काल भैरव मंत्र

banner

काल भैरव मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

काल भैरव भगवान शिव के सबसे भयानक अवतारों में से एक है। भगवान ब्रह्मा एक बार अभिमानी और अहंकारी हो गए थे। उस समय उनके पांच सिर थे। भगवान शिव उन्हें सबक सिखाना चाहते थे और उन्हें अपने उद्देश्य के प्रति अधिक समर्पित तथा जवाबदेह बनाना चहते था। परिणामस्वरूप, उन्होंने अपने नाखूनों से काल भैरव का निर्माण किया। तब काल भैरव, भगवान शिव के अवतार के रूप में उभरे थे।

काल भैरव, भगवान ब्रह्मा के पास गए और उनके ऊपरी सिर को काटने के लिए अपने नाखूनों का इस्तेमाल किया। भगवान ब्रह्मा का सिर, उनके हाथ में उलझ गया, जैसा कि सभी मंदिरों में प्रचलित भगवान काल भैरव के प्रतिनिधित्वकारी चित्रण में दर्शाया गया है। काला कुत्ता काल भैरव के वाहन का काम करता है। भगवान शिव स्वयं को विभिन्न रूपों और अवतारों में प्रकट करते हैं। मृत्यु पर कालभैरव का शासन है। हिंदू धर्म में 'मृत्यु' और 'समय' शब्दों के प्रतीकात्मक अर्थ हैं। कालभैरव न तो अतीत है और न ही नियति। वह हर पल में लगातार मौजूद है।

भगवान कालभैरव काशी के स्वामी भी हैं। इसका प्रतीकात्मक महत्व भी है। यह दर्शाता है कि समय कैसे सब कुछ मिटा देता है। हमारी दुनिया में कुछ भी समय के साथ बिखर सकता या गायब हो सकता है। इस तथ्य के बावजूद कि काल भैरव भगवान शिव के सबसे डरावने अवतारों में से एक हैं, फिर भी वह काफी सहानुभूतिपूर्ण और आसानी से संतुष्ट हो जाते हैं। जब भगवान भैरव की वास्तव में पूजा की जाती है, तो वे सभी प्रकार के शत्रुओं को परास्त कर सकते हैं।

भगवान कालभैरव (Kaal Bhairav) को पंच भूतों के स्वामी के रूप में जाना जाता है, जिसमें पृथ्वी, अग्नि, जल, वायु और आकाश शामिल हैं। वह जीवन में सभी प्रकार की वांछित पूर्णता और जानकारी प्रदान करते हैं, जो हम चाहते हैं। सीखने और उत्कृष्टता के बीच एक अंतर है। भगवान भैरव वही उत्कृष्टता प्रदान करते हैं। कालभैरव का स्मरण करने से, व्यक्ति गहन ध्यान का आनंद प्राप्त करता है। उस क्षण आप सभी चिंताओं से मुक्त होते हैं और किसी चीज की परवाह नहीं करते हैं।

काल भैरव मंत्र

काल भैरव अहंकार को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। वह दयालु हैं और सहजता से अपने विश्वासियों को धन और भाग्य प्रदान करते हैं। भगवान काल भैरव प्रत्येक शक्ति की रक्षा करते हैं। भगवान काल भैरव की क्षमताओं को रहस्यवादी विज्ञानों में माना जाता है, जो उन्हें इसमें सबसे पसंदीदा देवता बनाता है। भगवान काल भैरव की पूजा करने से रोगों, विरोधियों और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है। साथ ही बेरोजगारी से मुक्ति भी मिलती है।

काल भैरव मंत्र: वे कैसे मदद करते हैं (Kaal Bhairav Mantra: How do they help in hindi)

यदि आप प्रतिदिन काल भैरव मंत्र (Kaal Bhairav mantra) का पाठ करते हैं, तो भगवान भैरव अपने भक्त पर अनंत कृपा कर सकते हैं।

जातक अपने कार्य में सफलता मिलने की संभावना भी बढ़ जाती है। जब श्रद्धापूर्वक और शुद्ध मन से भगवान भैरव की पूजा की जाती है, तो वह जातक के सभी प्रकार के विरोधियों को परास्त कर देते हैं।

यदि आप नियमित रूप से काल भैरव मंत्र का जाप करते हैं, तो इससे जातक को सफल होने का आशीर्वाद प्राप्त होता है। साथ ही इस मंत्र से धन और मोक्ष के लिए स्वर्गीय आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। यही वजह है कि ज्यादातर जातक उत्साह और समर्पण के साथ काल भैरव मंत्र का जाप करते हैं। भगवान भैरव से प्रार्थना करने और मंत्र का जाप करने से भगवान शिव का वास्तविक स्वरूप भी प्राप्त हो सकता है। यदि आप अपने जीवन से बाधाओं को दूर करना चाहते हैं, तो आप इस मंत्र का जाप कर सकते हैं।

काल भैरव मंत्र का जाप कैसे करें (how to chant Kaal Bhairav mantra in hindi)

भैरव की मूर्तियां पश्चिम की ओर मुख करके शिव मंदिरों के उत्तर में स्थित हैं। उनकी चार भुजाएं। उनका शारीरिक रूप भयभीत करने वाला है। सामान्यत: शिव मंदिरों में नियमित पूजा सूर्य से शुरू होती है और भगवान भैरव पर समाप्त होती है। रविवार को राहुकाल का समय काल भैरव की पूजा करने का सबसे उपयुक्त और शुभ समय होता है (शाम 4:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक)। काल भैरव को संतुष्ट करने के लिए, उपासक आमतौर पर नारियल, फूल, सिंदूर, सरसों का तेल आदि जैसे पवित्र वस्तुओं का उपयोग करते हैं। जिन पवित्र स्थलों में माता के रूप की दिव्य शक्ति होती है, उन्हें शक्तिपीठ कहा जाता है। इन स्थानों को काल भैरव द्वारा संरक्षित माना जाता है। भगवान काल भैरव को प्रसन्न करने के लिए, गली के कुत्तों को खिलाने और उनकी देखभाल करने की भी सलाह दी जाती है, क्योंकि उनका वाहन एक काला कुत्ता है।

महत्वपूर्ण काल ​​भैरव मंत्र

1. काल भैरव बीज मंत्र (Kaal Bhairav Beej mantra)

कालभैरव बीज मंत्र (Kaal Bhairav Beej mantra) का प्रतिदिन जाप करने और कालभैरव की अवस्था का स्मरण करने मात्र से हमें अस्तित्व का ज्ञान होता है और मुक्ति की प्राप्ति होती है। इससे कई अन्य लाभ भी होते हैं। इस मंत्र का जाप हमें दुःख, मोह और भ्रम से मुक्त करता है। मोह और भ्रम असल में दुख, अभाव, हानि की भावना, लालच, अधीरता, क्रोध और दर्द के स्रोत हैं।

भगवान कालभैरव को पंच भूतों के स्वामी के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें पृथ्वी, अग्नि, जल, वायु और आकाश शामिल हैं। वह जीवन में सभी प्रकार की वांछित पूर्णता और जो जानकारी हमें चाहिए, वह सब प्रदान करते हैं। सीखने और उत्कृष्टता के बीच एक अंतर है और आनंद की यह स्थिति भगवान भैरव हमें प्रदान करते हैं।

काल भैरव बीज मंत्र हैं:

“ॐ ह्रीं बटुकाय आपदुद्धारणाय कुरू कुरू बटुकाय ह्रीं” ||

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रों ह्रीं ह्रों क्षं क्षेत्रपालाय कालभैरवाय नमः ll

काल भैरव बीज मंत्र के जाप के लाभ (Benefits of chanting the Kaal Bhairav Beej mantra in hindi)

  • भक्त की ओर निर्देशित रहस्यमय या नकारात्मक गतिविधियों के बुरे परिणामों को कम करता है।
  • मंत्र भक्त की सिद्धि के रास्ते में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करता है।
  • यह व्यक्ति को सभी बीमारियों और विकारों से मुक्त करता है।
  • मंत्र आपको लंबे समय से चल रहे कानूनी विवाद को जीतने में मदद करता है।
  • मंत्र निर्धनता को दूर करता है और भक्त के जीवन में धन और सफलता को आकर्षित करता है।
काल भैरव बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह
इस मंत्र का जाप करने की संख्या माला का 11 बार जाप करें
काल भैरव बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर दिशा की ओर
2. काल भैरव गायत्री मंत्र (Kaal Bhairava Gayatri Mantra)

एक बार नियमित रूप से अभ्यास करने पर, काल भैरव गायत्री मंत्र (Kaal Bhairav Gayatri mantra) जप करने वाले को लाभ की प्राप्ति होती है। उसे भगवान की कृपादृष्टि प्राप्त होती है, जिससे उसे समृद्धि और अंतिम मोक्ष मिलता है। नतीजतन, लोग इस मंत्र को जबरदस्त समर्पण और उत्साह के साथ जप करते हैं। यह भी कहा जाता है कि इस मंत्र के नियमित जाप से आपको संतुष्टि मिल सकती है। काल भैरव गायत्री मंत्र का जाप करके मन को दृढ़ और स्थिर किया जा सकता है। यह मंत्र महादेव के सबसे भयानक अवतार भगवान काल भैरव का आभार व्यक्त करता है। भगवान भैरव की पूजा करने से विरोधियों पर विजय, सांसारिक सुख और सफलता मिलती है। भगवान भैरव की पूजा करने से कष्टों और पीड़ाओं को दूर करने में भी मदद मिलती है, विशेष रूप से असामान्य समस्याओं से जूझ रहे लोगों के लिए यह बहुत सहायक है।

काल भैरव गायत्री मंत्र है:

ॐ कालाकालाय विद्महे,

कालातीताय धीमहि,

तन्नो काल भैरव प्रचोदयात् ||

काल भैरव गायत्री मंत्र के जाप के लाभ (Benefits of chanting the Kaal Bhairav Gayatri mantra in hindi)

  • यह मंत्र जातक के दोषों के कारण होने वाले बुरे परिणामों से बचाता है।
  • मंत्र व्यक्ति के मानस से किसी भी बुरे विचार और ऊर्जा को दूर करने में सहायता करता है।
  • यह मुद्दों, विरोधियों, दु:ख, पीड़ा और विषाक्त संबंधों को बेहतर करने में मदद करता है।
  • इस मंत्र के माध्यम से जातक को भगवान शिव और काल भैरव का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • यह मंत्र व्यक्ति की आयु बढ़ाने और स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है।
काल भैरव गायत्री मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह या शाम
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 108 बार
काल भैरव गायत्री मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर दिशा
3. काल भैरव अष्टकमी (Kaal Bhairav Ashtakam)

कालभैरव अष्टकम का जप रोजाना करने से जीवन का ज्ञान प्राप्त होता है। यह दर्द, भूख, निराशा, क्रोध, दुःख को दूर करता है। साथ ही मोह और भ्रम के कारण होने वाले दर्द से भी राहत प्रदान करता है। कालभैरव की पूजा करके, हम उस आनंद को प्राप्त कर सकते हैं जो शांति के उस स्तर के साथ आता है, जब सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। जब देवता की पूजा करने की बात आती है, तो काल भैरव अष्टकम मंत्रों के समान ही महत्वपूर्ण है। इसमें आठ छंद हैं जिनमें भगवान काल भैरव की प्रार्थना की जाती है। ये पंक्तियां देवता के भौतिक गुणों की प्रत्येक विशेषता का विवरण देती हैं। यह परमेश्वर और हमारे मरने के बाद हमारी आत्माओं को बचाने की उनकी क्षमता को बढ़ाता है। भगवान इंद्र उन्हें सर्वोच्च अधिकारी के रूप में पूजते हैं। यदि हम काल भैरव अष्टकम का जप करते हैं तो हमारी आत्मा भगवान काल भैरव के चरणों तक पहुंच जाएगी। यह निर्धनता को दूर करता है, दु:ख, पीड़ा, घृणा और जैसी बुरी भावनाओं को कम करता है। आदि शंकराचार्य ने प्रत्येक श्लोक संस्कृत में लिखा है। यह एक प्यारा अष्टकम है, जो काल भैरव के शरीर की विभिन्न विशेषताओं से घिरा हुआ है, जैसे कि उनकी गर्दन के चारों ओर सांप और उनकी कमर के चारों ओर सोने की करधनी है। काल भैरव को प्रसन्न करने के लिए नियमित रूप से इस अष्टकम का जप करना आवश्यक है।

काल भैरव अष्टकम है:

देवराजसेव्यमानपावनाङ्घ्रिपङ्कजं

व्यालयज्ञसूत्रमिन्दुशेखरं कृपाकरम्

नारदादियोगिवृन्दवन्दितं दिगंबरं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे॥ १॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव को नमन करता हूं, जिनके पास एक लाखों लाख सूर्य हैं, जो उपासकों को पुनर्जन्म के पाश से बचाते हैं, और जो विजयी हैं; जिनके पास नीली गर्दन है, जो हमारी जरूरतों और इच्छाओं को पूरा करते हैं और जिनके पास तीन नेत्र हैं; जो स्वयं मृत्युपर्यंत हैं और जिनकी आंखें कमल के समान सुंदर हैं; जिन्होंने त्रिशूल और रुद्राक्ष धारण किया हुआ है और जो अमर हैं। उस देव की मैं आराधना करता हूं।

भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं परं

नीलकण्ठमीप्सितार्थदायकं त्रिलोचनम् ।

कालकालमंबुजाक्षमक्षशूलमक्षरं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥२॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव को नमन करता हूं, जिनके पास एक लाखों लाख सूर्य हैं, जो उपासकों को पुनर्जन्म के पाश से बचाते हैं, और जो विजयी हैं; जिनके पास नीली गर्दन है, जो हमारी जरूरतों और इच्छाओं को पूरा करते हैं और जिनके पास तीन नेत्र हैं; जो स्वयं मृत्युपर्यंत हैं और जिनकी आंखें कमल के समान सुंदर हैं; जिन्होंने त्रिशूल और रुद्राक्ष धारण किया हुआ है और जो अमर हैं। उस देव की मैं आराधना करता हूं।

शूलटङ्कपाशदण्डपाणिमादिकारणं

श्यामकायमादिदेवमक्षरं निरामयम् ।

भीमविक्रमं प्रभुं विचित्रताण्डवप्रियं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥३॥

अर्थ - काशी के परम स्वामी भगवान कालभैरव को नमन, जिन्हाेंने अपने हाथ में शूल, टंक, पाश और दंड धारण किया हुआ है; जिसका शरीर श्यामवर्ण है, जो आदिम भगवान हैं, जो अजेय हैं, और दुनिया के रोगों से मुक्त हैं; जो बहुत शक्तिशाली हैं और जो सुंदर तांडव नृत्य का आनंद लेते हैं।

भुक्तिमुक्तिदायकं प्रशस्तचारुविग्रहं

भक्तवत्सलं स्थिरं समस्तलोकविग्रहम् ।

विनिक्वणन्मनोज्ञहेमकिङ्किणीलसत्कटिं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥४॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव को नमन, जो आकांक्षाओं और आध्यात्मिकता दोनों को प्रदान करते हैं, जिनका शानदार रूप है; जो अपने भक्तों की देखभाल करते हैं; जितनी कमर में सुंदर करधनी रुनझुन करती हुई सुशोभित है, जिसमें घंटियाँ होती हैं और जो चलने पर एक सुरीली आवाज करती है।

धर्मसेतुपालकं त्वधर्ममार्गनाशकं

कर्मपाशमोचकं सुशर्मदायकं विभुम् ।

स्वर्णवर्णशेषपाशशोभिताङ्गमण्डलं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥५॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव, जो धर्म की जीत का आश्वासन देते हैं, जो अधर्म के मार्ग को नष्ट करते हैं, जो हमें कर्म की जंजीरों से मुक्त करते हैं और जो सुनहरे रंग के सर्पों से घिरे हैं। मैं उन्हें नमन करता हूं।

रत्नपादुकाप्रभाभिरामपादयुग्मकं

नित्यमद्वितीयमिष्टदैवतं निरंजनम् ।

मृत्युदर्पनाशनं करालदंष्ट्रमोक्षणं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥६॥

अर्थ - काशी के सबसे महान शासक भगवान कालभैरव की मैं आराधना करता हूं, जिनके पैर हीरे से सजाए गए दो सुनहरे पादुका से अलंकृत हैं; जो कालातीत हैं, ईश्वर जो हमारी इच्छाओं को पूरा करते हैं; जो यम के अभिमान को दूर करते हैं; जिनके भयानक नुकीले दांत हमें मुक्ति प्रदान करते हैं।

अट्टहासभिन्नपद्मजाण्डकोशसंततिं

दृष्टिपातनष्टपापजालमुग्रशासनम् ।

अष्टसिद्धिदायकं कपालमालिकाधरं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥७॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव को नमस्कार, जिनकी शक्तिशाली दहाड़ कमल में जन्मे ब्रह्मा के आविष्कारों के आवरण (यानी हमारे मानसिक भ्रम) को समाप्त कर देती है; जिनकी एक दृष्टि हमारे सारे पापों को दूर कर देती है; जो आठ सिद्धियों (उपलब्धियों) को प्रदान करते हैं और जो कपालमाला (खोपड़ी की माला) पहनते हैं।

भूतसंघनायकं विशालकीर्तिदायकं

काशिवासलोकपुण्यपापशोधकं विभुम् ।

नीतिमार्गकोविदं पुरातनं जगत्पतिं

काशिकापुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥८॥

अर्थ - काशी के श्रेष्ठ शासक भगवान कालभैरव को नमस्कार, जो आत्माओं और भूतों के नायक हैं, जो सम्मान प्रदान करते हैं; जो काशीवासियों को उनके अनैतिक और अधर्म के कामों से मुक्त करते हैं; जो हमें सदाचार के मार्ग पर ले जाते हैं, जो ब्रह्मांड के सबसे शाश्वत स्वामी हैं।

कालभैरवाष्टकं पठंति ये मनोहरं

ज्ञानमुक्तिसाधकं विचित्रपुण्यवर्धनम् ।

शोकमोहदैन्यलोभकोपतापनाशनं

ते प्रयान्ति कालभैरवांघ्रिसन्निधिं नरा ध्रुवम् ॥९॥

अर्थ - जो लोग ज्ञान, और स्वतंत्रता प्राप्त करने हेतु, कई प्रकार की धार्मिकता को बढ़ाते हैं और दुख, मोह, अभाव, स्वार्थ, घृणा आदि को नाश करने हेतु हैं कालभैरव अष्टकम के इन आठ श्लोकों को पढ़ते हैं, वे निश्चित रूप से मृत्यु के बाद कालभैरव के चरण यानी भगवान तक पहुंचेंगे। मैं काशी के महानतम स्वामी भगवान कालभैरव को नमन करता हूं।

काल भैरव अष्टकमी के जाप के लाभ (Benefits of chanting the Kaal Bhairav Ashtakam in hindi)

  • काल भैरव अष्टकम लोगों को धार्मिकता के मार्ग पर चलने का निर्देश देता है।
  • यह हमें हमारे पापों और बुरे कर्मों के परिणामों से मुक्त करता है।
  • यह राहु, केतु और शनि दोषों के नकारात्मक प्रभावों को कम करने में सहायता करता है।
  • यह हमें काले जादू के प्रभाव पर काबू पाने में मदद करता है।
  • यह हमारे जीवन में दीर्घकालिक समस्याओं और दुखों से राहत प्रदान करता है।
काल भैरव अष्टकम का पाठ करने का सर्वोत्तम समय सुबह या शाम
इस मंत्र का जाप करने की संख्या रोजाना कम से कम 1 बार
काल भैरव अष्टकम का पाठ कौन कर सकता हैं? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर दिशा की ओर

काल भैरव मंत्रों के जाप के समग्र लाभ (Overall benefits of chanting the Kaal Bhairav mantras in hindi)

  • काल भैरव मंत्रों (Kaal Bhairav mantra) के नियमित जाप से आपको मानसिक शांति की अनुभूति होती है। साथ ही इस मंत्र से नकारात्मकता दूर होती है और आप स्वास्थ्य, संपन्न और खुश रहते हैं।
  • यह शांति, सुख, धन और धार्मिकता की प्राप्ति की सुविधा प्रदान करता है।
  • ये मंत्र शत्रुओं और संकटों से रक्षा प्रदान करते हैं।
  • ये मंत्र रोगों के उपचार और अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति में सहायता करते हैं।
  • यह घृणा, लोभ, स्वार्थ और अहंकार को दूर करने में सहायता करता है।
  • काल भैरव मंत्रों का जाप यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि समय या जीवन के माध्यम से आपकी यात्रा कठिनाइयों और खतरों से दूर हो जाते हैं।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित