों में तुलसी का पौधा होता है, जिसकी पूजा प्रतिदिन स्नान के बाद की जाती है। तुलसी, जिसे वृंदा के नाम से भी जाना जाता है, एक देवी और श्री विष्णु की पत्नी हैं। नतीजतन, वह लगातार विष्णु के विभिन्न अवतार जाे इस दुनिया में जीवन को बनाए रखनो में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, उनकी सभी धार्मिक क्रिया से संबंधित हैं। तुलसी को ग्रह पर देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। तुलसी के पौधे की भक्ति के पीछे कई कारण मौजूद हैं। तुलसी या वृंदा को स्वर्ग या वैकुंठ, भगवान विष्णु के निवास का द्वार माना जाता है। नतीजतन, वह अनुयायियों को उनके अंतिम लक्ष्य, मोक्ष के करीब पहुंचने में सहायता करती हैं।

तुलसी के कई हिस्सों को हिंदू धर्म के कई देवताओं और पवित्र ग्रंथों का निवास माना जाता है। इसके अलावा, क्योंकि उन्हें देवी लक्ष्मी की एक शारीरिक अभिव्यक्ति कहा जाता है, इसलिए उन्हें हर दिन शांति और धन के लिए सम्मानित किया जाता है। इसके अलावा, यह पवित्र पौधा किसी भी वास्तु दोष को दूर करने में मदद करता है। पारंपरिक परिवारों में पूजा-अर्चना के दौरान तुलसी पौधे का उपयोग भी किया जाता है। लोग तुलसी देवी की पूजा करने के लिए हाथ जोड़कर पौधे के चारों ओर परिक्रमा करते हैं। तुलसी की उपस्थिति नुकसान और दुख से लड़ने में मदद करती है।

बता दें कि तुलसी के पौधे में चिकित्सीय गुण होते हैं। चूंकि तुलसी पौधे में चिकित्सीय गुण पाए जाते हैं, इसलिए इसका उपयोग सामान्य सर्दी, खांसी और अन्य बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह हमारे शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूत करने में भी मदद करता है।

तुलसी मंत्र

तुलसी मंत्र: वे कैसे मदद करते हैं

हिंदू धर्म में मंत्र आवाज के स्वर को, देवता या अलौकिक इकाई, अधिक या कम, सूचना शक्ति के रूप में निर्धारित करता है। बीज एक सार्थक शब्द या शब्दों का समूह है जो असाधारण शक्ति प्रदान करता है। कभी-कभी यह शब्द एक ऐसी ध्वनि होती है, जो उपयोग करने वाले के आवाज के साथ मेल खाती है। आप इसका उच्चारण करेंगे, तो इसकी ध्वनि अलग सुनाई देगी और जब कोई और बोलेगा, तब इसकी ध्वनि अगल सुनने को मिलेगी। असल में व्यक्ति दर व्यक्ति इसकी ध्वनि में अंतर सुनाई देता है। कभी-कभी यह शब्द महज मंत्र के मूल भाव को व्यक्त करती है और कभी-कभी इसका परिणाम बिल्कुल वैसा देखने को मिलता है, जैसे एक बीज से फूल खिलने पर होता है। इस बीज से जो परिणाम सामने आते हैं, वह चौतरफा खिले हुए नजर आते हैं। इस मंत्र की ध्वनि से जो स्पंदन या कंपन उत्पन्न होता है, वही इसकी शक्ति है।

घर के ब्रह्मस्थान में तुलसी का पेड़ लगाना अत्यंत भाग्यशाली माना जाता है। यह पूरे वातावरण में देवत्व फैलाता है और सुखद ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ावा देता है। आपको बता दें कि ब्रह्मस्थान घर के ठीक बीचों-बीच वाले भाग को बोलते हैं। इसे सबसे पवित्र स्थान माना जाता है। इसके अलावा, तुलसी के बीज का उपयोग माला बनाने के लिए किया जाता है। इसे आप चाहें तो पहन सकते हैं या फिर मंत्र उच्चारण के लिए भी मदद में ला सकते हैं।

तुलसी मंत्र का जाप कैसे करें

अपने घर में तुलसी के पौधे की उचित देखभाल करना बहुत जरूरी है। तुलसी का पौधा एक नाजुक पौधा होता है, इसमें समर्पण के साथ-साथ काफी ज्यादा देखभाल की जरूरत होती है। तुलसी पौधे के इर्द-गिर्द मंत्रों का जाप करने और इस पौधे को पानी देने से पहले पौधे के आसपास स्वच्छता बनाए रखना जरूरी है। ध्यान रखें कि स्नान करने के बाद ही तुलसी पौधे के पास जब जाएं।

मंत्रों का जाप करते समय नीचे दिए गए कुछ निर्देशों का पालन करें।

  • सबसे पहले तुलसी पौधे के आसपास के क्षेत्र को साफ करना चाहिए। इसके बाद मंत्र का उच्चारण करना चाहिए।
  • तुलसी के पौधे के पास तेल का दीपक जलाने की सलाह दी जाती है।
  • तुलसी के पौधे को कलश के माध्यम से जल अर्पित करें। कलश को अपने दोनों हाथों से पकड़ें। ठीक वैसे ही अर्घ्य दें जैसे आप सूर्य देव को देते हैं। जल अर्पित करने की यह प्रक्रिया पूरे श्रद्धा भाव से करें।
  • जल अर्पित करने के बाद फूल और अगरबत्ती के साथ हल्दी का प्रसाद चढ़ाएं।
  • अंत में प्रक्रिया को पूरा करने और सकारात्मकता और सौभाग्य का अनुभव करने के लिए मंत्रों का जाप करते हुए पौधे के चारों ओर परिक्रमा करें।

महत्वपूर्ण तुलसी मंत्र

1.तुलसी गायत्री मंत्र

तुलसी गायत्री मंत्र एक बहुत ही शक्तिशाली मंत्र है। तुलसी गायत्री मंत्र मानसिक शांति प्रदान करता है। यह मंत्र घरेलू सद्भाव और संतोष को भी बढ़ावा देता है। मंत्र के सभी लाभों को प्राप्त करने के लिए तुलसी गायत्री मंत्र का जाप करें। तुलसी मंत्र, तुलसी के लिए उच्चारित किया जाता है। तुलसी भगवान विष्णु और उनके अवतार श्री कृष्ण की पूजा के लिए उपयोग में लाया जाता है। यह मंत्र विशेषकर उन लोगों के लिए जिनके जीवन में काफी समस्याएं और कष्ट हैं। तुलसी गायत्री मंत्र इस प्रकार है-

तुलतुलसी गायत्री मंत्र है:

ॐ तुलसीदेव्यै च विद्महे,

विष्णुप्रियायै च धीमहि,

तन्नो वृन्दा प्रचोदयात् ।।

अर्थ - विष्णु प्रिय तुलसी मैं आपको नमन करता हूं। आप मुझे उच्च बुद्धि दो। हे वृंदा आप मेरे मन को रोशन करो।

तुलसी गायत्री मंत्र के जाप के लाभ
  • तुलसी गायत्री मंत्र का नियमित रूप से जाप करने से सकारात्मक भाग्य और सफलता की संभावना बढ़ जाती है।
  • यह मंत्र आपकी आय में सुधार करता है और वित्तीय समस्याओं को कम करता है।
  • यह मंत्र आपके दुखों को कम करने में मदद करता है और आपके जीवन में अच्छी ऊर्जा का प्रवाह बढ़ाता है।
  • तुलसी गायत्री मंत्र भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी से आशीर्वाद प्राप्त करने में सहायता करता है।
  • यह मंत्र जिंदगी के लिए नए दरवाजे खोलने में मदद करता है और आपके लिए बेहतर अवसर लाता है।
तुलसी गायत्री मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह स्नान के बाद
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 9, 11, 108, या 1008 बार
इस मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें तुलसी के पौधे, मूर्ति या छवि के सामने
2. वृंदा देवी-अष्टक: वृंदा देवी (तुलसी) की महिमा करने वाले आठ मंत्र

तुलसी मंत्र का तुलसी पौधे की पूजा करने के लिए जप किया जाता है। यह पौधा भगवान विष्णु और उनके अवतार श्री कृष्ण तथा विट्ठल को समर्पित है। तुलसी मंत्र अच्छे स्वास्थ्य, धन, शांति और सफलता के लिए एक बेहद शक्तिशाली मंत्र हैं। इन मंत्रों को तुलसी को पानी देने से पहले या जल अर्पित करते समय उच्चारित किया जाता है। याद रखने वाली बात यह है कि बिना स्नान के तुलसी को हाथ लगाने वाला अपराधी होता है। वह इसके बाद जो भी अच्छे कर्म कर ले, उसे गिना नहीं जानता। वह दोषी और अपराधी के बराबर होता है। उसके सभी प्रयास निष्फल हो जाते हैं। इसके अलावा तुलसी पौधे को चुनते वक्त यानी उसमें से पत्ते निकालते वक्त आपको इसके लिए निर्धारित नियम का पालन करना चाहिए। नियमानुसार, शाखा को बाएं हाथ से पकड़ते हुए दाहिने हाथ से पत्तियों को चुनें। यह भी ध्यान रखें कि शाखाएं टूटें नहीं। तुलसी के पौधे का पूरा सम्मान करें। उसे स्नेह-प्रेम भरपूर दें। साथ ही उसकी अच्छी देखभाल करें। तुलसी के पौधे के साथ आपको अच्छा व्यवहार भी करना चाहिए। आपके घर में सकारात्मकता फैलाने और भगवान विष्णु-देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए निम्न आठ मंत्र बहुत महत्वपूर्ण हैं। इन मंत्रों को समर्पण और भक्ति के साथ जाप करना चाहिए।

वृन्दादेव्यष्टकम् मंत्र:

गाङ्गेयचाम्पेयतडिद्विनिन्दिरोचिःप्रवाहस्नपितात्मवृन्दे ।

बन्धूकबन्धुद्युतिदिव्यवासोवृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ १॥

अर्थ - प्रिय वृंदा देवी, मैं आपके चरणों में श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं। आप अपने ही तेज में सराबोर हैं, जो बिजली की चमक और सुनहरे चंपक के फूल से भी तेज है। नीले बंधुका फूल की सुंदरता आपके आध्यात्मिक आवरण को ओढ़े हुए है।

बिम्बाधरोदित्वरमन्दहास्यनासाग्रमुक्ताद्युतिदीपितास्ये ।

विचित्ररत्नाभरणश्रियाढ्ये वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ २॥

अर्थ - प्रिय वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से नमन करता हूं। आपके नाम पर मोती की चमक है और बिंबा फल की तरह होंठों पर प्यारी सी मुस्कान है, यह आपके चेहरे की चमक को रोशन करते हैं। आपने चमकील हीरे के साथ जो आभूषण धारण किए हैं, वे आपकी चमक को और बढ़ाते हैं।

समस्तवैकुण्ठशिरोमणौ श्रीकृष्णस्य वृन्दावनधन्यधामिन् ।

दत्ताधिकारे वृषभानुपुत्र्या वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ३॥

अर्थ - हे वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से प्रणाम करता हूं। राजा वृषभानु की बेटी श्रीमती राधारानी ने आपको भगवान कृष्ण के धनी और भाग्यशाली घर वृंदावन का शासक नियुक्त किया है, जो सभी वैकुंठ ग्रहों का मुकुट रत्न है।

त्वदाज्ञया पल्लवपुष्पभृङ्गमृगादिभिर्माधवकेलिकुञ्जाः ।

मध्वादिभिर्भान्ति विभूष्यमाणाः वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ४॥

अर्थ - प्रिय वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से नमन करता हूं। आपके आदेश के कारण, जिस वन में भगवान माधव अपनी लीला करते हैं, वे खिलते हुए फूलों, भौंरों, हिरणों और अन्य भाग्यशाली प्राणियों, फूलों और पक्षियों के साथ शानदार दिखते हैं।

त्वदीयदौत्येन निकुञ्जयूनोः अत्युत्कयोः केलिविलाससिद्धिः ।

त्वत्सौभगं केन निरुच्यतां तद्वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ५॥

अर्थ - प्रिय वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से नमन करता हूं। आपके भाग्यशाली भाग्य की पर्याप्त व्याख्या कौन कर सकता है? आप वह दूत थे, जो राधा और कृष्ण की भावनाओं में पूर्णता लेकर आए, वो युवा जोड़े जो वृंदावन के वन में खुशी से खेलते थे।

रासाभिलाषो वसतिश्च वृन्दावने त्वदीशाङ्घ्रिसरोजसेवा ।

लभ्या च पुंसां कृपया तवैव वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ६॥

अर्थ - हे वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं। वृंदावन उन जीवों का घर है, जो आपके भगवान के चरण कमलों की सेवा करते हैं। रस नृत्य के भगवान के शानदार विविधता को समझने की लालसा आपकी दयालुता के कारण ही संभव है।

त्वं कीर्त्यसे सात्वततन्त्रविद्भिः लीलाभिधाना किल कृष्णशक्तिः ।

तवैव मूर्तिस्तुलसी नृलोके वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ७॥

अर्थ - हे वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से नमन करता हूं। जिन्होंने सत्व-तंत्र का अध्ययन किया है, वे आपके गुणों की प्रशंसा करते हैं। आप भगवान कृष्ण की लीला करने की क्षमता हैं। आप मानव समाज में तुलसी देवी के रूप में जानी जाती हैं।

भक्त्या विहीना अपराधलेशैः क्षिप्ताश्च कामादितरङ्गमध्ये ।

कृपामयि त्वां शरणं प्रपन्नाः वृन्दे नुमस्ते चरणारविन्दम् ॥ ८॥

अर्थ - हे वृंदा देवी, मैं आपके चरण कमलों को श्रद्धा से नमन करता हूं। जिन लोगों में भगवान हरि की भक्ति नहीं है और वे अपने अपराधों से वासना और अन्य अशुभ लक्षणों के समुद्र में धकेल दिए जाते हैं, वे आपकी शरण ले सकते हैं।

वृंदा देवी-अष्टक मंत्रों के जाप के लाभ
  • ये मंत्र अप्रिय सपने, चिंता, दुर्घटना से रक्षा करते हैं।
  • ये काले जादू, बुरी नजर और अन्य प्रकार की नकारात्मकता से भी बचाता है।
  • ऐसा दावा किया जाता है कि इन मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति के मन, शरीर और आत्मा को शुद्ध करने में मदद मिलती है।
  • यह एक व्यक्ति की आभा में अच्छी ऊर्जा का उत्सर्जन करता है और सभी प्रकार की बुरी ऊर्जा को दूर करने में सहायता करता है।
  • मंत्रों का जाप करते समय तुलसी की माला पहनने से ध्यान में सुधार होता है और उपयोगकर्ता को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है।
वृंदा देवी-अष्टक मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह नहाने के बाद
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 9, 11, 108, या 1008 बार
इस मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें तुलसी का पौधा, मूर्ति या छवि के सामने

तुलसी मंत्र जप के समग्र लाभ

  • तुलसी मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति को अपने अस्तित्व के शुद्धतम रूप को प्राप्त करने में मदद मिलती है।
  • ये मंत्र आशावाद का प्रसार करके सामान्य समृद्धि को बढ़ावा देते हैं और बीमारियों के उपचार में सहायता करते हैं।
  • ज्योतिषियों के अनुसार ये मंत्र हर तरह के दुख को दूर करने में मदद करते हैं।
  • ये मंत्र किसी के विचारों को साफ करने और शांति बनाए रखने में सहायता करते हैं।
  • ये मंत्र आपकी उपलब्धि में आने वाली बाधाओं को दूर करने की शक्ति रखता है।
  • ये मंत्र अन्य जीवित प्राणियों के प्रति सहानुभूति बढ़ाकर मानवीय मानसिकता के विकास में सहायता करता है।
  • ये मंत्र तनाव पर काबू पाने में आपकी सहायता करते हैं। साथ ही साथ आपके आध्यात्मिक स्तर को भी सुधारता है।
  • नियमित रूप से इन मंत्रों का जाप करने से मन को शांत करने, शरीर को पुनर्जीवित करने और आत्मा को शांत करने में मदद मिल सकती है।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित