राहु मंत्र

banner

राहु मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

राहु ग्रह ज्योतिष में सबसे खतरनाक ग्रहों में से एक माना जाता है। लेकिन इसका अपना एक महत्वपूर्ण स्थान है। हालांकि, आमतौर पर जातक को बुरे परिणाम देने के लिए कहा जाता है। लेकिन अपने सर्वोत्तम या लाभकारी रूप में राहु जातक के लिए प्रचुर मात्रा में विलासिता, धन और सफलता ला सकता है। ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह कहा गया है जिसका अर्थ है कि ज्योतिष में हर दूसरे ग्रह की तरह इसका भौतिक रूप नहीं है। फिर भी तसलीम रूप में होने के बावजूद राहु के दुष्प्रभाव सबसे अधिक भयानक हैं। हालांकि, कुंडली में राहु के इन अशुभ प्रभावों से लड़ने के लिए राहु मंत्र काम में आते हैं।

ज्योतिषियों के अनुसार जातक की कुंडली में राहु की मजबूत या कमजोर उपस्थिति उसके पिछले कर्मों का परिणाम है। खासकर पिछले जन्म के कर्मों का मतलब है, यदि आपने अपने पिछले जन्म में अच्छे कर्म किए हैं, तो राहु आपके पक्ष में होने की संभावना है। साथ ही एक सकारात्मक राहु आपको वर्तमान जन्म में आपके पिछले अच्छे कर्मों के लिए पुरस्कृत करता है। दूसरी ओर पिछले जन्म से बुरे कर्मों का भार ढोने वालों के लिए बुरा आता है।

जब आपकी कुंडली में राहु अशुभ होता है और कुंडली में अन्य ग्रहों के साथ युति करता है, तो यह विभिन्न प्रकार के बंधन (समस्याएं) पैदा करता है। उदाहरण के लिए शुक्र को प्रेम का ग्रह माना जाता है। इसलिए किसी भी मामले में, यदि शुक्र पापी राहु से प्रभावित हो रहा है, तो यह आपके प्रेम जीवन में हिचकी या समस्याएँ ला सकता है। और कभी-कभी ये हिचकी शादी या प्यार में विश्वासघात, ब्रेकअप आदि जैसी स्थितियों को जन्म दे सकती है। इस प्रकार जातक की कुंडली में राहु के हानिकारक प्रभावों को हमेशा कम से कम रखना महत्वपूर्ण है। हिंदू मान्यता के अनुसार राहु अच्छे और बुरे के बीच भेदभाव नहीं कर सकता है। और इसलिए यह धार्मिकता (धर्म) के मानकों के खिलाफ काम करता है। इसलिए ग्रह के लिए सभी समान हैं।

राहु मंत्र

राहु अन्य ग्रहों के साथ

शत्रुता, रोग और ऋण राहु के प्रमुख गुण हैं। फिर भी, सकारात्मक पक्ष पर, राहु के प्रभाव में आने वालों को आत्मविश्वासी, बहादुर और निडर कहा जाता है। राहु के सकारात्मक गुण सबसे वांछित में से एक हैं और कुंडली में एक मजबूत राहु होने से आपको इन गुणों में मदद मिल सकती है। नियमित रूप से राहु मंत्रों का जाप करके कुंडली में राहु को मजबूत किया जा सकता है।

राहु की अपनी कोई राशि नहीं है इसलिए जातक की कुंडली में ग्रह प्रत्येक भाव के स्वामी को प्रभावित करता है। राहु के साथ संबंध में राहु अच्छे परिणाम दिखाता है और राहु का मित्र है और नकारात्मक परिणाम यदि भाव या ग्रह के साथ युति में है, तो वह राहु का शत्रु है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु तीसरे, छठे और ग्यारहवें भाव में बलवान होता है।

कुंडली में राहु शुक्र के साथ आने पर जातक को लालची बना देता है। यह उसे जीवन में गलत निर्णय लेने के लिए प्रेरित कर सकता है। राहु जब गुरु के साथ संरेखित होता है, तो गुरु चांडाल योग बनता है। राहु और मंगल की युति जातक को गलत निर्णय लेने के लिए प्रेरित करती है। वह धूम्रपान, शराब आदि जैसी बुरी आदतों को समाप्त कर सकता है।

वहीं दूसरी ओर यदि राहु शुभ बुध के साथ स्थित हो तो जातक के व्यवसाय में वृद्धि हो सकती है। हालांकि, यदि राहु बुध के साथ अशुभ स्थिति में आ जाए तो यह जातकों के लिए अशुभ हो सकता है।

राहु को छठे, आठवें या बारहवें भाव में या इन भावों के स्वामी की युति में होने पर भी अशुभ फल देने वाला कहा गया है। राहु ज्ञान का भी प्रतीक है। हालांकि, पाप ग्रहों की उपस्थिति में इस विशेषता का विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। और यह जातक को मानसिक रूप से कमजोर बना सकता है।

इसी तरह कुंडली में और भी कई योग हैं जिसके परिणामस्वरूप कुंडली में राहु दोष हो सकता है। अशुभ राहु कभी भी जातकों के लिए अच्छा नहीं होता है। क्योंकि यह करियर, प्रेम जीवन और बहुत कुछ में बाधा डालता है। हालाँकि, राहु मंत्रों का पाठ करके राहु के हानिकारक प्रभावों से निपटा जा सकता है।

कुंडली में महत्वपूर्ण राहु मंत्र

सभी नौ ग्रहों में से राहु को दुष्ट ग्रह कहा गया है। ग्रह झूठ बोलना, चोरी करना, जुआ खेलना आदि नैतिक रूप से गलत चीजों का प्रतीक है। लेकिन जब राहु शुभ स्थिति में होता है, तो जातक की विभिन्न भौतिक जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ उसे बहुत प्रसिद्धि और भाग्य भी देता है। तो क्या हम राहु के सकारात्मक पक्ष को सामने लाते हैं? इन राहु मंत्रों का जाप करें।

1. राहु बीज मंत्र

यदि जातक ने अपने अनमोल जीवन में कोई बड़ा पाप किया है जिसके कारण वह वर्तमान जन्म में राहु के प्रकोप से जूझ रहा है, तो ऐसे मामलों में राहु बीज मंत्र का पाठ जातक की समस्याओं को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही राहु मंत्र का सुझाव किसी ऐसे व्यक्ति को दिया जाता है जिसे विवाह करने में कठिनाई होती है, तो कई लोग उन पर काले जादू के प्रभाव से भी डरते हैं। अच्छे के लिए राहु बीज मंत्र व्यक्ति पर काले जादू के हानिकारक प्रभावों को दूर करने में मदद करता है। राहु बीज मंत्र का नियमित रूप से जाप करने से आपका मानसिक चक्र खुल सकता है और आपको मानसिक परेशानी से भी बचा सकता है।

राहु बीज मंत्र है:

|| ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः ||

राहु बीज मंत्र के जाप के लाभ
  • राहु मंत्र का सबसे प्रसिद्ध लाभ यह है कि यह जातक को किसी भी प्रकार की बुरी आत्मा या नकारात्मक ऊर्जा से लड़ने में मदद करता है
  • राहु आपके कर्म का प्रतीक है। इसलिए यदि आपको लगता है कि आपने अतीत में बुरे कर्म किए हैं, तो राहु बीज मंत्र का शुद्ध भक्ति के साथ जप करने से आप पिछले बुरे कर्मों को मिटा सकते हैं।
  • राहु जातक को भौतिक लाभ देता है। इसलिए यदि आप नियमित रूप से इस मंत्र का जाप करते हैं, तो आप में जीवन में कुछ भी हासिल करने की क्षमता होगी।
  • राहु बीज मंत्र का जाप आपकी आभा को मजबूत बनाता है, क्योंकि यह आपको ब्रह्मांड में ऊर्जा से जोड़ता है।
  • यदि आप अपने शत्रुओं से बुद्धि से लड़ना चाहते हैं तो राहु बीज मंत्र का जाप आपके लिए बहुत उपयोगी होगा।
राहु बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सूर्यास्त पश्चात
इस मंत्र को जाप करने की संख्या 108 बार
राहु बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस तरफ मुख करके इस मंत्र का जाप करें दक्षिण पश्चिम
2. राहु शांति मंत्र

कोई भी व्यक्ति अपने जीवन में तनाव या परेशानी नहीं चाहता है। लेकिन एक दुष्ट ग्रह के रूप में राहु जातक के जीवन में ज्यादातर समय परेशानियां लाता ही रहता है। ऐसी स्थिति में ग्रह को शांत करना आवश्यक है। और इसी उद्देश्य के लिए राहु शांति मंत्र है। ज्योतिषियों का दावा है कि जो कोई भी दिन में केवल दो बार राहु शांति मंत्र का जाप करता है, उसे शनि के हारने का प्रभाव मिल सकता है।

राहु शांति मंत्र है:

अर्थ - हे भगवान राहु, मैं आपको नमन करता हूं और प्रार्थना करता हूं कि आप मेरे पापों को क्षमा करें और मुझे अपने आशीर्वाद से सम्मानित करें

राहु शांति मंत्र के जाप के लाभ
  • राहु का अशुभ प्रभाव जातक के साथ अधिक समय तक रह सकता है। इससे जीवन में कई मुश्किलें आ सकती हैं। राहु शांति मंत्र राहु के दुष्ट या हानिकारक प्रभाव को शांत करने में मदद करता है।
  • हालाँकि, राहु शांति मंत्र का जाप करते समय, सुनिश्चित करें कि जब आप राहु से कुछ भी माँगते हैं, तो आप लालची नहीं होते हैं। हालांकि, राहु भौतिकवाद का प्रतीक है। लेकिन लालच से नफरत करता है।
  • राहु शांति मंत्र का जाप करने से आपके सफलता के मार्ग में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी और दुर्घटनाओं का डर खत्म हो जाएगा।
  • मंत्र का जाप करने से जातक सुरक्षित रहता है और आप सुखी जीवन का आनंद ले सकते हैं।
राहु शांति मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सूर्यास्त पश्चात
इस मंत्र को जाप करने की संख्या 2 बार
राहु शांति मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस तरफ मुख करके इस मंत्र का जाप करें दक्षिण पश्चिम
3. राहु गायत्री मंत्र

ज्योतिष शास्त्र में प्रत्येक ग्रह और भगवान के लिए एक गायत्री मंत्र है। ज्योतिष में गायत्री मंत्रों को ग्रहों के नकारात्मक प्रभावों को शांत करने वाला माना जाता है। राहु गायत्री मंत्र का जाप करने से जातक को सरकार से उपकार, शत्रुओं पर विजय और राहु के कारण होने वाले रोगों में कमी आती है। यदि जातक काल सर्प दोष से जूझ रहा है तो यह राहु गायत्री मंत्र भी उपचारात्मक मंत्रों में से एक है।

राहु गायत्री मंत्र है:

|| ॐ नागध्वजाय विद्महे पद्महस्ताय धीमहि तन्नो राहुः प्रचोदयात् ||

अर्थ - ओम, मैं उसका ध्यान करता हूँ जिसके झंडे में साँप है, ओह, जिसके हाथ में कमल है, मुझे उच्च बुद्धि दे और राहु मेरे मन को स्थिर करें।

राहु गायत्री मंत्र के जाप के लाभ
  • ज्योतिषियों के अनुसार राहु गायत्री मंत्र का जाप करने से कई लाभ मिलते हैं। पहला यह कि यह कुंडली में राहु ग्रह के सभी अशुभ प्रभावों को दूर करता है।
  • राहु गायत्री मंत्र जातक को प्यार, करियर और बहुत कुछ में अचानक अवसर लाने में मदद करता है।
  • यदि आप किसी प्रकार की बीमारी से जूझ रहे हैं, तो राहु गायत्री मंत्र का जाप करने से उसके हानिकारक प्रभावों को दूर करने में मदद मिलती है।
  • राहु गायत्री मंत्र का नियमित जप आपको अचानक धन और सफलता प्रदान कर सकता है।
  • राहु गायत्री मंत्र तत्काल सफलता के पीछे भाग्य कारक होता है।
राहु गायत्री मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सूर्यास्त पश्चात
इस मंत्र को जाप करने की संख्या 108 बार
राहु गायत्री मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस तरफ मुख करके इस मंत्र का जाप करें दक्षिण पश्चिम
4. पुराण राहु मंत्र

जब किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु ग्रह नकारात्मक रूप से स्थित होता है, तो यह जातक के जीवन में राहु दशा और अंतर्दशा ला सकता है। इन दोषों के कारण विकास की गति धीमी हो जाती है प्रेम जीवन में समस्याएं आती हैं, धन संचय में गिरावट आती है, आदि। यदि कुंडली में राहु की स्थिति नकारात्मक है, तो आप राहु को पुराणिक राहु मंत्र से शांत कर सकते हैं।

ये है पूर्ण राहु मंत्र:

|| ॐ अर्धकायं महावीर्य चन्द्रादित्यविमर्दनम, सिंहिकागर्भसंभूतं तं राहुं प्रणमाम्यहम ||

अर्थ - अर्थ - जातक का कहना है कि वह आधा शरीर और महान शक्तियों वाले राहु को अपना सम्मान दे रहा है। वह वह है जिसने सूर्य और चंद्रमा पर विजय प्राप्त की है और वह शेरनी से पैदा हुआ है।

पौराणिक राहु मंत्र के जाप के लाभ
  • यदि जातक की कुंडली में राहु की स्थिति नकारात्मक हो तो उसे राहु का नकारात्मक प्रभाव झेलना पड़ सकता है। राहु मंत्र का जाप करने से राहु के बुरे प्रभावों से लड़ने में मदद मिलती है।
  • पुराण मंत्र जातक के जीवन से किसी भी प्रकार की बुरी आत्माओं को दूर भगाता है।
  • पौराणिक राहु मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को शरीर के सामान्य दर्द से राहत मिलती है।
  • राहु मंत्र का जाप करने से जातक को अपने करियर में सफल होने की प्रबल संभावनाएं मिलती हैं।
राहु पुराण मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सूर्यास्त पश्चात
इस मंत्र को जाप करने की संख्या 18 बार
राहु पुराण मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस तरफ मुख करके इस मंत्र का जाप करें दक्षिण पश्चिम

राहु मंत्र का जाप कैसे करें

  • यदि राहु मंत्रों से शुरुआत करते हैं, तो रात में या सूर्यास्त के बाद राहु मंत्र का जाप करना याद रखें। सबसे अच्छी सलाह के लिए किसी ज्योतिषी से बात करें।
  • इसलिए शनिवार की रात को स्नान करके स्वच्छ हो जाएं और अपने सामने कोई काली या गायत्री यंत्र रख लें।
  • यदि आप राहु के लिए गायत्री मंत्र का जाप करने की योजना बना रहे हैं, तो आप दोपहर में भी शुरू कर सकते हैं।
  • राहु मंत्रों का आमतौर पर 108 बार पाठ किया जाता है, लेकिन दूसरी ओर, कुछ मंत्रों को 108 से कम बार जपने की आवश्यकता होती है।
  • सर्वोत्तम परिणामों के लिए, 40 दिनों की अवधि में राहु मंत्र का 18,000 बार जाप करें।
  • पूजा करते समय काली या गायत्री यंत्र पर नीले फूल और चंदन चढ़ाएं।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित