बृहस्पति मंत्र

banner

बृहस्पति मंत्र: अर्थ, महत्व और लाभ

बृहस्पति को सभी देवताओं के गुरु या शिक्षक के रूप में जाना जाता है। इसलिए उन्हें देव-गुरु भी कहा जाता है। वह सभी ग्रहों का नेतृत्व करते हैं और सब ग्रहों में सर्वेश्रेष्ठ हैं। सदियों से बृहस्पति को सौभाग्य, भाग्य, धन, समृद्धि, आध्यात्मिकता और धार्मिक मूल्यों का प्रतीक माना जाता है। बृहस्पति पवित्र प्रार्थनाओं, मंत्रों और भक्ति के स्वामी हैं और सौरमंडल के सबसे बड़े ग्रह हैं। बृहस्पति, ज्ञान, कर्मकांड, युक्ति मंत्रों के स्वामी हैं। कई हिंदू शास्त्रों में ऋषि बृहस्पति के व्यक्तित्व को शांत और संयमित बताया गया है। साथ ही वह कर्तव्यपरायण होने के लिए जाने जाते हैं और उनके पास हमेशा हर समस्या का समाधान होता है। उनके दयालु स्वभाव की सभी ने प्रशंसा की है और उनके हंसमुख व्यक्तित्व के कारण उन्हें हर मनोकामना पूरी करने वाला माना जाता है।

अन्य सभी ग्रहों की तुलना में बृहस्पति को सबसे दयालु और कृपालु ग्रह माना जाता है। इस ग्रह की पूजा करने से जातक को सभी प्रकार की समृद्धि और खुशी मिलती है। बृहस्पति स्वभाव से बेहद नम्र हैं, जिसकी सराहना की जाती है। असल में वह परिवार में खुशियां लाते हैं। गुरु बृहस्पति की बहुत ही रोचक जन्म कहानी है। वह ऋषि अनिग्रास के तीन पुत्रों में से एक थे, जो भगवान ब्रह्मा के मानसपुत्र थे। यह माना जाता है कि उनके जन्म के दौरान उनकी मां अपने पति ऋषि अनिग्रास के प्रति निष्ठावान नहीं थीं। इस वजह से प्रसव पूर्व एक मृत शिशु का जन्म हुआ। पूरी तरह से टूटने और बिखरने के बाद उन्होंने अपने पति ऋषि अनिग्रास से समक्ष क्षमा मांगी और अपने शिशु के जान की भीख मांगी। ऋषि अनिग्रास ने उन्हें क्षमा दान दिया और साथ ही अपने जीवन को शिशु के शरीर में डाल दिया।

आगे चलकर यह बालक सभी देवताओं का गुरू बना, जिसका नाम ऋषि बृहस्पति रखा गया। हालांकि उनसे संबंधित कई अन्य कहानियां भी प्रचलित हैं। वैदिक शास्त्रों के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि भगवान बृहस्पति का जन्म ब्रह्मांड के पहले प्रकाश से हुआ था। ऋषि बृहस्पति की दो पत्नियां हैं, शुभ और तारा। उनकी सात बेटियां हैं देवी शुभ, भानुमती, हविष्मती, माहिष्मती, महामती, अर्चिष्मती, सिनीवाली और राका। देवी तारा से, ऋषि बृहस्पति के सात पुत्र और एक पुत्री है। उनके भाई की पत्नी, ममता से उनके दो बेटे भी थे। वे कच्छ और भारद्वाज थे। दोनों में से भारद्वाज को बाद में राजा दुष्यंत ने गोद लिया था।

बृहस्पति मंत्र

बृहस्पति मंत्र: वे कैसे मदद करते हैं

गुरु बृहस्पति सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है और सबसे दयालु है। पूर्ण भक्ति के साथ इनकी पूजा करने से सौभाग्य की प्राप्ति अवश्य होती है। व्यवसाय या व्यक्तिगत समस्याओं से जूझ रहे लोग बृहस्पति मंत्रों का जाप करना शुरू कर सकते हैं, क्योंकि यह उनके मन को शांत कर सकता है और उन्हें कठिन परिस्थितियों के प्रति अधिक धैर्यवान बना सकता है।

बृहस्पति मंत्र (Brihaspati mantra) का नियमित जप करने से स्वयं भगवान की सीधी कृपा सुनिश्चित होगी। मंत्रों के उच्चारण के दौरान, उच्चारण किया गया प्रत्येक शब्द उपासक के जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव डालता है। साथ ही उन्हें ज्ञान और बुद्धि से भर देता है। अक्सर ज्ञान, समृद्धि, अच्छे स्वास्थ्य, भाग्य, सकारात्मकता, धर्म, लोकप्रियता, शांति और खुशी से जुड़े गुरु बृहस्पति का दिल बहुत उदार है और बाकी ग्रहों की तुलना में वह अधिक दयालु हैं।

बृहस्पति मंत्र का जाप कैसे करें

  • ऋषि बृहस्पति, भगवान ब्रह्मा का एक हिस्सा हैं इसलिए ब्रह्म मुहूर्त जो सुबह 4 से 5 बजे के आसपास होता है, वही बृहस्पति मंत्रों का जाप करने का सबसे अच्छा समय है।
  • ऋषि को प्रसन्न करने के लिए कोई भी अनुष्ठान या पूजा करने के लिए भी यह समय बहुत उपयुक्त है। तुलसी की माला का उपयोग करके मंत्रों का उच्चारण करने का प्रयास करना चाहिए। मंत्रों का 19,000 बार जाप करने की सलाह दी जाती है।
  • मंतों के उच्चरण के दौरान तुलसी, चंदन या रुद्राक्ष की माला का उपयोग करें।
  • गुरु बृहस्पति को समर्पित कोई भी पूजा या अनुष्ठान करते समय पीला रंग सबसे उपयुक्त होता है, क्योंकि यह रंग भगवान का प्रतिनिधित्व करता है।
  • सप्ताह के सात दिनों में गुरुवार को बृहस्पति के लिए समर्पित किया गया है। इसलिए इस दिन जरूरतमंदों को गुड़, लड्डू, चना, नमक, हल्दी या अन्य चीजें जैसे पीले कपड़े, किताबें आदि दान करना बहुत फायदेमंद होता है। इससे आपका भाग्य भी खुलता है।

महत्वपूर्ण बृहस्पति मंत्र (Important Brihaspati Mantras in hindi)

1. देव-गुरु बृहस्पति मंत्र (Dev-Guru Brihaspati Mantra)

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, बृहस्पति सौरमंडल (नवग्रह) के नौ ग्रहों में से एक है। वह सब ग्रहाें में सबसे दयालु माने जाते हैं। ज्योतिष विद्या के अनुसार, गुरु आकाश या आकाश तत्त्व, तात्विक स्थान को संदर्भित करता है। बृहस्पति धनु और मीन राशि के स्वामी हैं। उनका मंगल, सूर्य और चंद्रमा से भी संबंध है। क्योंकि वह सभी ग्रहों और देवताओं के गुरु हैं। पदानुक्रम में उनका स्थान बहुत ऊंचा है, इसलिए वह ज्ञान, धैर्य, शांति और सुख के अग्रदूत हैं। ऐसा माना जाता है कि यदि गुरु ग्रह किसी व्यक्ति विशेष के प्रति दयालु हैं, तो वह व्यक्ति अपने जीवन में बहुत प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल करता है।

देव-गुरु बृहस्पति मंत्र है:

देवानां च ऋषीणां च गुरुं का चनसन्निभम । बुद्धि भूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पितम ।।

अर्थ- मैं बृहस्पति के स्वामी, जो सभी देवताओं और ऋषियों के गुरु हैं, को प्रणाम करता हूं। वह बुद्धि के स्वामी हैं, जो तीनों लोकों को नियंत्रित करते हैं।

देव-गुरु बृहस्पति मंत्र के जाप के लाभ (Benefits of chanting Dev-Guru Brihaspati mantra in hindi)
  • जो लोग नया व्यापार उद्यम शुरू करने की सोच रहे हैं, उनके लिए देव-गुरु बृहस्पति मंत्र का जाप बहुत फायदेमंद है।
  • बृहस्पति, भाग्य और समृद्धि के लिए जिम्मेदार हैं। जो लोग इस मंत्र का जाप करते हैं, उनके ज्ञान में वृद्धि होती है।
  • गुरु बृहस्पति सभी देवताओं के शिक्षक हैं। उन्हें ब्रह्मांड का सारा ज्ञान है। अगर आप इस मंत्र के साथ, नई परियोजना शुरू करते हैं, तो सौभाग्य सुनिश्चित होगा।
  • बृहस्पति मंत्र का जाप स्वयं भगवान से आशीर्वाद सुनिश्चित कर सकता है।
बृहस्पति मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह-सुबह, सुबह 4-6 बजे, गुरुवार
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 19,000 बार
बृहस्पति मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें उत्तर या पूर्व, बृहस्पति यंत्र के साथ
2. बृहस्पति बीज मंत्र (Brihaspati Beej mantra)

बृहस्पति 'बृह' की 'स्पति' है, जिसका अर्थ है विशाल आत्मा। अपने नाम के अनुसार ही उनका व्यक्तित्व विस्तृत प्रकृति का है। सभी भगवानों के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति, सभी कानूनों के लिए जिम्मेदार हैं, फिर चाहे वह मानव निर्मित कानून हों या भगवान द्वारा बनाए गए कानून। सभी न्यायिक स्थितियों को उनके पास लाया जाता है। जब कभी भी देवताओं के बीच कोई गलत निर्णय और विवाद होता है। ऋषि बृहस्पति को एक पारिवारिक व्यक्ति के रूप में भी जाना जाता है। साथ ही उनके जो भक्त पारिवारिक सुख चाहते हैं, वे उनकी पूजा कर सकते हैं, जिससे उन्हें बहुत अच्छा भाग्य प्राप्त होता है। अपने परिवार की समृद्धि की चाह रखने वाले लोग भगवान बृहस्पति की पूजा कर सकते हैं। सबसे परोपकारी ग्रह होने के नाते, वह निश्चित रूप से भक्तों और उनके परिवारों के लिए सभी खुशियां प्रदान करते हैं।

बृहस्पति बीज मंत्र है:

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः ||

ॐ बृं बृहस्पतये नम:।

अर्थ- बृहस्पति बीज मंत्र बीज ध्वनियों से बना है, जो बृहस्पति ग्रह की शक्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इन बीज ध्वनियों का नियमित तौर पर निर्धारित तरीके से जप करने से बृहस्पति ग्रह प्रसन्न होते हैं। इससे जातक को मनोवांछित लाभ प्राप्त होते हैं।

बृहस्पति बीज मंत्र के लाभ (Benefits of Brihaspati Beej mantra in hindi)
  • गुरु ग्रह के बीज मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति होती है और व्यक्ति संसार में एक अलग पहचान बनाने में सक्षम होता है।
  • यदि किसी की कुंडली में बृहस्पति ग्रह मौजूद है, तो यह माना जाता है कि बिना किसी परेशानी के उसकी सभी समस्याएं बहुत जल्द ही समाप्त होने वाली हैं।
  • बृहस्पति मंत्र का जाप करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है, विवाह में आ रही रुकावटें कम होती हैं और कार्यक्षेत्र में सफलता मिलती है।
बृहस्पति बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह 4-6 बजे, गुरुवार
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 19000 बार
बृहस्पति बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप किसी भी दिशा की ओर
3. बृहस्पति गायत्री मंत्र (Brihaspati gayatri mantra)

सिद्धि धर्म के अनुसार, देव-गुरु बृहस्पति बुद्धि और ज्ञान के स्वामी हैं। इस वजह से, वह हिंदू धर्मग्रंथों जैसे कि नितीशस्त्र, धर्मशास्त्र, वास्तुशास्त्र और बृहस्पति स्मृति के लेखक हैं। सिद्धि धर्म के अनुसार, गुरु बृहस्पति दो ज्ञान प्रणालियों के निर्माण के लिए जिम्मेदार हैं, नास्तिक विचारधारा और अस्तिका विचारधारा। आधुनिक विज्ञान में नास्तिक विचारधारा यह विश्वास करती है कि केवल एक ही चीज सर्वस्व है। इससे परे कुछ भी नहीं, क्योंकि ये आत्मा पर विश्वास नहीं करते हैं। नास्तिक विचारधारा के प्रसार के लिए उसने स्वयं के बारह रूप बनाए हैं - लोक्य बृहस्पति, अंगिरस बृहस्पति, देव गुरु बृहस्पति, अर्थज्ञ बृहस्पति, कामग्य बृहस्पति, अवैदिक बृहस्पति, सातर्क बृहस्पति, प्रपंचशिल बृहस्पति, दुरुह बृहस्पति, राजद्रोही बृहस्पति, अद्रिस्ता बृहस्पति, और अमोक्षी बृहस्पति।

दूसरी ओर अस्तिका विचारधारा का संबंध आज के समय की अनिवार्यता से अधिक है। यह वर्णन करता है कि जो कुछ भी विचार में नहीं देखा जा सकता है, वह असत्य नहीं है और जो कुछ परलोक में मौजूद है उसे मनुष्य द्वारा महसूस किया जा सकता है। लेकिन ज्ञान के उस स्तर को प्राप्त करने के लिए उच्च स्तर की तपस्या की आवश्यकता होती है।

बृहस्पति गायत्री मंत्र है:

ॐ वृषभध्वजाय विद्महे करुनीहस्ताय धीमहि तन्नो गुरु: प्रचोदयात् ||

ॐ अंगि-रसाय विद्महे दिव्यदेहाय धीमहि तन्नो जीव: प्रचोदयात् ||

ॐ गुरुदेवाय विद्महे परब्रह्माय धीमहि तन्नो गुरु: प्रचोदयात ॥

अर्थ- मैं सभी देवताओं के गुरू का ध्यान करता हूं, शिक्षक मेरी बुद्धि को प्रबुद्ध करें और मुझे आत्म-पूर्ति की ओर ले जाएं।

बृहस्पति गायत्री मंत्र के जाप के लाभ (Benefits of chanting Brihaspati Gayatri mantra in hindi)
  • किसी भी देवी या देवता का गायत्री मंत्र सभी के लिए लाभकारी होता है। बृहस्पति गायत्री मंत्र का जाप करने से भगवान की कृपा हमेशा भक्त पर बनी रहती है।
  • बृहस्पति गायत्री मंत्र (brihaspati gayatri mantra) के नियमित जप से जातक का मन शांत रहता है। साथ ही जातक का व्यवहार संयमित रहता है, जो जो हमेशा अपने परिवेश से अवगत रहता है और आगे बढ़ने से पहले हर चीज पर अच्छी तरह विचार करता है।
  • इस मंत्र का नियमित रूप से शुद्ध मन से जाप करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह किसी की कुंडली पर अन्य ग्रहों के दुष्प्रभाव को कम कर सकता है।
  • इस मंत्र के नियमित जाप के बाद सफलता और खुशी सुनिश्चित होती है और व्यक्ति बिना किसी डर और तनाव के जीवन जी सकता है।
बृहस्पति गायत्री मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय सुबह और शाम, गुरुवार
इस मंत्र का जाप करने की संख्या 108 बार
बृहस्पति गायत्री मंत्र का जाप कौन कर सकता है कोई भी
किस ओर मुख करके इस मंत्र का जाप करें किसी भी दिशा की ओर

बृहस्पति मंत्र जाप के समग्र लाभ (Overall benefits of chanting brihaspati mantra in hindi)

  • बृहस्पति मंत्रों (brihaspati mantra) के नियमित जप से हर समय देव-गुरु बृहस्पति का आशीर्वाद प्राप्त करने और समृद्ध जीवन की उम्मीद की जा सकती है।
  • चूंकि ऋषि बृहस्पति स्वयं परिवार उन्मुख हैं इसलिए जातकों इनकी पूजा करनी चाहिए। इससे उनके परिवार को भगवान बाृहस्पति का आशीर्वाद प्राप्त होता है। भगवान बृहस्पति को आकर्षित करने के लिए अनुष्ठान कर सकते हैं। इससे जिंदगी में विवाद खत्म होते हैं और आप सुखी एवं संतुष्ट परिवार पा सकते हैं।
  • गुरु बृहस्पति को सबसे दयालु माना जाता है। उनके मंत्रों की पूजा और जप करने से बहुत अच्छा भाग्य प्राप्त होता है। ऐसा माना जाता है कि इन मंत्रों का जाप करने से सभी दुर्भाग्य समाप्त होते हैं।
  • यदि कोई अपने जीवन में किसी भी समस्या और कठिनाइयों का सामना कर रहा है और यह पता चलता है कि यह सब कुछ अन्य ग्रहों के प्रभाव के कारण है, तो उन्हें सलाह दी जाती है कि वे बृहस्पति मंत्रों का जाप करें क्योंकि यह प्रतिकूल प्रभावों को कम करने में मदद करता है।
  • बृहस्पति मंत्र के नियमित जाप करने पर कोई भी व्यक्ति भय या संदेह से मुक्त जीवन जी सकता है।
  • ऋषि बृहस्पति सभी देवताओं के गुरु हैं और उन्हें ब्रह्मांड का व्यापक ज्ञान है। बृहस्पति मंत्रों का जाप करने वाले भक्त भी प्रसन्न रहते हैं।

अधिक व्यक्तिगत विस्तृत भविष्यवाणियों के लिए कॉल या चैट पर ज्योतिषी से जुड़ें।

कॉपीराइट 2022 कोडयति सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट. लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित